मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

नहीं रहे वीरेन दा

September 28, 2015

आज भोर बरेली में निधन

बरेली । हिन्दी कविता की नई पीढ़ी के सबसे चहेते और आदर्श कवि वीरेन डंगवाल का आज भोर यहां निधन हो गया। साहित्य अकादमी द्वारा पुरस्कृत वीरेन दा पेशे से हिन्दी के प्रोफ़ेसर और शौक से बेइंतहा कामयाब पत्रकार थे।

वह 68 वर्ष के थे, वीरेन दा के नाम से लोकप्रिय डा डंगवाल काफी समय से बीमार चल रहे थे। करीब तीन साल तक उपचार के सिलसिले में दिल्ली प्रवास के बाद वह पिछले रविवार को ही अपने शहर  बरेली वापस लौटे थे। बरेली आने पर अगले दिन ही अचानक ज्यादा तबियत बिगडने पर 21 सितंबर को उनको यहां एसआरएमएस मेडिकल कालेज में भर्ती कराया गया था, जहां आज तडके करीब चार बजे उन्होंने अंतिम सांस ली। उनके परिवार में पत्नी श्रीमती रीता डंगवाल के अलावा दो पुत्र प्रशांत और प्रफुल्ल का भरा पूरा परिवार है।

Go Back

Comment