मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

Blog posts June 2014

आर. अनुराधा नहीं रहीं

June 14, 2014

नई दिल्ली । भारतीय सूचना सेवा की वरिष्ठ अधिकारी और सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के प्रकाशन विभाग में संपादक आर. अनुराधा नहीं रहीं। आज वे हमें अलविदा कह गईं। लम्बे समय से कैंसर से जूझ रही थी ।…

Read more

अब मीडिया का जनविकल्प मोबाइल नेटवर्किंग!

June 14, 2014

मोबाइल से ही जनता की आवाज सुनी जायेगी! आदिवासी जो जल जंगल जमीन से बेदखल है,उन्हें आप न नेट से, न अखबार से और न अन्य माध्यमों से संबोधित कर सकते हैं।…

Read more

मीडिया और सारथी संपादक साहब

June 13, 2014

अंशु शरण की दो कवितायें....

मीडिया

जुबाँ खुलने से पहले
कलम लिखने से पहले
अख़बार छपने से पहले ही
बिकी हुयी है |

और इनके बदौलत ही…

Read more

अखबार बहस पूरा करने से कतरा रहा

June 9, 2014

दैनिक जागरण सरकारी विज्ञापन फर्जीवाडा़, बिहार के ए. डी. जे. के न्यायालय में  सुनवाई अंतिम चरण में

नई दिल्ली। विश्वस्तरीय दैनिक जाग…

Read more

सम्पादक को धमकी से पत्रकारों में आक्रोश

June 7, 2014

रैली निकालकर अपनी शक्ति का किया प्रदर्शन, जगदीश गुर्जर की गुण्डागर्दी के विरोध में एस.पी. को ज्ञापन

नीमच। जनपद पंचायत अध्यक्ष पति ज…

Read more

दबंग दुनिया और अब्सलुट की ओर महानगर के पत्रकार

June 3, 2014

दोगुना वेतन और अच्छी सुविधा से आकर्षित हुए पत्रकार 

मुंबई / हमारा महानगर के ठाणे रिपोर्टर वीरेंद्र मिश्रा अब्सलुट इंडिया से जुड़ने के बाद अब हमारा महानगर के कई पत्रकार दबंग दुनिया और अब्सलुट इंडिया के तरफ …

Read more

"हिन्दी पत्रकारिता दिवस" पर शोधपत्रिका समागम का नया अंक

June 2, 2014

भोपाल। अखिल भारतीय हिन्दी पत्रकारिता दिवस पर हिन्दी पत्रकारिता का सफर, उसकी उपलब्धि एवं उसकी चुनौतियों को दृष्टिगत रखते हुये अंतर्राष्ट्रीय मानक की शोध पत्रिका समागम ने अपना ताजा अंक आया  है।…

Read more

आकाशवाणी और दूरदर्शन को मजबूत किया जाएगा:सूचना और प्रसारण मंत्री

June 1, 2014

दूरदर्शन और आकाशवाणी  को सही मायने में पब्लिक ब्रॉडकास्टर बनाना है ताकि लोगों की पहली पसंद बने:सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर…

Read more

मीडिया तुम्हारी जात क्या है ?

June 1, 2014

 मुकेश कुमार / मीडिया की जात क्या है? क्या मीडिया की भी कोई जाति होती है ? यदि नहीं तो मीडिया में दलितों(पिछड़े-मुस्लिम-महिला) के मुद्दे क्यों नहीं सार्थकता से उठते ? हाशिये पर खड़े समाज पर मीडिया क्यों ध्यान नहीं देता ? भूत-प्रेत, राखी-मीका, जुली-मटुकनाथ पर पैकेज बनाने वाला मीडिय…

Read more

9 blog posts