मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

'हिन्‍दी चेतना' का जुलाई-सितम्‍बर अंक इंटरनेट पर उपलब्‍ध

July 14, 2015

कैनेडा से प्रकाशित त्रैमासिक साहित्यिक पत्रिका 'हिन्‍दी चेतना' का जुलाई-सितम्‍बर 2015 अंक (वर्ष : 17, अंक : 67) अब इंटरनेट पर उपलब्‍ध है। सम्पादकीय, उद्गार, साक्षात्कार: प्रताप सहगल: प्रेम जनमेजय। कहानियाँ: प्रश्न-कुंडली: गीताश्री, काँच की दीवार: नीलम मलकानिया, केस नम्बर पाँच सौ सोलह: माधव नागदा, अग्निपरीक्षा: प्रो. शाहिदा शाहीन। व्यंग्य: जब मैं अमरीका गया, सुधाकर अदीब। लघुकथा: शादी का शगुन: डॉ.राम निवास मानव , बीमार आदमी: रणजीत टाडा, ख़ास आप सबके लिए!: अनिता ललित। निबन्ध: डॉ. गिरिराजशरण अग्रवाल। लेख: अर्चना पैन्यूली। विश्व के आँचल से: नीना पॉल से बातचीत: कैलाश बुधवार। भाषांतर: तेलुगु कहानी/ तारों से खाली आसमान, प़ेद्दिंटि अशोक कुमार, अनुवादः आर. शांता सुंदरी। ओरियानी के नीचे : एसिड अटैक और प्रेम की प्रतिहिंसा: सुधा अरोड़ा। गीत: जया गोस्वामी। नवगीत : रमेश गौतम, शशि पाधा। कविताएँ: मनीषा श्री, अनीता शर्मा, संध्या शर्मा, नीलोत्पल। दोहे: डॉ. सुरेश अवस्थी, संजीवसलिल। ग़ज़ल: ज़हीर क़ुरैशी। हाइकु: रमेश चन्द्र श्रीवास्तव। ताँका: डॉ. कुमुद बंसल। माहिया:डॉ. सरस्वती माथुर। विश्वविद्यालय के प्रांगण से: कश्यप पटेल। अविस्मरणीय: गिरिजा कुमार माथुर। पुस्तक समीक्षा: अम्बर बाँचे पाती:डॉ.ज्योत्स्ना शर्मा, पाल ले एक रोग नादाँ....:पवन कुमार, खिड़कियाँ खोलो: सौरभ पाण्डेय, दस प्रतिनिधि कहानियाँ: पूजा प्रजापति,कसाब.गांधी@यरवदा .इन: वंदना गुप्ता,गीतोपनिषद: डॉ. सुशीला देवी गुप्ता, फैसला अभी बाक़ी है: शहरयार अमजद ख़ान। पुस्तकें, साहित्यिक समाचार, आख़िरी पन्ना:सुधा ओम ढींगरा।आवरण तथा रेखा चित्र रोहित रूसिया, डिज़ायनिंग सन्नी गोस्वामी। 

 

Go Back

Comment