Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

ज्यादा सूचनाप्रद और भरोसेमंद है प्रिंट मीडिया : प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह

कोच्चि। प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह ने कहा है कि हमारे जीवन में सोशल मीडिया की बढ़ती भूमिका के बावजूद प्रिंट मीडिया का विशेष स्थान है क्योकि यह अधिक विश्वसनीय और बेहतर जानकारी देता है। कल केरल के कोच्चि में मातृभूमि अखबार की 90वे स्थापना दिवस समारोह का उद्घाटन करते हुए उन्होंने कहा कि यह मलयालम अखबार देश में ऐसी पत्रकारिता का उदाहरण है जिस पर लंबे अरसे तक लोगों ने विश्वास किया है।  श्री सिंह ने कहा कि इंटरनेट ने छोटी घटनाओ को भी ऐसी व्यापकता दी है जो मानव इतिहास मे अनसुना है लेकिन फिर भी समाचार पत्र और पकिाओं का विशेष स्थान है क्योकि ये ज्यादा भरोसेमंद और सूचना देने वाला माध्यम हैं।  

      प्रधानमंत्री ने कहा कि हम बहुत अस्थिरता वाले समय मे जी रहे है । और इसके बारे में लगातार रिपोर्ट मीडिया में आती है। अब मीडिया भी समाचार बनाने में योगदान करने लगी है। प्रधानमंत्री डॉक्टर सिंह ने समाज में सामाजिक मीडिया नेटवर्क की बढती भूमिका और महत्व पर प्रकाश डालते  हुये कहा कि सोशल मीडिया का अब सबके जीवन में महत्व बढता जा रहा है।  

प्रधानमंत्री ने मातृभूमि समाचार पत्र की तारीफ करते हुये कहा कि मीडिया जगत में इसे निष्पक्ष, सटीक और वस्तुनिष्ठ होने के लिये जाना जाता है। पत्रकारिता के मूल्यो के प्रति इसकी प्रतिबद्धता ने इसे इतनी सफलता प्रदान की है। उन्होने कहा कि महात्मा गांधी  1934 के जनवरी में मातृभूमि के कार्यालय में आये थे और बाद मे 2010 में उनका यह दौरा पूरे साल तक मनाया जाता रहा। इसी तरह देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू का भी इससे संबंध रहा है। पंडित नेहरू की मलयालम भाषा मे प्रकाशित सामग्री का अब तक इस समाचार पत्र के पास ही कापीराइट है।

डॉक्टर मनमोहन सिंह ने इस अवसर पर एक नया संस्करण जारी किया।इस अवसर पर केरल के राज्यपाल निखिल कुमार, मुख्यमंत्री उम्मन चांडी, केद्रीय खाद्य राज्य मंत्री के वी थामस और राज्य के कई मंत्री भी उपस्थित थे।   

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;f5d815536b63996797d6b8e383b02fd9aa6e4c70175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;1549d7fbbceaf71116c7510fe348f01b25b8e746175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना