मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

पत्रकार एस एन श्याम की गिरफ्तारी की निंदा

December 24, 2013

वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन ऑफ़ बिहार ने इसे लोकतंत्र की आवाज़ दबाने की साजिश बताया

पटना। वरीय पत्रकार  और वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन ऑफ़ बिहार के अध्यक्ष एस एन श्याम के गिरफ़्तारी की पत्रकारों ने तीव्र  निंदा की है.वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन  ऑफ़ बिहार के द्वारा आहूत विशेष बैठक में पत्रकारों ने एस एन श्याम की  गिरफ्तारी और  पुलिस की भूमिका की कड़े  शब्दों में निंदा करते हुए  इसे लोकतंत्र पर हमला और लोकतंत्र की आवाज़ को दबाने की साजिश कहा है.

बैठक में उपस्थित  वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन ऑफ़ बिहार के  महासचिव डॉ देवाशीष बोस ने कहा कि लोकसभा  चुनाव के मद्देनज़र नीतीश  कुमार सहित जदयू और पत्रकारों के बीच  के रिश्ते को बिगाड़ने की साजिश के   तहत वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन के अध्यक्ष को ही टारगेट  किया गया है। यूनियन के सदस्यों ने यह भी आरोप लगाया कि इसमें  विरोधी दल के कुछ नेता और पुलिस अधिकारी भी शामिल है और पुलिस ने गम्भीरता से वैज्ञानिक जाँच किये बगैर उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेज दी। उन्होंने श्री श्याम की गिरफ़्तारी को जनतंत्र के चौथे स्तम्भ पर हमला बताया। समाचार अभिकरण हिन्दुस्थान समाचार के बिहार ब्यूरो चीफ शशि भूषण प्रसाद सिंह ने भी एस एन श्याम की गिरफ्तारी को साजिश करार देते हुए इनकी भर्त्सना किया है। उन्होंने श्री श्याम के निःशर्त रिहाई की मांग करते हुए कहा कि अगर उनकी शीघ्र रिहाई नहीं होती है तो बिहार के पत्रकार आंदोलित होंगे। वरीय पत्रकार प्रमोद दत्त ने भी श्री श्याम के गिरफ्तारी की निंदा किया है और कहा कि पुलिस को गम्भीरता से जांचोपरांत कार्य करना चाहिए था। लेकिन  पुलिस श्री श्याम को गिरफ्तार कर अपने घटिया कार्यशैली का परिचय दिया है। पत्रकारों की बैठक में यूनियन के सचिव अभिजीत पाण्डेय ,संघठन सचिव सुधीर मधुकर ,रफ़्तार न्यूज़ चैंनल के ब्योरो चीफ मोहन कुमार ,मुकेश महान ,अनुराग ,चंद्रशेखर, ज्ञानशंकर,अजीत कुमार ,अनमोल कुमार आदि ने भी अपना विचार व्यक्त कर एस सन श्याम की गिरफ्तारी का विरोध किया और श्री श्याम की गिरफ्तारी  का विरोध किया और श्री श्याम के रिहाई की मांग की है। 

पटना की पत्रकार नगर पुलिस ने सोमवार को आधी रात बाद श्री श्याम को उनके घर से गिरफ्तार कर लिया। श्री श्याम पर स्काऊट गाइड के फर्जी कमिश्नर राज के पी सिंह मामले में गिरफ्तारी का वारंट जारी था। गौरतलब है कि अपनी गाड़ी पर अनाधिकृत रुप से पीली बत्ती लगाकर चलने वाले राज के पी सिंह को फर्जीवाड़े के आरोप में पुलिस ने पूर्व में ही गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। थाना प्रभारी के अनुसार एस एन श्याम उसी फर्जी स्काऊट एंड गाइड के मुख्य जन संपर्क पदाधिकारी थे जिनपर भी कई आरोप हैं और अदालत ने एक माह पूर्व एस एन श्याम की गिरफ्तारी के लिए वारंट जारी किया था।

एस एन श्याम काफी लंबे अर्से से पत्रकारिता क्षेत्र में सक्रिय हैं। इसके साथ वे कई संगठनों के माध्यम से समाज सेवा में भी सक्रिय रहे हैं।

 

Go Back

It's true mr.S.N.shyam was innocent b'cause he always doing work honestly.....

हम लोग गिरफ्तारी का निन्दा करते है.अगर आंदोलन की मुहीम छेड़ी जाती है तो हमलोग आपके साथ है



Comment