Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

अंग महिला सम्मेलन में कई महिलाएं सम्मानित

मीडियामोरचा व बढ़ते कदम की संपादक डॉ. लीना भी  सम्मानित

भागलपुर। भागलपुर में आज से आयोजित दो दिवसीय अंग महिला सम्मेलन में वेब पत्रिका मीडियामोरचा और बढ़ते कदम की संपादक व संचालक डॉ लीना सहित कई महिलाओं को सम्मानित किया गया। डाॅ. लीना भागलपुर की रहने वाली है और पटना में रह कर दो वेबसाइट संचालित करती आ रही है। पिछले कई वर्षो से मीडिया से जुड़ी है और लगातार सक्रिय है। 
सम्मान पाने वालों में बी बी सी से जुड़ी पत्रकार सीटू तिवारी, गीता बाई केजरीवाल (समाजसेवा), कल्पना झा (खेल), उषा सिन्हा (समाजसेवा), डॉ रोमा यादव (चिकित्सा), डॉ अलका सिन्हा (साहित्य), अजाना घोष (पत्रकारिता), हाला अस्लम (शिक्षा), फेकिया देवी (गंगा मुक्ति आंदोलन), श्वेता भारती (कला), रीता कुमारी (पुलिस सेवा), नंदना किशोर पंकज (साहित्य), नौमी शांति हेम्ब्रम(साहित्य), सांत्वना शाह(साहित्य),यशस्वी (साहित्य), सोनी खानम (समाजसेवा), सिस्टरी एम्ब्रोसीना(शिक्षा),सुषमा प्रिय(समाजसेवा) मीना तिवारी(साहित्य), सुजाता चैधरी (गांधीवादी लेखन) के नाम शामिल हैं।
     अंग महिला सम्मेलन का आयोजन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता वाली गांधी स्मृति दर्शन समिति, नई दिल्ली और विष्णु प्रभाकर प्रतिष्ठान नोएडा की मदद से मदद फांउडेशन ने किया है। सम्मान समारोह के बाद खास तौर से ’बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ पर चर्चा हुई । देश के कई राज्यों से आये वक्ताओं ने ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ और गांधी जी के विचार विषय पर अपनी राय रखी। बेटियों की मुश्किलें और उनके निवारण पर चर्चा हुई। वक्ताओं ने बेटियों के प्रति घर व समाज में हो रहे भेद भाव के प्रति चिंता जताई और इसमें बदलाव पर जोर दिया। 
इसमें मीडियामोरचा की संपादक डाॅ.लीना ने कहा कि आज बेटियां पढ़ लिख के भी अपना मनचाहा कार्य करने को स्वतंत्र नहीं है। इसके लिए सामाजिक सहयोग के साथ ही उनमें आत्मबल जगाना जरुरी है। देश के शहरी इलाकों में महज 15 फीसदी कामकाजी महिलाएं हैं। वहीं पत्रकार सीटू तिवारी ने सरकारी नीतियों व व्यवस्था से सहयोग की आशा जताई। 
मौके पर चर्चित गांधीवादी रामजी राय,प्रसून लतांत,कुमार कृष्णन सहित कई गणमान लोग मौजूद थे।

 

 

Go Back



Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;cff38901a92ab320d4e4d127646582daa6fece06175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;c1ebe705c563d9355a96600af90f2e1cfdf6376b175;250;911552ca3470227404da93505e63ae3c95dd56dc175;250;752583747c426bd51be54809f98c69c3528f1038175;250;ed9c8dbad8ad7c9fe8d008636b633855ff50ea2c175;250;969799be449e2055f65c603896fb29f738656784175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना