मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

सृजनगाथा डॉट कॉम सम्मान हेतु प्रविष्टियाँ आमंत्रित

प्रविष्टि में कथा/कविता विधा की प्रकाशित पुस्तकें भेजी जा सकती हैं 

रायपुर । पिछले 8 वर्षों से संचालित साहित्य, संस्कृति और भाषा की अंतरराष्ट्रीय वेब पत्रिका सृजनगाथा डॉट कॉम (www.srijangatha.com) द्वारा वर्ष 2013 से साहित्यिक, सांस्कृतिक, रचनात्मक व कलात्मक लेखन को प्रोत्साहित करने के लिए सृजनगाथा सम्मान प्रारंभ किया गया है । प्रथम सृजनगाथा सम्मान सुपरिचित दलित कवि असंगघोष (जबलपुर) को कैंड़ी, श्रीलंका में प्रदान किया गया । द्वितीय सृजनगाथा सम्मान डॉ. राजेश श्रीवास्तव (कथालेखन) और राजेश पांडेय (संपादन)वर्ष को दिया गया था । इसके पूर्व यह सम्मान गीताश्री (कथाकार) और डॉ. सुधीर सक्सेना (कवि) को प्रदान किया गया था । 2015 में दिये जायेवाले सम्मान हेतु देश एवं विदेश के सक्रिय रचनाकारों से उनकी प्रविष्टि सादर आमंत्रित की जा रही है । प्रविष्टि में केवल कथा/कविता विधा की प्रकाशित पुस्तकें भेजी जा सकती हैं ।

नियमावली -
1. इस सम्मान हेतु रचनाकार को अपनी प्रतिनिधि व प्रकाशित किताब की 2-2 प्रतियाँ जयप्रकाश मानस, संयोजक, सृजनगाथा डॉट कॉम, एफ-3, आवासीय परिसर, छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल, पेंशनवाड़ा, रायपुर, छत्तीसगढ़-492001, मो. 94241-82664 के पते पर मार्च, 2015 से पूर्व कोरियर द्वारा भेजना अनिवार्य होगा । ज्ञातव्य हो कि प्रविष्टि हेतु भेजी जानेवाली कृति 1 जनवरी 2012 से 1 जनवरी 2015 के मध्य प्रकाशित हो ।

2. रचनाकार की उपर्युक्तानुसार अनुशंसा कोई मित्र साहित्यकार, संपादक, साहित्यिक संस्थाएं भी वांछित प्रविष्टि के साथ सकती हैं ।

3. सम्मान स्वरूप अंतिम रूप से चयनित रचनाकार को 21,000 रूपये नगद, शॉल, श्रीफल, प्रशस्ति पत्र, प्रतीक चिन्ह प्रदान किये जायेंगे ।

4. केवल उन प्रविष्टियों पर विचार किया जायेगा जिस रचनाकार की उम्र 1 जनवरी, 2014 को 45 वर्ष से अधिक हो।

5. प्रविष्टि में रचनाकार का संक्षिप्त बायोडेटा व फोटो भेजना अनिवार्य है।

6. पुरस्कार हेतु अंतिम रूप से रचनाकार का चयन एक उच्च स्तरीय समिति द्वारा किया जायेगा । इस चयन समिति में डॉ. खगेंद्र ठाकुर वरिष्ठ आलोचक (पटना), डॉ. रंजना अरगड़े, वरिष्ठ साहित्यकार (अहमदाबाद), डॉ. सुधीर सक्सेना (वरिष्ठ कवि-संपादक), गिरीश पंकज, संपादक, सद्भावना दर्पण (रायपुर), डॉ. बलदेव, वरिष्ठ आलोचक, (रायपुर) शामिल हैं ।

7. यह सम्मान 10 वें अंतरराष्ट्रीय हिंदी सम्मेलन लमही-लुम्बिनी के मुख्य समारोह ( 20 मई, 2015) में प्रदान किया जायेगा । यदि किसी कारण से चयनित रचनाकार उक्त सम्मेलन में सम्मिलित नहीं हो सकेगा तो उसे रायपुर में आयोजित समारोह में यह पुरस्कार प्रदान किया जा सकेगा ।

Go Back

Comment