मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

जागरण का फर्जीवाड़ा उजागर करने वालों को जान से मारने की धमकियां

June 20, 2014

दैनिक जागरण के सरकारी विज्ञापन घोटाला को उजागर करने वाले बिहार के मुजफ्फरपुर जिला निवासी  व परिवादी रमण कुमार यादव को दैनिक जागरण अखबार प्रकाशित करने वाली कंपनी मेसर्स जागरण प्रकाशन लिमिटेड। कानपुर। की ओर से लगातार प्रलोभन और जान से मार देने की धमकी उनके मोबाइल पर दी जा रही है। परिवादी रमण कुमार यादव ने मुजफ्फरपुर जिला के वरीय पुलिस अधीक्षक से मिलकर उन्हें इस संबंध में लिखित शिकायत की है।

वरीय पुलिस अधीक्षक ने इस प्रकरण को काफी गंभीरता पूर्वक लियाहै और मुजफ्फरपुर जिला मुख्यालय की कोतवाली पुलिस को समुचित कार्रवाई करनेका लिखित आदेश जारी कर दिया है। वरीय पुलिस अधीक्षक ने सुनवाई के दौरान न्यायालय परिसर में परिवादी रमण कुमार यादव की सुरक्षा के लिए पुलिस इस्कोर्ट की व्यवस्था की थी। इस बीच, दैनिक जागरण सरकारी विज्ञापन घोटाला के गवाह व अधिवक्ता श्रीकृष्ण प्रसाद ने भी मुजफ्फरपुर जिला के वरीय पुलिस अधीक्षक से दूरभाष पर बातकर इस सनसनीखेज सरकारी विज्ञापन घोटाला  के परिवादी और सभी गवाहों की सुरक्षा की गुहार लगाई है ।

दैनिक जागरण सरकारी विज्ञापन घोटाला और दैनिक हिन्दुस्तान सरकारी विज्ञापन घोटाला को देश-दुनिया के समक्ष न्यायालय के माध्यम से उजागर करने वाले बिहार के मुंगेर जिला मुख्यालय निवासी वरीय अधिवक्ता श्रीकृष्ण प्रसाद को भी इनदिनों संबंधित अखबारों के कर्मियोंकी ओर से जान मारनेकी धमकियां दी जा रही है। मजे की बात यह है कि दैनिक हिन्दुस्तान और दैनिक जागरण के फर्जी संस्करणों से जुड़े कर्मी, जो कंपनी की ओर से धमकियां दे रहे हैं, कानूनी रूप में दोनों अखबारों से किसी भी रूप में जुड़े नहीं हैं। उनके पास नियुक्ति पत्र और एग्रीमेन्ट लेटर तक नहीं है। ऐसा अंदेशा किया जा रहा है कि कंपनी विज्ञापन घोटाला उजागर करने वालों के विरूद्ध साजिश रचने या आपराधिक घटनाओं को अंजाम देने में अपने गैरकानूनी रूप से संचालित मुंगेर कार्यालयों के गैरकानूनी मीडियाकर्मियोंको नौकरी देने के नाम पर 'हथियार' बनाने का काम कर रही है। 

वरीय अधिवक्ता श्रीकृष्ण प्रसाद की रिपोर्ट

संपर्क- 09470400813

Go Back

Comment