मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

खत्म हुआ खेल तमाशा!

मैनेज्ड मीडिया को राहुल-सोनिया से महंगाई पर पूछने का साहस नहीं

कांग्रेस का चिंतन शिविर समाप्त

लिमटी खरे/ कांग्रेस का चिंतन शिविर समाप्त हो गया। समाचार पत्र और चैनल्स ने चीख चीखकर राहुल गांधी के नए उपाध्यक्ष और नंबर दो वाले अवतार के लिए रेड कारपेट बिछाए। अब सब कुछ सामान्य ढर्रे पर लौट रहा है। आज देश में मैनेज्ड मीडिया ना तो राहुल, ना सोनिया से यह पूछने का साहस कर पाता है कि महंगाई के मामले में आप चुप क्यों है?  

जमीनी कार्यकर्ताओं की पीड़ा और रिसते घावों की चिंता किसी ने नहीं की। कार्यकर्ता क्या आज आम आदमी यह कह रहा है कि राहुल गांधी तो पहले से ही पार्टी मे नंबर दो पर थे। नेहरू गांधी परिवार के वारिस होना ही कांग्रेस में नेतृत्व की पहचान माना जाता है। कांग्रेस का झंडा और डंडा उठाने वाले कार्यकर्ता के बारे में माना जाता है कि वह झंडा उठाने और दरी बिछाने के लिए ही पैदा हुआ है देश की जनता तो उसी झंडा डंडा उठाने वाले कार्यकर्ता से महंगाई के बारे में पूछता है और कार्यकर्ता निरूत्तर हो जाता है। कुल मिलाकर राहुल गांधी को एक बार फिर महिमा मण्डित करने कांग्रेस ने चिंतन के नाम पर लाखों रूपए फूंक दिए। ये पैसे भी आखिर गरीब गुरूबों के टेक्स से संचित आय से ही आए होंगे।

कांग्रेस के तीन दिवसीय चिंतन शिविर पर देश की जनता टकटकी लगाए बैठी थी। सभी अपने अपने टीवी सेट्स से चिपके बैठे कि पता नहीं कब महंगाई के दानव से उन्हें मुक्ति दिलाने की बात इस शिविर में हो जाए। विडम्बना देखिए कि चिंतन शिविर में महज राहुल गांधी को ही महिमा मण्डित करने की बात कही गई। राहुल की ताजपोशी के आगे बाकी सारी बातें गौण हो गईं। जैसा कि हमने पूर्व में अपने आलोखों किस बात का हो रहा चिंतन और चिंतन शिविर में युवराज की चिंता में आशंका व्यक्त की थी कि यह सब कुछ सिर्फ और सिर्फ राहुल गांधी के लिए हो रहा है, निर्मूल साबित नहीं हुईं।

जयपुर में जिस बात का चिंतन हुआ और जो निष्कर्ष निकलकर सामने आया है उससे साफ हो गया है कि पार्टी ने अब घोषित तौर पर सोनिया गांधी के बजाए राहुल गांधी को अपना नेता मान लिया है। कुल मिलाकर यह कहा जाए कि सामंतशाही राज व्यवस्था की तरह ही अब सत्ता की धुरी सोनिया के हाथों से राहुल गांधी के हाथों में आ चुकी है। एक तरह से यह कहा जाए कि राहुल की ताजपोशी हो गई है तो अतिश्योक्ति नहीं होगा। दरअसल, कांग्रेस में राहुल गांधी नंबर दो की स्थिति में पहले से ही थे। राहुल गांधी नंबर दो आधिकारिक तौर पर नहीं थे। अब वे आफीशियल नंबर टू हैं।

आज हर किसी के जेहन में एक ही बात उभरकर सामने आ रही है कि आखिर कांग्रेस को चिंतन की आवश्यक्ता क्यों पड़ी? और अगर चिंतन शिविर में ही राहुल गांधी के हाथों सत्ता सौंपी जानी थी तो यह काम तो दिल्ली के 24 अकबर रोड़ पर बैठकर कार्यसमिति की बैठक बुलाकर यह काम किया जा सकता था। आखिर इस व्यापक स्तर पर चिंतन का बहाना कर राहुल को महिमामण्डित करने के पीछे कारण क्या है?

चिंतन शिविर को खेल तमाशा कहने का तातपर्य यही है कि इसमें जमीनी हकीकत को कोसों दूर रखा गया। जब सोनिया गांधी अपने उद्बोधन में भ्रष्टाचार पर प्रहार कर रही थीं तब प्रधानमंत्री असहज हो उठे। उन्होंने तत्काल एक चिट लिखी और मदाम को भेज दी। चिट में संभवतः यही लिखा था कि मदाम आप भ्रष्टाचार पर बोल रही हैं। केंद्र में हमारी सरकार है, हमारे और सहयोगियों के भ्रष्टाचार के मामले अभी लोगों के दिमाग से विस्मृत नहीं हुए हैं इस तरह आप खुद को ही भ्रष्टाचारी साबित कर रही हैं। तब जाकर सोनिया ने विषय से विषयांतर किया।

इस मामले को मनीष तिवारी के नेतृत्व वाले सूचना प्रसारण मंत्रालय ने बखूबी मैनेज कर लिया। चैनल्स ने इस मामले को छुआ भी नहीं और प्रिंट में भी इसकी गूंज ज्यादा नहीं दिखी। रही सोशल मीडिया की बात तो सोशल मीडिया ने इस मामले को उठाया है। राहुल गांधी की चिंता भी सोशल मीडिया को लेकर ही है। अगर देश के मीडिया को भरपूर पैसा देकर कांग्रेस द्वारा राहुल के पक्ष में कर भी लिया जाता है तब भी सोशल नेटवर्किंग वेब साईट्स को काबू करना आसान नहीं होगा। सोशल मीडिया का जुनून आज देश में सर चढकर बोल रहा है। देश में अंदर ही अंदर अराजकता चरम पर है।

गरीब गुरबे किस तरह दिन गुजार रहे हैं यह बात राहुल को नहीं पता। सुरसा की तरह मंहगाई के बढ़ते मुंह ने सभी को निगलना आरंभ कर दिया है। अगर कोई आदमी कानून ना तोडे तो वह वकील की फीस से बच सकता है। पर दवाओं से तो नहीं बच सकता। अगर बच्चे को पढाना है तो स्कूल की मनमाफी फीस देना ही होगा। अब तो आम आदमी कहने लगा है कि वह तीन ही बातों के लिए कमा रहा है। खाने, डाक्टर को पैसा देने और स्कूल की फीस चुकाने। अबदेखना है कि राहुल इस चुनौती से आखिर निपटते कैसे हैं? (साई फीचर्स)

 

 

Go Back

Comment