मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

पत्रकारों की आवाज दबाने का मतलब, लोकतंत्र का गला घोटना है

February 23, 2016

श्रमजीवी पत्रकार यूनियन, खगड़िया की अगली बैठक जिला के परबत्ता प्रखंड में आज 

कुमोद कुमार/ खगड़िया। दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट में गत दिनों पत्रकारों पर हुए हमले के खिलाफ जिले के पत्रकारों ने घटना की तीव्र निंदा की हैं। उन्होंने एक निंदा प्रस्ताव पास किया। सोमवार को मानसी स्थित बापू मध्य विद्यालय के सभागार में श्रमजीवी पत्रकार यूनियन की बैठक में पत्रकारों पर बढ़ रहे हमलों पर चिंता जाहिर की गई। बैठक की अध्यक्षता यूनियन के अध्यक्ष डॉ. प्रभाकर सिन्हा ने की। अपने सम्बोधन में डॉ. सिन्हा ने कहा कि पत्रकार का गला दबाना मतलब लोकतंत्र का गला घोटना है।

यूनियन के जिला महासचिव मो. एजाज अहमद ने कई नये सदस्यों को सदस्यता दिलवाते हुए भावी योजनाओं पर प्रकाश डाला। मो. एजाज ने कहा कि संघ का उद्देश्य पत्रकारों का उनका वाजिब हक दिलवाना है। बैठक में संघ को और सक्रिय करने पर विचार हुआ। पत्रकार शशि भूषण ने जिला कार्यालय खोलने, राजकिशोर सिंह ने बैंक में पासबुक संचालित करने, राजेश वर्मा ने सदस्यता राशि संग्रह करने का सुझाव दिया। वही बेगुसराय के  सहारा के वरीय पत्रकार बिपिन सिंह के असमायिक निधन पर दो मिनट का मौन भी रखा गया। बैठक का संचालन वरीय पत्रकार जितेंद्र कुमार बबलू ने किया। बैठक में दीपक कुमार, डॉ. एन. पी. ठाकुर, दिग्विजय वशुदेव प्रसाद, विधाता सतीश आनंद, मनिचंद परवाना, रणवीर सिंह, रवि कुमार, रमेश कुमार, सदय कुमार, राजकमल, मोहनीश, अजय कुमार सिंह, गौतम कुमार, मो. सरफराज आलम, राजीव कुमार, आदि सहित दर्जनों इलेक्ट्रॉनिक मीडिया एवं प्रिंट मीडिया के पत्रकार उपस्थित थे।

बैठक के अंत में पत्रकार सदय कुमार द्वारा यह घोषणा की गई कि यूनियन की अगली बैठक खगड़िया जिला के परबत्ता प्रखंड में अगली 23 फरवरी को आयोजित की जायेगी।

Go Back

Comment