Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

Blog posts : "feature General twitter whatsapp अपील अभियान आयोजन खबर गूगल से जानकारी टिप्पणी टीवी निंदा पत्रिका पुस्तक समीक्षा पुस्तिका फेसबुक से बहस मीडिया पुस्तक समीक्षा मुद्दा लोग विरोधस्वरूप पुरस्कार वापसी विविध खबरें वेकेंसी व्यंग्य शिक्षा श्रद्धांजलि संगीत संस्कृति संस्मरण सम्पर्क सम्‍मान साहित्य सिनेमा हिन्दी "

पॉपुलर न्यूज' और 'प्रोपेगेंडा' में अंतर समझने की जरूरत : अनुराधा प्रसाद

भारतीय जन संचार संस्थान में 'स्थापना दिवस व्याख्यान' का आयोजन

नई दिल्ली। भारतीय जन संचार संस्थान (आईआईएमसी) के 58वें स्थापना दिवस के अवसर पर आयोजित विशेष व्याख्यान को संबोधित करते…

Read more

गौरवशाली इतिहास को समेटे एक परिसर

आईआईएमसी के 58 वें स्थापना दिवस, 17 अगस्त पर विशेष

प्रो.संजय द्विवेदी/ भारतीय जनसंचार संस्थान (आईआईएमसी) ने अपने गौरवशाली इतिहास के 58 वर्ष पूरे कर लिए हैं। किसी भी संस्था के लिए यह गर्व का क्…

Read more

इतनी जल्दी क्या थी दोस्त इस दुनिया को छोड़कर जाने की

वरिष्ठ पत्रकार संजीव प्रताप सिंह का निधन, स्मृति शेष

लिमटी खरे/ सुबह साढ़े सात बजे के लगभग जब अखबार बांच रहे थे, उसी दौरान मोबाईल पर घंटी बजी, मित्र संजीव प्रताप सिंह का फोन था। छूटते ही बोले ‘भैय…

Read more

‘एक भारत श्रेष्ठ भारत’ है हमारा विकास मंत्र: प्रो. द्विवेदी

भारतीय जन संचार संस्थान एवं इंदिरा गांधी राष्‍ट्रीय कला केंद्र द्वारा ‘विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस’ के अवसर पर विशेष परिचर्चा का आयोजन…

Read more

वैचारिक साम्राज्यवाद के विरुद्ध वातावरण बनाएं संचार माध्यम: प्रो. द्विवेदी

महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा द्वारा आयोजित संगोष्ठी में बोले आईआईएमसी के महानिदेशक

Read more

उसको बॉस को गले लगाने का मन तो करता नही होगा!

विनाश कुमार सिंह/ एक युवा रिपोर्टर पर पटना के एक न्यूज चैनल ने 10 करोड़ रुपये मानहानि का दावा किया है। वजह ये कि रिपोर्टर ने कई महीनों की तनख्वाह नहीं मिलने के एवज में कंपनी का कैमरा उठा लिया। रिपोर्टर के मुताबिक उसके साथ मारपीट भी की गई।…

Read more

मीडिया आलोचना ही अपने आप में एक पेशा हो

विनीत कुमार। मीडिया से जुड़े किसी भी मसअले पर बोलने के बाद मेरा अनुभव यही रहा है कि हर बार मीडिया की पढ़ाई कर रहे छात्र ये समझ लेते हैं कि आलोचना की है इसका मतलब है कि इसमें कोई भविष्य नहीं है. वो सहज भाव से सवाल करते हैं कि तो फिर उम्मीद क्या है ?…

Read more

वेब पत्रकारों की समस्या के समाधान के लिए सरकार बुलाएगी बैठक: संजय झा

डबल्यूजेएआई की पटना इकाई ने आयोजित किया “डिजिटल मीडिया: वर्तमान एवं भविष्य” विषय पर सेमिनार सह कार्यशाला

पटना/ वेब …

Read more

न्यूज पोर्टल ऐसे शीर्षक लगाते हैं जो पाठक की आदिम आदत का पोषण कर सकें

विनीत कुमार। न्यूज वेबसाइट/पोर्टल  की स्टोरी का शीर्षक लगाने के पीछे का मनोविज्ञान भीतर की सामग्री क्या है, ये बताना नहीं बल्कि हमारे पाठक ताक-झांक की आदत के साथ बड़े हुए हैं तो क्लिक करेंगे ही से आत्मविश्वास के साथ अपना कारोबार जारी रखना होता है.…

Read more

वर्तमान समय की मांग है निष्पक्ष पत्रकारिता: प्रो. द्विवेदी

क्रेडेंट टीवी के कार्यक्रम 'डियर साहित्यकार' में बोले आईआईएमसी के महानिदेशक

नई दिल्ली। भारतीय जन संचार संस्थान (आईआईएमसी) के महानिदेशक प्रो. (डॉ.) संजय द…

Read more

बिग बॉस की नजर मंचन पर भी!

राजेश कुमार/ जी हां, आप कुछ भी कर रहे हों ...चाहे कोई राजनीतिक, सामाजिक, सांस्कृतिक गतिविधि कर रहे हों , आप पर बिग बॉस की नजर है । जॉर्ज ऑरवेल ने अपने अपने उपन्यास 1984 में भले बहुत पहले इस खतरे की तरफ इशारा कर दिया था, लेकिन उस सत्य से सामना इनदिनों स्पष्ट देखने को मिल रहा है । …

Read more

पत्रकारिता से साहित्य में चली आई ‘न हन्यते’

इंदिरा दांगी/ आचार्य संजय द्विवेदी की नई किताब 'न हन्यते' को खोलने से पहले मन पर एक छाप थी कि पत्रकारिता के आचार्य की पुस्तक है और दिवंगत प्रख्यातों के नाम लिखे स्मृति-लेख हैं, जैसे समाचार पत्रों में संपादकीय पृष्ठ पर प्रकाशित हुआ करते ही हैं; लेकिन पुस्तक का पहला ही शब्द-चित्र…

Read more

भारतीय राष्ट्रीय पत्रकार महासंघ का स्थापना दिवस मना

16 नवंबर को होगा राष्ट्रीय कार्यक्रम का आयोजन

जयनगर(मधुबनी)/ भारतीय राष्ट्रीय पत्रकार महासंघ के स्थापना दिवस पर मधुबनी जिला इकाई द्वारा कार्यक्रम आयोजित किया गया। संगठन के 22 वर्ष पूर्ण होने और 23वें वर्…

Read more

कन्नड और हिंदी साहित्य में हैं एकता के सूत्र: मधुसूदन साईं

श्री सत्य साईं यूनिवर्सिटी फॉर ह्यूमन एक्सीलेंस के चांसलर श्री मधुसूदन साईं ने किया 'मीडिया विमर्श' के 'कन्नड मीडिया विशेषांक' का लोकार्पण…

Read more

'डिजिटल मीडिया : सिद्धांत और अनुप्रयोग' पुस्तक का लोकार्पण

कुलपति प्रो. आनंद प्रकाश ने किया लोकार्पण

मोतिहारी। महात्मा गाँधी केंद्रीय विश्वविद्यालय के मीडिया अध्ययन विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. अंजनी कुमार झा एवं सहायक प्रोफेसर डॉ. परमात्मा कुमार मिश्र के संयुक्त संपादन मे…

Read more

संवाद से संवेदना जगाइए

मनोज कुमार/ सोशल मीडिया पर एक पीड़ादायक तस्वीर के साथ एक सूचना शेयर की जा रही है कि एक मजबूर पिता और एक मासूम बच्चा अपने भाई की लाश अपनी गोद में लिये कभी उसे दुलारता है तो कभी खुद रोने लगता है. पिता को बच्चे की लाश घर ले जाने के लिए एम्बुलेंस की जरूरत है लेकिन व्यवस्था के पास यह सु…

Read more

ब्राह्मण की सीख में पुराण पाथते पिछड़े

कैलाश दहिया/ ब्राह्मणी प्रभाव में पिछड़े वर्ग के कथित साहित्यकारों का दिमाग कैसे काम कर रहा है, इसे अश्विनी कुमार पंकज की लिखत से समझा जा सकता है। इन्होंने अपनी दिनांक 04 जुलाई, 2022 की  फेसबुक पोस्ट में लिखा है- "आ रहा है आजीवक मक्खलि गोसाल के दर्शन और संघर्ष पर केंद्रित हमारा त…

Read more

क्या यही है 'विश्वगुरु भारत' की पत्रकारिता का स्तर?

तनवीर जाफ़री/ हमारे देश में चल रही सत्ता और मीडिया की जुगलबंदी, अनैतिकता की सभी हदें पार कर चुकी है। सत्ता की चाटुकारिता करना, झूठ पर झूठ प्रसारित करना और विपक्ष को कटघरे में खड़ा करना गोया इसका पेशा बन चुका है। आज देश में सांप्रदायिक वैमनस्य का जो वातावरण बना है उसके लिये जहां साम…

Read more

मीडिया अध्ययन विभाग के एक और विद्यार्थी का प्रतिष्ठित मीडिया संस्थान में चयन

महात्मा गांधी केंद्रीय विश्विद्यालय का पुष्कर पटना के दैनिक भास्कर में करेगा काम

मोतिहारी। महात्मा गांधी केंद्रीय विश्विद्यालय के मीडिया अध्ययन…

Read more

साहित्य व पत्रकारिता को लेकर इन्दौर उम्मीदों का शहर: प्रो. द्विवेदी

प्रेस क्लब में आयोजित चाय पर चर्चा में डॉ. संजय द्विवेदी शामिल

इन्दौर । 'युवाओं का धर्म और समाज से जुड़ाव बढ़ रहा है, हम लिखते हैं पर दूसरे का लिखा पढ़ते नहीं हैं, इस आदत में बदलाव लाना …

Read more

20 blog posts

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;e3113b18b05a1fcb91e81e1ded090b93f24b6abe175;250;cb150097774dfc51c84ab58ee179d7f15df4c524175;250;a6c926dbf8b18aa0e044d0470600e721879f830e175;250;13a1eb9e9492d0c85ecaa22a533a017b03a811f7175;250;2d0bd5e702ba5fbd6cf93c3bb31af4496b739c98175;250;5524ae0861b21601695565e291fc9a46a5aa01a6175;250;3f5d4c2c26b49398cdc34f19140db988cef92c8b175;250;53d28ccf11a5f2258dec2770c24682261b39a58a175;250;d01a50798db92480eb660ab52fc97aeff55267d1175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;cff38901a92ab320d4e4d127646582daa6fece06175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;c1ebe705c563d9355a96600af90f2e1cfdf6376b175;250;911552ca3470227404da93505e63ae3c95dd56dc175;250;752583747c426bd51be54809f98c69c3528f1038175;250;ed9c8dbad8ad7c9fe8d008636b633855ff50ea2c175;250;969799be449e2055f65c603896fb29f738656784175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना