मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

बिहार के सभी जिलों मे होगा प्रेस क्लब

पटना। मुख्यमंत्री जीतन राम माँझी ने घोषणा की कि राज्य मुख्यालय पटना के अतिरिक्त सभी जिलों में प्रेस क्लब का निर्माण किया जायेगा, इसके लिए जितनी भी राषि की आवष्यकता होगी, सरकार उपलब्ध करायेगी।

मुख्यमंत्री आज मुख्यमंत्री सचिवालय स्थित संवाद सभाकक्ष में राष्ट्रीय प्रेस दिवस के अवसर पर सूचना एवं जन-सम्पर्क विभाग, बिहार द्वारा आयोजित सार्वजनिक मामलों में पारदर्षिता मीडिया की भूमिका विषयक संगोष्ठी का उद्घाटन करने के बाद उक्त घोषणा की। इस अवसर पर उन्होंने सूचना एवं जन-सम्पर्क विभाग द्वारा तैयार सरकार के फेसबुक पेज ‘प्राइड आॅफ बिहार’ की लांचिंग भी की। सचिव सूचना एवं जन-सम्पर्क विभाग श्री अतीश चन्द्रा ने मुख्यमंत्री को फूलों का गुलदस्ता एवं अंगवस्त्र भेंटकर सम्मानित किया।

मुख्यमंत्री जीतन राम माँझी ने इस अवसर पर अपील की कि मीडिया प्रोफेषनल न होकर सेवा भाव से काम करे क्योंकि यह एक प्रकार से जनता की सेवा ही है। उन्होंने कहा कि आज भी विकास कार्याें की पूरी राषि गरीबों तक नहीं पहुॅच पाती है, इन चीजों को उजागर करने की जरूरत है। मीडिया वंचित लोगों तक सरकारी योजनाओं का लाभ पहुॅचाने में सजग प्रहरी का काम करे एवं हकमारी करने वालों पर कड़ी नजर रखें। इस भूमिका से बिचैलिए भी डरने लगेंगे। हर जिला एवं पंचायत के लोगों की व्यथा को सरकार के सामने लायें ताकि सरकार उसका निदान कर सके। जहाॅ गरीबों के घरों तक सड़क नहीं है, मीडियाकर्मी उसे प्रकाष में लायें, हम वहाॅ सड़क का निर्माण करायेंगे। उन्होंने कहा कि लोग आज समाज के नीचले पायदान पर रह रहे लोगों के बारे में नहीं सोचते। समाज के कमजोर वर्गों की आर्थिक स्थिति में उतना परिवर्तन नहीं हो पाया है, जितना होना चाहिए। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रेस सच्चे प्रहरी की तरह काम करें। यह लोकतंत्र का चैथा मजबूत स्तंभ है, यह मजबूत होगा और अपनी जिम्मेदारियों का निर्बाह ईमानदारी के साथ करेगा तो इसका सीधा लाभ जनता और अभिवंचितों को मिल पायेगा। सरकार की विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं का लाभ लाभुकों को मिल सकेगा। बिचैलियों की एक नहीं चलेगी। प्रेस अपने दायरा को बढ़ाए। प्रेस हमारी गलतियों को सुधार सकते हैं। उन्होंने कहा कि हम मार्मिक अपील करना चाहते हैं कि पे्रस अनुसूचित जाति एवं जनजाति, पिछड़े एवं
अल्पसंख्यकों से जुड़ी समस्याओं को उजागर करें ताकि सरकार उनका समाधान कर सके।

इससे पूर्व मुख्यमंत्री ने दीप प्रज्वलित कर राष्ट्रीय प्रेस दिवस का उद्घाटन किया। सूचना एवं जन-सम्पर्क विभाग तथा मुख्यमंत्री के सचिव अतीष चन्द्रा ने दो सत्रों में चलने वाले इस संगोष्ठी में आगत अतिथियों का स्वागत किया। राज्य सभा सांसद एवं वरिष्ठ पत्रकार हरिवंष नारायण सिंह ने इस अवसर पर अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि प्रेस हमेषा सूचना सम्पन्न जानकारी देने का काम करे। मीडिया प्रतिनिधि डेवलपमेंट पाॅलीटिक्स पर केन्द्रित हांे।

संगोष्ठी के दूसरे सत्र में पी0टी0आई0 के ब्यूरो प्रमुख संजय कुमार सिन्हा ने कहा कि मीडिया को मसालेदार एवं सेंसेषनल खबरों से दूर रहना चाहिए। मीडिया को चाहिए कि वह जनता के प्रति सजग हों एवं जनता के लिए सरकारी योजनाओं की पूर्ण जानकारी जनता तक पहुॅचानी चाहिए ताकि वे उनका लाभ उठा सकें। उन्होंने कहा कि सरकारी विभागों को भी चाहिए कि वे योजना की विस्तृत जानकारी प्रेस को उपलब्ध करायें। उन्होंने कहा कि मीडिया अपने लिए लक्ष्मण रेखा खुद तय करे एवं वे किसी की निजता को प्रकाषित या प्रसारित न करंे। वरिष्ठ पत्रकार एवं बी0बी0सी0 के पूर्व संवाददाता मणिकान्त ठाकुर ने कहा कि मीडिया दूसरों से पारदर्षिता के अपेक्षा के बजाय खुद पारदर्षी बनने का प्रयास करे एवं प्रो-पब्लिक बने। उन्होंने कहा कि जहाॅ पारदर्षिता खत्म या कम होती है, वहीं से घपले, घोटाले की शुरूआत होती है। उन्होंने कहा कि प्रेस कभी भी सच पर पर्दा न डाले।

इस अवसर पर सूचना एवं जन-सम्पर्क विभाग के सचिव अतीष चन्द्रा ने कहा कि सार्वजनिक जीवन में जो लोग हैं, उनकी पारदर्षिता एक चुनौती है। चुनौतियाॅ शुरू में ही आती हैं और इस पर निर्णय प्रारंभ में ही लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि अच्छे संस्कार एवं अच्छी षिक्षा आपको पारदर्षी एवं कर्तव्यनिष्ठ बनाती हैं। उन्होंने कहा कि फीडबैक के लिए मीडिया एक प्रभावी माध्यम है और फीडबैक पर कोई ससमय ध्यान दे तो इसका निराकरण भी तुरंत हो जाता है। उन्होंने कहा कि मीडिया का रोल रिएक्षनरी न होकर पार्टीसिपेटरी
होना चाहिए। तंत्र में जवाबदेही और उत्तरदायित्व आया है, इसमें मीडिया का अहम रौल है। धन्यवाद ज्ञापन सूचना एवं जन-सम्पर्क विभाग के निदेषक श्री विपिन कुमार सिंह ने किया। इस अवसर पर विभिन्न मीडिया के प्रतिनिधि के अलावे सूचना एवं जन-सम्पर्क विभाग के पदाधिकारीगण भी मौजूद थे।

 

Go Back

Comment