मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

नहीं मिल पा रही सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग से पत्रकार के लिए शासकीय मान्यता

November 21, 2015

एक पत्रकार की पीड़ा, उन्ही की जुबानी- अम्बेडकरनगर नगर सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के श्री दिवाकर दत्त मिश्र और श्री वसीम खान जी ऐसा क्यों करते है?

मित्रों! आपको बताना चाहती हूँ कि मैं उत्तर प्रदेश के अम्बेडकरनगर जिले की निवासिनी हूँ और विगत एक दशक की अवधि से प्रिण्ट मीडिया में सक्रिय रूप से पत्रकारिता कर रही हूँ। मैं जौनपुर/वाराणसी (उ.प्र.) से प्रकाशित होने वाले हिन्दी दैनिक समाचार-पत्र ‘दैनिक मान्यवर’ की जिला संवाददाता हूँ। मैंने कई वर्षों से सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग अम्बेडकरनगर (उ.प्र.) में शासकीय मान्यता हेतु आवेदन-पत्र जमा कर रखा है। मेरे साथ के दर्जनों संवाददाताओं को मान्यता मिल चुकी है परन्तु मुझे जिला सूचना कार्यालय अम्बेडकरनगर में कार्यरत श्री दिवाकर दत्त मिश्र और श्री वसीम खान जी पाँच वर्षों से टरका रहे हैं। 
मित्रों! आप को बताना चाहती हूँ कि मेरे द्वारा आवेदन-पत्र में वाँछित/अपेक्षित समस्त औपचारिकताएँ पूरी की जा चुकी हैं। कई बार एल.आई.यू. रिपोर्ट्स भी लग चुकी है। इन दो पुराने सूचना कर्मियों द्वारा मेरी पत्रावली को या तो मान्यता समिति के समक्ष प्रस्तुत ही नहीं किया जाता है, या फिर कोई और कारण हो सकता है। मुझे मान्यता क्यों नहीं मिली....? जब पूँछती हूँ तो ये लोग इधर-उधर की बातें और कारण बताकर टरका दिया करते हैं। गत दिवस मैंने जब श्री दिवाकर दत्त मिश्र जी से अपनी मान्यता के बारे में पूँछा तो उन्होंने स्पष्ट कहा कि तुम उनसे मिलती नहीं हो....? मैं आश्चर्य में पड़ गई कि मिश्रा जी से किस तरह मिलूँ, मैं उन पर कोई आक्षेप नहीं लगा रही हूँ, लेकिन दुःख इस बात का है कि एक महिला पत्रकार जो अपने कार्य के प्रति सक्रिय है उसके साथ ऐसा बर्ताव क्यों? 
मित्रों! मुझे बीते त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के लिए ‘प्रेस पास’ भी नहीं प्राप्त हुआ है और न इससे पूर्व किसी प्रेस कान्फ्रेन्स के लिए बुलाया जाता है। मुझे ज्ञात हुआ है कि श्री दिवाकर दत्त मिश्रा और श्री वसीम खान साहेब ‘दैनिक मान्यवर’ के प्रेस पास अपने चहेतों को दे देते हैं। एक बात और दैनिक मान्यवर अम्बेडकरनगर की जिला संवाददाता मैं हूँ और जिले के ब्यूरो प्रभारी वरिष्ठ पत्रकार भूपेन्द्र सिंह गर्गवंशी हैं, दोनों की अनदेखी करना जिला सूचना कार्यालय के इन वरिष्ठ कर्मियों द्वारा आम बात है। दैनिक मान्यवर को जिला प्रशासन की प्रेस विज्ञप्तियाँ देना ये लोग अपनी तौहीन समझते हैं। इस बावत पूँछने पर स्पष्ट कहते हैं कि सैकड़ों पत्रकार हैं जो नित्य नियमित उनके कार्यालय का चक्कर लगाते हैं और प्रेस विज्ञप्तियाँ ले जाते हैं तुम भी आकर ले लिया करो। 

मित्रों, पुलिस विभाग में स्थापित पी.आर.ओ. सेल की विज्ञप्तियाँ बजरिए ई-मेल मुझे दैनिक मान्यवर में प्रकाशनार्थ नियमित मिलती हैं, और पुलिस अधिकारियों द्वारा आयोजित प्रेसवार्ता में उपस्थित होने का निमंत्रण भी प्राप्त होता है। परन्तु जिला प्रशासन के मुखिया जिलाधिकारी महोदय द्वारा आहूत किसी भी प्रेसवार्ता में उपस्थित होने के लिए आज तक मुझे जिला सूचना कार्यालय के उक्त दोनों सूचना कर्मियों द्वारा नहीं बुलाया गया। पूंछने पर इनके द्वारा यह कहा जाता है यहाँ के सभी पत्रकार अफसरों की गणेश परिक्रमा करते हैं और वहीं से समाचार व फोटो भी ले लिया करते हैं ऐसी स्थिति में सूचना कार्यालय द्वारा प्रेस विज्ञप्तियाँ किस लिए जारी की जाएँ? ऐसा क्यों किया जाता है मेरे साथ.......? इसके जितने भी कारण हैं मैं अम्बेडकरनगर के जिला मुख्यालय पर कार्यरत समस्त प्रेस/मीडिया से सम्बद्ध बन्धुओं से जानना चाहूँगी।  

रीता विश्वकर्मा
पत्रकार
जिला प्रतिनिधि
दैनिक मान्यवर (हिन्दी दैनिक)
अकबरपुर, अम्बेडकरनगर (उ.प्र.)
मो. 8765552676

 

Go Back

Comment