Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

अंतहीन सफ़र की ऑनलाइन कला प्रदर्शनी 27 से

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के मुख्य सलाहकार अंजनी कुमार सिंह 27 को ऑनलाइन संबोधन से करेंगे उदघाटन, अंतर्राष्ट्रीय कला प्रदर्शनी में भाग लेंगे देश विदेश के 100 कलाकार

जिस प्रकार समय अथवा काल(Time) का अपना प्रवाह होता है, उसी की भांति कला भी अनवरत कलाधारा के रूप में प्रवाहमान होती रहती है। जो वर्तमान के सापेक्ष रूपायित होकर कालान्तर में कालखंडो के रूप में प्रतिबिंबित होता है, जिसकी झलक अतीत के प्रागैतिहासिक व ऐतिहासिक अंकन पर पृष्ठपात करने पर स्वतः हम देख पाते हैं ।

आज भी वैश्विक महामारी के वर्तमान कालपृष्ठ को भी नवोन्मेशी रचनाधर्मी किसी न किसी रूप में कला करते हुए ,उस निरन्तरता को उद्घाटित करने में लगे हुए हैं, जिसे हम अंतहीन सफर के रूप में देख सकते हैं ।

अंतहीन सफ़र (इंडलेस जर्नी) उसी कड़ी से उभरा एक अंतहीन सफर का हिस्सा बन एक अनूठा, अभिनव प्रयास है। जिसे  ऑनलाइन प्रदर्शनी के माध्यम से वैश्विक स्तर पर कलाकारों को ललित कला के क्षेत्र में एक ठोस धरातल प्रदान कर आयोजक मंडल अनिल शर्मा, मूर्तिकार राजेश कुमार, स्नेहलता व मानती शर्मा द्वारा तैयार किया गया है जिसमें राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के लगभग 100 कलाकारों को सूचीबद्ध किया गया है ।

आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है की यह अभिनव प्रयास " इंडलेस जर्नी"  के रूप में उत्तर कोरोनाकाल खंड का एक विशेष पृष्ठ के रूप में परिलक्षित अवश्य होगा। जिस प्रकार समय अथवा काल(Time) का अपना प्रवाह होता है, उसी की भांति कला(Art) भी अनवरत कलाधारा के रूप में प्रवहमान होता है जो वर्तमान के सापेक्ष रूपायित होकर कालान्तर में कालखंडो के रूप में प्रतिबिंबित होता है, जिसकी झलक अतीत के प्रागैतिहासिक व ऐतिहासिक अंकन पर पृष्ठपात करने पर स्वतः हम देख पाते हैं ।

वैश्विक महामारी के वर्तमान कालपृष्ठ को भी नवोन्मेशी रचनाधर्मी किसी न किसी रूप में कला करते हुए ,उस निरन्तरता को उद्घाटित करने में लगे हुए हैं, जिसे हम अंतहीन सफर के रूप में देख सकते हैं ।

Endless journey उसी कड़ी से उभरा एक अंतहीन सफर का हिस्सा बन एक अनूठा, अभिनव प्रयास है। जिसे Online Exhibition के माध्यम से वैश्विक स्तर पर कलाकारों को ललित कला के क्षेत्र में एक ठोस धरातल प्रदान कर आयोजक मंडल अनिल शर्मा, मूर्तिकार राजेश कुमार, स्नेहलता व मानती शर्मा द्वारा तैयार किया गया है जिसमें राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के लगभग 100 कलाकारों को सूचीबद्ध किया गया है ।

आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है की यह अभिनव प्रयास इंडलेस जर्नी ( Endless journey) के रूप में उत्तर कोरोनाकाल खंड का एक विशेष पृष्ठ के रूप में परिलक्षित अवश्य होगा।जिस प्रकार समय अथवा काल(Time) का अपना प्रवाह होता है, उसी की भांति कला(Art) भी अनवरत कलाधारा के रूप में प्रवहमान होता है जो वर्तमान के सापेक्ष रूपायित होकर कालान्तर में कालखंडो के रूप में प्रतिबिंबित होता है, जिसकी झलक अतीत के प्रागैतिहासिक व ऐतिहासिक अंकन पर पृष्ठपात करने पर स्वतः हम देख पाते हैं ।

वैश्विक महामारी के वर्तमान कालपृष्ठ को भी नवोन्मेशी रचनाधर्मी किसी न किसी रूप में कला करते हुए ,उस निरन्तरता को उद्घाटित करने में लगे हुए हैं, जिसे हम अंतहीन सफर के रूप में देख सकते हैं ।

Endless journey उसी कड़ी से उभरा एक अंतहीन सफर का हिस्सा बन एक अनूठा, अभिनव प्रयास है। जिसे Online Exhibition के माध्यम से वैश्विक स्तर पर कलाकारों को ललित कला के क्षेत्र में एक ठोस धरातल प्रदान कर आयोजक मंडल अनिल शर्मा, मूर्तिकार राजेश कुमार, स्नेहलता व मानती शर्मा द्वारा तैयार किया गया है जिसमें राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के लगभग 100 कलाकारों को सूचीबद्ध किया गया है ।

लगभग 100 कलाकारों के इस अन्तर्राष्ट्रीय प्रदर्शनी में कलाकारों ने अपनी कृतियाँ द्वारा  वैश्विक महामारी  कोरोना काल के वर्तमान दौर को श्याम स्वेत (ब्लैक एड ह्वाइट ) के रूप में दर्शाया है यह कलाकारों की अपनी अभिव्यक्ति है।

इस प्रदर्शनी का वर्चुअल उद्घाटन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के पुर्व मुख्य सचिव व मुख्य सलाहकार श्री अंजनी कुमार सिंह 27 मई 2020 को ऑनलाइन अपने संबोधन से करेंगे । इसके पूर्व विदुशी के संगीत कार्यक्रम प्रस्तुत करेंगी।

प्रदर्शनी में भारत के अलावा मिश्र,इजिप्ट,ऑस्ट्रेलिया, बहरीन,यूएस, नेपाल के कलाकारों के साथ भारत के जाने माने वरिष्ठ कलाकारों हिम्मत शाह,जय कृष्ण अग्रवाल, जतिन दास,विजय सिंह,रघुनाथ साहू,ब्रजमोहन आर्य, अमरनाथ शर्मा,रंजीत कुमार,उमेन्द्र प्रताप सिंह,संजीव किशोर गौतम, कृष्णा पाड़िया ,मो सुलेमान सहित युवा कलाकारों की भी विशेष भागीदारी सुनिश्चित है।

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;cff38901a92ab320d4e4d127646582daa6fece06175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;c1ebe705c563d9355a96600af90f2e1cfdf6376b175;250;911552ca3470227404da93505e63ae3c95dd56dc175;250;752583747c426bd51be54809f98c69c3528f1038175;250;ed9c8dbad8ad7c9fe8d008636b633855ff50ea2c175;250;969799be449e2055f65c603896fb29f738656784175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना