मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

बनास जन का नया अंक

इस अंक में समकालीन काव्य परिदृश्य पर कहानियां भी

सवा दो सौ पृष्ठों के इस अंक में समकालीन काव्य परिदृश्य पर पंकज चतुर्वेदी, अशोक कुमार पांडे और पंकज पराशर के आलेखों के साथ तीन उम्दा कहानियां भी पढी जा सकती हैं। कहानियां हैं संजीव कुमार, पंकज सुबीर और विष्णु नागर की। और भी बहुत कुछ।

जिन मित्रों को डाक से मंगवाना है वे इस अंक के लिए 100 रुपये का धनादेश कर सकते हैं या चार अंकीय सदस्यता के लिए 200 रुपये भेज सकते हैं -
Banaas Jan
393, Kanishka Appartment C & D Block
Shalimar Bagh
Delhi- 110088

Go Back

Comment