Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

आखिर कौन कर रहा है अखबारों को बदनाम!

धान खरीदी केंद्रों से वसूली के लगे हैं आरोप

अय्यूब कुरैशी (साई)/  सिवनी । जिला मुख्यालय के मीडिया में इन दिनों एक चर्चा जमकर चल रही है कि गेहूं और धान उपार्जन केद्रों पर जाकर पत्रकारों द्वारा अवैध वसूली के काम को अंजाम दिया जा रहा है। इस काम में कौन से पत्रकार लगे हैं और धान उपार्जन केंद्र के प्रभारी आखिर क्या गोलमाल कर रहे हैं जो उनके द्वारा पत्रकारों को उपकृत किया जा रहा है!

प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले के मीडिया जगत में इन दिनों एक चर्चा तेजी से चल रही है। यह चर्चा है धान और गेहूं उपार्जन केंद्र पर जाकर उगाही की। बताया जाता है कि जिले के विभिन्न खरीदी केंद्रों में जाकर कुछ लोग न केवल वसूली कर रहे हैं वरन अपने आप को जिले तथा अन्य स्थानों से प्रकाशित होने वाले अखबारों से जुड़ा हुआ बता रहे हैं।

बताया जाता है कि कुछ समाचार पत्रों के कार्यालय (दैनिक हिन्द गजट को नहीं) में इस आशय के गुमनाम पत्र भी भेजे गये हैं। बताया जाता है कि इस पत्र में अनेक समाचार पत्रों के नामों का उल्लेख किया गया है। जबरन वसूली करने वाले अखबारों की फेहरिस्त में दैनिक हिन्द गजट के नाम का भी उल्लेख किया गया है।

बताया जाता है कि तथा कथित पत्रकारों के द्वारा धान और गेहूं उपार्जन केंद्रों के प्रभारियों पर रौब झाड़कर उनसे लंबी रकम की मांग भी की जा रही है। बताया जाता है कि इस तरह की अवैध वसूली में कुछ उपार्जन केंद्र के प्रभारियों के द्वारा तीन से पांच अंकों की राशि भी प्रदाय की गई है।

मीडिया जगत में यह चर्चा भी तेज हो रही है कि जब धान या गेंहूं उपार्जन में लगे प्रभारियों के द्वारा नियमानुसार खरीद की जा रही है तो फिर वे किस बात का नज़राना तथा कथित पत्रकारों को देकर अपनी खाल बचाने का प्रयास कर रहे हैं? इस तरह की वसूली का उपार्जन केंद्र के संचालकों को न केवल प्रतिकार करना चाहिए वरन इसकी पुलिस में रिपोर्ट भी दर्ज कराना चाहिए।

धान या गेहूं खरीद केंद्र के प्रबंधकों सहित अन्य अधिकारी कर्मचारियों एवं पाठकों की सुविधा के लिए दैनिक हिन्द गजट प्रबंधक अपील करता है कि दैनिक हिन्द गजट के नाम से अगर कोई जबरिया वसूली का प्रयास करता है तो तत्काल ही संबंधित पुलिस थाने में इसकी सूचना दें एवं 07692 - 225225 एवं 07692 - 209424 पर इसकी सूचना दें, क्योंकि दैनिक हिन्द गजट के द्वारा इस तरह की अवैध वसूली और पीत पत्रकारिता को कभी प्रश्रय नहीं दिया गया है एवं प्रबंधन इस तरह के कृत्य की निंदा करता है।

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;f5d815536b63996797d6b8e383b02fd9aa6e4c70175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;1549d7fbbceaf71116c7510fe348f01b25b8e746175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना