Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

फेक न्यूज के दौर में डिजिटल सत्याग्रह की जरूरत : प्रो. संजय द्विवेदी

'सच्ची खबरें बनाम झूठी खबरें' विषय पर संगोष्ठी और भारत गौरव पत्रकार सम्मान समारोह का आयोजन

दौसा। इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्यूनिकेशन के महानिदेशक प्रो. संजय द्विवेदी ने फेक न्यूज पर चिंता जाहिर की। उन्होंने कहा कि फेक न्यूज के इस दौर में डिजिटल सत्याग्रह की आवश्यकता है।

जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन ऑफ भारत (जाब) व राष्ट्र सम्मत प्रकाशन समूह की ओर से रविवार को 'सच्ची खबरें बनाम झूठी खबरें' विषय पर संगोष्ठी और  भारत गौरव पत्रकार सम्मान समारोह में बतौर मुख्य वक्ता प्रो. द्विवेदी ने कहा कि जिस तरह राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने तीन बंदरों का उदाहरण देते हुए बुरा ना देखने, बुरा ना बोलने तथा बुरा ना सुनने की शिक्षा दी थी, उसी तरह आज सोशल मीडिया के दौर में 'बुरा मत टाइप करो, बुरा मत लाइक करो और बुरा मत शेयर करो' की सीख जरूरी है। उन्होंने कहा कि हमें झूठी खबरें फैलाने वालों के समक्ष असहयोग आंदोलन की शुरुआत करनी चाहिए। सच में झूठ की मिलावट अगर नमक के बराबर भी होती है तो वह सच नहीं रहता, उसका स्वाद किरकिरा हो जाता है। इसलिए अब वक्त आ गया है कि असली खबरों पर झूठ का नमक छिड़कने वालों के खिलाफ खड़ा हुआ जाए।

मुख्य अतिथि और दौसा सांसद जसकोर मीना ने कहा कि यदि झूठ हजार बार बोला जाए तो वह सच जैसा दिखने लगता है, लेकिन हमें झूठ और सच के बीच का अंतर समझने की जरूरत है। झूठी खबरों से देश का भविष्य कमजोर होता है। हमें झूठी खबरों के खिलाफ उठ खड़ा होना है। असत्य तब विजयी होता है, जब हम अपने को छोटा मान लेते हैं। इसलिए सत्य के साथ चलें। सांसद ने कार्यक्रम की प्रशंसा करते हुए कहा कि इस तरह प्रबुद्धजनों का संगम राष्ट्र निर्माण, समाज निर्माण तथा मानव निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

कार्यक्रम में राजस्थान लोकसेवा आयोग के पूर्व सदस्य विनोद बिहारी शर्मा, कवि, साहित्यकार और प्रशासनिक अधिकारी टीकम बोहरा, प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया के सदस्य एल.सी. भारतीय, सर्वब्राह्मण समाज के प्रदेशाध्यक्ष पंडित सुरेश मिश्रा ने भी विचार व्यक्त किए।

राजस्थान से प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया के सदस्य बनने पर एल.सी. भारतीय का सम्मान किया गया। पंडित नवल किशोर शर्मा सामुदायिक भवन में आयोजित इस भव्य कार्यक्रम में नन्ही गायिका आकांक्षा राव ने अपनी प्रस्तुतियों से समां बांध दिया। कार्यक्रम में अतिथियों ने भारत गौरव, राजस्थान गौरव तथा दौसा गौरव से पत्रकारों को सम्मानित किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता लेखक व साहित्यकार लक्ष्मीनारायण भाला ने की। स्वागताध्यक्ष दीपक लवानिया ने सभी आगुन्तको का स्वागत किया। कार्यक्रम संयोजक महेश बालाहेड़ी, सह संयोजक कमलेश त्रिवेदी, वरिष्ठ पत्रकार विनोद पाठक और संजीव माथुर ने अतिथियों का स्वागत किया। समारोह का संचालन श्रीकांत शर्मा ने किया।  समारोह में राजस्थान, बिहार, दिल्ली, मध्यप्रदेश, हिमाचल प्रदेश आदि देशभर से आए पत्रकारों ने शिरकत की। समारोह राष्ट्रगान के साथ संपन्न हुआ।

इन्हें मिला भारत गौरव सम्मान :

अजमेर से सबगुरु डॉट कॉम के संपादक विजय मौर्य, दिल्ली से विष्णु गुप्त, अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त फोटो जर्नलिस्ट शैलेन्द्र पांडेय, बिहार से दीपक कुमार, हिमाचल प्रदेश से गोपाल शर्मा, मध्यप्रदेश से जितेंद्र जाट।

इन्हें मिला राजस्थान गौरव सम्मान :

जयपुर से दैनिक जागरण के संवाददाता नरेंद्र शर्मा, दैनिक नवज्योति के के.एल शर्मा, राजस्थान पंछी के श्याम सुंदर शर्मा, ढूढ़ाढ़ री ललकार के अशोक शर्मा, लालसोट दौसा से राजस्थान पत्रिका के कमलेश बैंदाड़ा, अलवर से प्रशांत।

इन्हें मिला दौसा गौरव सम्मान

दौसा से गौरव खंडेलवाल, राजेन्द्र जैन, रोशन जोशी, भास्कर जैमन, जुगल शर्मा, राजेन्द्र जैमन, विनय जोशी, बांदीकुई से गजेंद्र राठौड़, लालसोट से कमलेश आसिका, धर्मेंद्र शर्मा, पूजा जोशी, तरुण त्रिवेदी, सिकंदरा से विश्राम सैनी, विनोद जैमन, मानपुर से मुकेश सैनी, महुवा से संजय लाटा, अवधेश अवस्थी, राजेन्द्र पीपलखेड़ा, मेहंदीपुर बालाजी से सुरेश तिवाड़ी.

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;cff38901a92ab320d4e4d127646582daa6fece06175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;c1ebe705c563d9355a96600af90f2e1cfdf6376b175;250;911552ca3470227404da93505e63ae3c95dd56dc175;250;752583747c426bd51be54809f98c69c3528f1038175;250;ed9c8dbad8ad7c9fe8d008636b633855ff50ea2c175;250;969799be449e2055f65c603896fb29f738656784175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना