Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

नवीनतम ---

View older posts »

स्किल्स अपनाएं और अपने कल को बेहतर बनाएं : प्रो. द्विवेदी

भारतीय जन संचार संस्थान के महानिदेशक प्रो. संजय द्विवेदी ने जम्मू कैंपस दौरा में मीडिया के विद्यार्थियों को किया संबोधित

नई दिल्ली। भारतीय जन संचार संस्थान (आईआईएमसी) के महानिदेशक प्रो. (डॉ.) संजय द्विवेदी ने संस्थान के जम्मू कैंपस के विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि समय…

Read more

हर दिन 30 मिनट लोक सेवा प्रसारण करना जरूरी

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने लोक सेवा प्रसारण के दायित्वों पर एडवाइजरी जारी की

नई दिल्ली/ सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने 9 नवंबर 2022 को "भारत में टेलीविजन चैनलों के अपलिंकिंग और डाउनलिंकिंग के लिए दिशानिर्देश, 2022" जारी किए थे। दिशानिर्देशों में, अन्य बातों के अलावा, निजी प्रसारकों को हर दिन 30 मिनट के लिए लोक सेवा प्रसारण करना आवश्यक है। इस संब…

Read more

इक अखबार बिन सब सून

 29 जनवरी पर विशेष 

मनोज कुमार/ भारत का संविधान पर्व दिवस 26 जनवरी जनवरी को परम्परानुसार अखबारों के दफ्तरों में अवकाश रहा लिहाजा 27 जनवरी को अखबार नहीं आया और इक प्याली चाय सूनी-सूनी सी रह गयी. 28 तारीख को वापस चाय की प्याली में ताजगी आ गयी क्योंकि अखबार साथ में हाथ में था. अभी हम 2023 में चल रहे हैं और कल 29 तारीख होगी जनवरी माह की और यह तारीख हमारे इतिहास में महफूज है क्योंकि इसी तारीख पर जेम्स आगस्ट हिक्की ने भारत के पहले समाचार पत्र का प्रकाशन आ…

Read more

मीडिया का भारतीयकरण और समाज का आध्यात्मीकरण जरूरीः प्रो.संजय द्विवेदी

सोनीपत में आयोजित ब्रम्हकुमारीज के सम्मेलन में पत्रकारिता में मूल्यबोध पर चर्चा

नई दिल्ली/सोनीपत। भारतीय जन संचार संस्थान,नई दिल्ली के महानिदेशक प्रो.संजय द्विवेदी का कहना है कि मीडिया का भारतीयकरण किए जाने की जरूरत है। इसके बिना पत्रकारिता मूल्यबोध और संवादकेंद्रित नहीं बन सकती। ब्रह्माकुमारीज के उत्तरी परिसर विश्व कल्याण सरोवर …

Read more

पत्रकारिता के पारस 'रमेश नैयर'

प्रो. संजय द्विवेदी/  उच्‍च स्‍तरीय पत्रकारिता की बात चले या पत्रकारिता के मानक मूल्‍यों की, हमें ऐसे बहुत कम लोग याद आते हैं, जिन्‍होंने इन्‍हें बचाने-बढ़ाने के लिए पूरे मनोयोग व समर्पण भाव के साथ काम किया। समकालीन हिंदी पत्रकारिता के ऐसे ही सशक्‍त हस्‍ताक्षरों में से एक कहे जा सकते हैं, वरिष्‍ठ पत्रकार रमेश नैयर जी।…

Read more

न्यू इंडिया के निर्माण के लिए नेताजी के विजन को अपनाने की जरुरत : विक्रम दीश

भारतीय जन संचार संस्थान में 'शुक्रवार संवाद' कार्यक्रम का आयोजन

नई दिल्ली,/  "भारत के लोगों के मन में नेताजी सुभाष चंद्र बोस का एक अलग स्थान है। भारत की सभ्यता और संस्कृति से प्रेरित और वैज्ञानिक सोच से संपन्न नेताजी ने आधुनिक राष्ट्र के निर्माण का एक ऐसा मिशन शुरू किया, जिसकी प्रासंगिकता आज भी कायम है।" यह विचार वेटरन स्क्वाड्रन लीडर विक्रम दीश ने भारतीय जन संचार संस्थान (…

Read more

मीडिया का दायित्व काफ़ी जवाबदेही वाला, योजना की विस्तृत व सही जानकारी दें

पीआईबी द्वारा आयोजित 'वार्तालाप' कार्यशाला में बोले ज़िलाधिकारी

औरंगाबाद/ सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार के प्रेस इनफॉर्मेशन ब्यूरो (पीआईबी), पटना द्वारा 20 जनवरी, 2023 को औरंगाबाद समाहरणालय के योजना भवन सभागार कक्ष में स्थानीय मीडियाकर्मियों के बीच वार्तालाप-क्षेत्रीय मीडिया कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला का उद्घाटन औरंगाबाद के जिलाधिकारी सौरभ जोरवाल, पु…

Read more

'एक एशिया' के विचार को साकार करना हम सबकी जिम्‍मेदारी : प्रो. द्विवेदी

'सार्क जर्नलिस्‍ट फोरम' के प्रतिनिधिमंडल ने किया आईआईएमसी का दौरा

नई दिल्‍ली। सार्क देशों के पत्रकार संगठन ‘सार्क जर्नलिस्‍ट फोरम’ (एसजेएफ) के प्रति‍निधिमंडल ने गुरुवार को भारतीय जन संचार संस्‍थान का दौरा किया। आईआईएमसी के महानिदेशक प्रो. (डॉ.) संजय द्विवेदी ने नेपाल, भूटान, श्रीलंका और बांग्‍लादेश से आए तीस से अधिक प्रति‍निधियों का अंगवस्‍त्र और स्‍मृति चिन्‍ह देकर …

Read more

स्वामी विवेकानंद ने समाचारपत्रों को बनाया वेदांत के प्रसार का माध्यम

लोकेन्द्र सिंह / स्वामी विवेकानंद सिद्ध संचारक थे। उनके विचारों को सुनने के लिए भारत से लेकर अमेरिका तक लोग लालायित रहते थे। लेकिन हिन्दू धर्म के सर्वसमावेशी विचार को लेकर स्वामीजी कहाँ तक जा सकते थे? मनुष्य देह की एक मर्यादा है। भारत का विचार अपने वास्तविक एवं उदात्त रूप में सर्वत्र पहुँचे, वह गूँज उठे और उस पर सार्थक चर्चा हो, इसके लिए वह पुण्यभूमि भारत से निकलकर अमेरिका, ब्रिटेन और यूरोप के अन्य देशों में प्रवचन करने के लिए पहुँच गए। उन्होंने वहाँ के समाचार-पत्रों म…

Read more

दक्षिण एशिया के पत्रकारों और अध्येताओं ने भारत के वैश्विक नेतृत्व की जरूरत को रेखांकित किया

सार्क जर्नलिस्ट फोरम और गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय के संयुक्त तत्वावधान  में आयोजित दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी में विद्वानों ने अपने विचार अभिव्यक्त किए

ग्रेटर नोएडा/ सार्क जर्नलिस्ट फोरम(एसआरएफ) ने अफ…

Read more

सम्पादक

डॉ. लीना


Print Friendly and PDF

'डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन' को चला रहे हैं 4 'C' : प्रो. द्विवेदी

जामिया हमदर्द विश्वविद्यालय में 'मीडिया मैटर्स' सीरीज का शुभारंभ

नई दिल्ली।…

Read more

डॉ. इन्दु‍शेखर तत्पुरुष की पुस्तक 'हिन्दुत्व: एक विमर्श' का विमोचन

नई दिल्ली। प्रख्यात कवि, आलोचक एवं संपादक डॉ. इन्दु‍शेखर तत्पुरुष की पुस्तक 'हिन्दुत्व: एक विमर्श' का विमोचन करते हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख श्री सुनील …

Read more

सोशल मीडिया से --

पक्षपातपूर्ण पत्रकारिता के 7 साल

हमने हर खबर में अपना पक्ष रखा है

वीरेंद्र यादव न्‍यूज। दिसंबर, 2015 में अपनी यात्रा शुरू की थी। सब कुछ अनिश्चित। पड़ाव न मंजिल। चलते-चलते सात वर्षों की यात्रा पूरी हो गयी। निरंतर और निर्बाध यात्रा। रास्‍ते में…

Read more

View older posts »

पत्रकार की हत्या

भोज खाकर आ रहे सुभाष की गोली मारकर हत्या

बेगूसराय/  शुक्रवार की रात बेखौफ अपराधियों ने एक पत्रकार की गोली मारकर हत्या कर दी. घटना बखरी थाना क्षेत्र के सांखू गांव की है. मृतक पत्रकार की पहचान सांखू गांव निवासी सुभा…

Read more

View older posts »

आलेख- ख़बरें और भी हैं

View older posts »

आपकी उपस्थिती

5266847

बहस--

प्रक्षिप्तकार अग्रवाल का दलित विरोधी चेहरा

कैलाश दहिया/ 'हंस' पत्रिका के सितंबर, 2022 अंक में द्विज आलोचक पुरुषोत्तम अग्रवाल का 'नेहरू से ऐसा डर क्यों' शीर्षक से लेख छपा है। इस लेख में इन्होंने एक बार फिर अपना दलित विरोधी च…

Read more

View older posts »

पुरालेख--

पत्रिकाएँ--

175;250;e3113b18b05a1fcb91e81e1ded090b93f24b6abe175;250;cb150097774dfc51c84ab58ee179d7f15df4c524175;250;a6c926dbf8b18aa0e044d0470600e721879f830e175;250;13a1eb9e9492d0c85ecaa22a533a017b03a811f7175;250;2d0bd5e702ba5fbd6cf93c3bb31af4496b739c98175;250;5524ae0861b21601695565e291fc9a46a5aa01a6175;250;3f5d4c2c26b49398cdc34f19140db988cef92c8b175;250;53d28ccf11a5f2258dec2770c24682261b39a58a175;250;d01a50798db92480eb660ab52fc97aeff55267d1175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;cff38901a92ab320d4e4d127646582daa6fece06175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;c1ebe705c563d9355a96600af90f2e1cfdf6376b175;250;911552ca3470227404da93505e63ae3c95dd56dc175;250;752583747c426bd51be54809f98c69c3528f1038175;250;ed9c8dbad8ad7c9fe8d008636b633855ff50ea2c175;250;969799be449e2055f65c603896fb29f738656784175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974

पत्रकारिता : एक नजर

वेब पत्रकारिता का चमकता भविष्य

अर्पण जैन "अविचल"/  सूचना और संचार क्रांति के दौर में आज प्रिंट और इलेक्ट्रानिक मीडिया के बीच वेब पत्रकारिता का चलन तेजी से बढ़ा है और अपनी पहचान बना ली है. अखबारों की तरह बेव पत्र और पत्रिकाओं का जाल, अंतरजाल पर पूरी तरह बिछ चुका है. छोटे-बड़े हर शहर से अमूमन बेव पत्रकारिता संचालित हो रही है. छोटे-बड़े सभी शहरों के प्रिंट व इलेक्ट्रानिक मीडिया भी वेब पर हैं. इस बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि भारत में थोड़े ही समय मे…

Read more

View older posts »

राष्ट्रीय सुर्खियां--

Content