मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

उर्दू पत्रकारिता के दो सौ साल पर मनेगा जश्न

पत्रकारों -शिक्षाविदों की विशेष बैठक में सहमति 

जावेद हुसैन।पटना / भारत में उर्दू पत्रकारिता के दो सौ साल पुरे होने पर मार्च 2022 में राजधानी पटना में राज्यस्तरीय सम्मेलन का आयोजन किया जाएगा। इस सम्बन्ध में 31 जनवरी को ख़ानक़ाह मुनैमीया मित्तन घाट, पटना सिटी में मुफ़्ती सनाहउल्लाह क़ासमी की अध्यक्षता में पत्रकारों और शिक्षाविदों की एक विशेष बैठक हुई। बैठक का प्रारंभ हाफ़िज़ इफ़तख़ार मुनैमी के तिलावत क़ुरान पाक से और अंत ख़ानक़ाह मुनैमीया के सज्जादानशीन शमीमउद्दीन अहमद मुनैमी की दुआ पर हुआ। वरीय पत्रकार रेहान ग़नी ने बैठक की कारर्वाई शुरू करते हुए कहा कि 27 मार्च 1822 को उर्दू का पहला अख़बार जामे जहाँ नुमा हरीहर दत्त के सम्पादन में कलकत्ता से शुरू हुआ। इसके चार साल बाद 30 मई 1826 से कलकत्ता से ही हिन्दी साप्ताहिक उदंत मारतंद का प्रकाशन शुरू हुआ। इसके बाद दुसरे वक्ताओं ने अंतर्राष्ट्रीय, राष्ट्रीय, बिहार झारखंड और राज्य सतह पर दो सौ साला जश्न मनाने का मशवरा दिया। बाद में राज्य सतह पर ही जश्न मनाने पर सहमति बनी।

वक्ताओं ने सम्मेलन के दौरान होने वाले ख़र्च के लिए फंड जमा करने पर भी अपने विचार ज़ाहिर किये। बैठक में मौजूद दो पत्रकार ज़ियाउल हसन और नवाब अतीक़ुज़ज़मा ने सम्मेलन की तैयारी के लिए क्रमशः 10000/- और 5000/- रुपये देने का एलान किया। बैठक के अंत में सर्वसम्मति से एक समिति का गठन किया गया, जिसमें जनाब शमीमउद्दीन अहमद मुनैमी को संरक्षक जनाब सनाहउल्लाह क़ासमी को अध्यक्ष, जनाब रेहान ग़नी को महासचिव बनाया गया! इसके अलावा कई उपाध्यक्ष भी मनोनीत किये गए! बैठक में मौजूद दुसरे लोगों को समिति का सदस्य बनाया गया।

Go Back

Comment