मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

शुरू किया जा रहा सृजनगाथा सम्मान

September 8, 2013

30 अक्टूबर तक भेजें प्रविष्टि

रायपुर । पिछले 7 वर्षों से संचालित साहित्य, संस्कृति और भाषा की अंतरराष्ट्रीय वेब पत्रिका सृजनगाथा डॉट कॉम (www.srijangatha.com)  द्वारा इस वर्ष से साहित्यिक, सांस्कृतिक, रचनात्मक व कलात्मक लेखन को प्रोत्साहित करने के लिए सृजनगाथा सम्मान का शुभारंभ किया गया है। सम्मान हेतु देश एवं विदेश में सक्रिय रचनाकारों से उनकी प्रविष्टि सादर आमंत्रित की जा रही है । प्रविष्टि में किसी भी विधा की प्रकाशित पुस्तकें भेजी जा सकती हैं ।

नियमावली -
1. इस सम्मान हेतु रचनाकार को अपनी प्रतिनिधि व प्रकाशित किताब की 2-2 प्रतियाँ जयप्रकाश मानस, संयोजक, सृजनगाथा डॉट कॉम, एफ-3, आवासीय परिसर, छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल, पेंशनवाड़ा, रायपुर, छत्तीसगढ़-492001, मो. 94241-82664 के पते पर 30 अक्टूबर, 2013 से पूर्व भेजना अनिवार्य होगा । ज्ञातव्य हो कि प्रविष्टि हेतु भेजी जानेवाली कृति 1 जनवरी 2011 से 1 जनवरी 2013 के मध्य प्रकाशित होना चाहिए ।

2. रचनाकार की अनुशंसा उपर्युक्तानुसार कोई मित्र साहित्यकार, संपादक, साहित्यिक संस्थाएं वांछित प्रविष्टि भेजकर भी कर सकती हैं ।

3. सम्मान स्वरूप अंतिम रूप से चयनित रचनाकार को 21,000 रूपये नगद, शॉल, श्रीफल, प्रशस्ति पत्र, प्रतीक चिन्ह प्रदान किये जायेंगे।

4. केवल उन प्रविष्टियों पर विचार किया जायेगा जिस रचनाकार की उम्र 1 जनवरी, 2014 को 45 वर्ष से अधिक हो।

5. प्रविष्टि में रचनाकार का संक्षिप्त बायोडेटा व फोटो भेजना अनिवार्य है।

6. पुरस्कार हेतु अंतिम रूप से रचनाकार का चयन एक उच्च स्तरीय समिति द्वारा किया जायेगा। इस चयन समिति में श्री गिरीश पंकज, संपादक सद्भावना दर्पण, रायपुर,  डॉ. सुशील त्रिवेदी (आईएएस) वरिष्ठ साहित्यकार, रायपुर, अशोक सिंघई, वरिष्ठ कवि, भिलाई, डॉ. बलदेव, वरिष्ठ आलोचक, रायगढ़ शामिल हैं ।

7. यह सम्मान 8 वें अंतरराष्ट्रीय हिंदी सम्मेलन. श्रीलंका, कोलंबो के मुख्य समारोह (www.facebook.com/events/1402215959991769/) में 22 जनवरी, 2014 के दिन प्रदान किया जायेगा ।

8. यदि किसी कारण से चयनित रचनाकार उक्त सम्मेलन में सम्मिलित नहीं हो सकेगा तो उसे रायपुर में आयोजित समारोह में यह पुरस्कार प्रदान किया जा सकेगा ।

Go Back

Comment