मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

“अर्जुन” 3 को प्रदर्शन के लिए तैयार

November 2, 2017

भोजपुरी फिल्‍म  “अर्जुन” का बिहार- झारखंड में होगा प्रदर्शन 

एस.पी. सिने एंटरटेनमेंट की भोजपुरी फिल्‍म ‘अर्जुन’ बिहार एवं झारखंड में 3 नवम्‍बर को प्रदर्शन के लिए तैयार है। यह फिल्‍म इन दोनों राज्‍यों में बड़े पैमाने पर रिलीज की जाएगी। इसके बाद यह फिल्‍म17 नवम्‍बर को देश के बाकी हिस्‍सों में प्रदर्शित की जाएगी। फिल्‍म के निर्माता सुभाष पाठाकोटा ने बिहार-झारखंड में सर्वप्रथम रिलीज का कारण बताते हुए बताया कि बिहार भोजपुरी फिल्‍मों का स्‍वर्ग स्‍थल है इसलिए सबसे पहले बिहार-झारखंड में इस फिल्‍म के प्रदर्शन की योजना बनायी गई। बिहार और झारखंड में इस फिल्‍म को सरगम फिल्‍म रिलीज करने जा रही है। 

फिल्‍म ‘अर्जुन’ अभिनेता मयूर कुमार और अभिनेत्री श्रेया मिश्रा की पहली फिल्‍म है। इसके अलावा शिवांगी और आलोक श्रीगुप्‍ता भी इस फिल्‍म से अपने फिल्‍मी केरियर की शुरूआत करने जा रहे हैं। आलोक श्रीगुप्‍ता का संबंध बिहार से है और उन्‍होंने इस फिल्‍म में महत्‍वपूर्ण भूमिका अदा की है। इसके आलावा अनुप अरोड़ा, नीलम वशिष्‍ठ, विनोद कुमार राजेश पटेल, तुषार चौहान, फयाज काजी, निखिल, मनोज मिश्रा, धामा वर्मा आदि की भी अहम भूमिकाएं हैं।

बिहार-झारखंड में फिल्‍म के वितरक श्री संजय कुमार ने बताया कि फिल्‍म के प्रति लोगों में उत्‍साह है। खबर के अनुसार जहां-जहां इस फिल्‍म के ट्रेलर चल रहे हैं वहां के लोग इस फिल्‍म के प्रदर्शन का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। फिल्‍म का निर्देशन आमिर-सुवीर की जोड़ी ने किया है जबकि इस फिल्‍म को संगीत से सजाया है अनिल यादव और अनिल अंजाना की जोड़ी ने। फिल्‍म में एक्‍शन जावेद शेख है वहीं नृत्‍य निर्देशन दिलीप मिस्‍त्री और संतोष सर्वदर्शी ने किये हैं।

निर्देशक आमिर-सुवीर की जोड़ी ने बताया कि ‘अर्जुन’ एक्‍शन प्रधान पारिवारिक फिल्‍म है जो हर वर्ग के दर्शकों की अपेक्षाओं पर खड़ा उतरने की क्षमता रखती है। फिल्‍म में तात्‍कालिक समस्‍याओं को भी उठाया गया है। फिल्‍म का मजबूत पक्ष इसके दमदार संवाद और कर्णप्रिय संगीत है। इसका हास्‍य पक्ष भी साफ-सुथरी और मनोरंजक है। फिल्‍म को गुजरात और मुम्‍बई के कई जगहों पर फिल्‍माया गया है।

पिछले कुछ समय से भोजपुरी फिल्‍में एकदम टाइप्‍ड हो गई है। तकरीबन सभी फिल्‍में एक जैसी ही बन रही है। इसलिए दर्शक अधिकतर भोजपुरी फिल्‍मों को नकार रहे हैं। सबसे अहम बात यह है कि भोजपुरी फिल्‍मों में ग्‍लैमर के नाम पर अश्‍लीलता परोसी जा रही है। द्विअर्थी संवादों के साथ अश्‍लील गानों के चलते महिला दर्शकों ने भोजपुरी फिल्‍मों से लगभग किनारा कर लिया है। मगर फिल्‍म ‘अर्जुन’ के जरिये एक बार फिर महिलाएं भोजपुरी फिल्‍म से जुड़ेंगी। इस फिल्‍म की सबसे बड़ी खासियत इसका साफ सुथड़ा होना है, और यही कारण है कि बहुत लंबे अंतराल के बाद किसी भोजपुरी फिल्‍म को सेंसर बोर्ड से यू/ए सर्टीफिकेट मिला है।

उम्‍मीद है कि नयी सोच और नयी तकनीक से युक्‍त ‘अर्जुन’ दर्शकों के दिलोदिमाग पर अपना प्रभाव अवश्‍य छोड़ेगी।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में कल फिल्म के अभिनेता मयूर कुमार, अभिनेत्री श्रेया मिश्रा, प्रोड्यूसर सुभाष पाताकोटा, डायरेक्टर आमिर सुवीर, को-आर्टिस्ट प्रगति भट्ट, इशिका जायसवाल एवं सरगम फिल्मस के विद्या विवेक व शशि भूषण प्रसाद आदि उपस्थित थे.  

Go Back

Comment