मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

मीडिया को आत्म नियामक तंत्र विकसित करना चाहिए : श्री वी.पी.सिंह बदनौर

October 17, 2016

पंजाब के राज्यपाल ने क्षेत्रीय संपादकों के सम्‍मेलन का किया उद्घाटन, गृह मंत्री श्री राजनाथ सिंह और सांसद श्रीमती किरण खेर थे उपस्थित

चंडीगढ़/ पंजाब के राज्यपाल और चंडीगढ़ के प्रशासक श्री वी.पी. सिंह बदनौर ने कहा है कि जनता से संबंधित मुद्दों की सही-सही तस्वीर सरकार के सामने प्रस्‍तुत करने के लिए मीडिया को आत्म नियामक तंत्र विकसित करना चाहिए। उन्होंने कहा कि आम लोगों से जुड़े मुद्दों को उठाने में मीडिया की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण है। मीडिया इन मुद्दों के समाधान में भी मदद कर सकता है। उन्‍होंने यह बात आज क्षेत्रीय संपादकों के सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहीं। पेड न्यूज की कुछ घटनाओं का जिक्र करते हुए श्री बदनौर ने कहा है कि इस बुराई को रोकने के लिए स्‍वयं मीडिया को आगे आना चाहिए। उन्होंने चंडीगढ़ में बुनियादी ढांचे और जन सुविधाओं में सुधार करने के लिए जनता से सुझाव आमंत्रित किये और उन्‍होंने कहा कि इन सुझावों को प्राप्‍त कराने में मीडिया को अपनी भूमिका निभानी चाहिए।

सम्‍मेलन में भाग ले रहे प्रतिभागियों का स्वागत करते हुए पत्र सूचना कार्यालय के महानिदेशक, श्री ए.पी. फ्रैंक नरोन्‍हा ने कहा कि सरकार अपने विकास के एजेंडे में मीडिया को एक महत्वपूर्ण हितधारक मानती है। मीडिया की एक मददकर्ता और प्रहरी के रूप में बहुत बड़ी जिम्‍मेदारी है, ताकि विकास के लाभ जरूरतमंद तक वितरित किये जा सकें। उन्‍होंने कहा कि इस मीडिया, विशेष रूप से क्षेत्रीय मी‍डिया इस उपक्रम में महत्‍वपूर्ण भूमिका अदा कर सकता है।

उद्घाटन सत्र के दौरान गृह मंत्री श्री राजनाथ सिंह और सांसद श्रीमती किरण खेर भी उपस्थित थे।

इस सम्मेलन की पृष्ठभूमि की जानकारी देते हुए श्री नरोन्‍हा ने कहा कि क्षेत्रीय संपादकों के सम्मेलन का आयोजन क्षेत्रीय प्रेस के संपादकों को संबंधित मंत्रालयों के बारे में महत्वपूर्ण मुद्दों पर मंत्रियों से सीधे बातचीत करने के उद्देश्‍य से किया गया। प्रतिभागियों को प्रासंगिक संदर्भ के बारे में जानकारी प्राप्‍त करने के साथ-साथ सरकार की किसी विशेष पहल, कार्यक्रमों और नीतियों के पीछे की गहरी पृष्ठभूमि को जानने का भी अवसर मिलेगा। इससे नीति निर्माताओं को मीडिया से फी‍डबैक मिलने में मदद मिलेगी, जो आगे सुधार करने में लाभदायक हो सकता है।

सूचना के प्रसार और संचार में पत्र सूचना कार्यालय की भूमिका पर प्रकाश डालते हुए श्री नरोन्‍हा ने कहा कि संचार के पारंपरिक तरीकों के अलावा पीआईबी बड़े पैमाने पर सामाजिक मीडिया के माध्यम से क्षेत्रीय प्रेस और जनता तक अपनी पहुंच बना रहा है, जिससे मीडिया को सरकार की नीतियों और कार्यक्रमों के बारे में पता चल सके।

इस दो दिवसीय सम्मेलन में छह केंद्रीय मंत्रालय यानि गृह मंत्रालय, महिला एवं बाल विकास, सड़क परिवहन एवं राजमार्ग, उपभोक्ता मामले और सार्वजनिक वितरण, कृषि एवं किसान कल्याण और पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास भाग ले रहे हैं। संबंधित मंत्रालयों के केंद्रीय मंत्री संबंधित सत्र की अध्यक्षता करेंगे और अपने मंत्रालय से संबंधित नीतिगत मुद्दों और पहलों के बारे में संपादकों को संबोधित करेंगे।

सम्मेलन में, जम्मू-कश्मीर, पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, असम, मेघालय, त्रिपुरा, मणिपुर, मिजोरम और चंडीगढ़ राज्यों के संपादक भाग ले रहे हैं।

Go Back

Comment