मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

‘समागम’ का विश्व हिन्दी सम्मेलन के अवसर पर अंक हिन्दी विशेष पर

इस विशेष अंक की अतिथि सम्पादक सुपरिचित साहित्यकार उर्मिला शिरीष हैं

भोपाल। दसवें विश्व हिन्दी सम्मेलन के अवसर पर प्रकाशित मासिक शोध पत्रिका ‘समागम’ का सितम्बर 2015 अंक हिन्दी विशेष पर है। 92 पृष्ठों के संग्रहणीय अंक में सुप्रतिष्ठित कवि एवं विचारक श्री बालकवि बैरागी, हिन्दी के अनन्य सेवी कामताप्रसाद गुरु, ओम निश्चल, विचारक एवं समाजवादी नेता रघु ठाकुर सहित अनेक असुप्रतिष्ठित लेखकों के लेख पठनीय हैं।

नामचीन आलोचक विजयबहादुर सिंह ने डॉ. स्वाति तिवारी से मुलाकात में हिन्दी के विविध पक्षों पर अपने बेबाक विचार रखे हैं। शोध पत्रिका ‘समागम’ के सम्पादक मनोज कुमार हैं तथा इस विशेष अंक की अतिथि सम्पादक सुपरिचित साहित्यकार उर्मिला शिरीष हैं। हिन्दी के विविध पक्षों को लेकर अनेक शोध पत्र भी प्रकाशित किया गया है जिसमें हिन्दी के राष्ट्रभाषा के रूप में स्थापित किए जाने की चुनौतियों का उल्लेख तथा समाधान प्रस्तुत किया गया है। उल्लेखनीय है कि विगत 15 वर्षों से भोपाल से प्रकाशित शोध पत्रिका ‘समागम’ का हर अंक विशेषांक होता है। साहित्यिक पत्रकारिता की दिशा में शोध पत्रिका ‘समागम’ ने अपनी सशक्त उपस्थिति दर्ज करायी है। 

Go Back

Comment