Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

नौकरशाही पर देश की पहली हिंदी वेबसाइट

वरिष्ट पत्रकार इर्शादुल हक के नेतृत्व में भारत की पहली हिंदी न्यूजवेबसाइट http://naukarshahi.in/( नौकरशाही डॉट इन) जल्द ही शुरू होगी. उन्होंने बताया कि लोकतंत्र में नौकरशाही का महत्वपूर्ण स्थान है जो नीतियां बनाने से लेकर इन्हें लागू करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है. इसके बावजूद नौकरशाही की पेचीदगियों और बारीकियों से आम लोग अनभिज्ञ ही रहते हैं. ऐसे में पत्रकारिता की यह जिम्मेदारी बनती है कि वह नौकरशाही की बारीकियों और पेचीदगियों से आम लोगों को अवगत कराये. नौकरशाही डॉट इन इसी प्रयास का एक हिस्सा है.

 बीबीसी और तहलका समेत अनेक मीडिया संस्थानों को अपनी सेवायें दे चुके इर्शादुल हक का कहना है कि नौकरशाही डॉट इन आम जन और नौकरशाहों के बीच एक सेतु का काम करेगा. जिससे एक तरफ अधिकारियों को आम जन की जरूरतों और वास्तविक समस्याओं से अवगत होने का अवसर मिलेगा वहीं आम लोगों को इस वेबसाइट के माध्यम से प्रशासनिक तंत्र की पेचीदगियों और अन्य गतिविधियों को जानने में मदद मिलेगी.

 मुख्यसचिव से लेकर ब्लॉक स्तर के अधिकारियों तक और डीजीपी से लेकर एक  हवलदार तक आम लोगों के जीवन पर किसी न किसी न किसी तरह प्रभाव डालते हैं. ऐसे में एक आदमी पूरे  प्रशासनिक तंत्र से किसी न किसी रूप से जुड़ा है. ऐसे में नौकरशाही और आम आदमी के बीच के संबंध को और मजबूत बनाने में यह वेबसाइट महत्वपूर्ण भूमिका निभाने की कोशिश करेगी.

नौकरशाही डॉट इन शुरूआती दिनों में दिल्ली, उत्तरप्रदेश, बिहार,झारखंड. मध्यप्रदेश जैसे हिंदी भाषी राज्यों पर अपना ध्यान केंद्रित करेगा. बाद में अन्य राज्यों की खबरें भी इसमें दी जायेंगी. फिलहाल दिल्ली, बिहार, उत्तर प्रदेश और झारखंड में इसके पत्रकारों की टीम काम कर रही है बाद में अन्य राज्यों के पत्रकारों को भी इससे जोड़ा जायेगा.

सिटी युनिवर्सिटी लंदन और बर्मिंघम विश्वविद्यालय, इंग्लैंड से शिक्षा प्राप्त इर्शादुल हक ने बताया कि नौकरशाही डॉट इन का संचालन सात विशेषज्ञों के एडिटोरियल बोर्ड के द्वारा होगा. इस बोर्ड में रिटार्यड आईएएस, आईपीएस, वरिष्ठ पत्रकार और सामाजिक क्षेत्र में काम करने वाले लोग शामिल हैं. इन नामों की घोषणा जल्द ही की जायेगी.

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;cff38901a92ab320d4e4d127646582daa6fece06175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;c1ebe705c563d9355a96600af90f2e1cfdf6376b175;250;911552ca3470227404da93505e63ae3c95dd56dc175;250;752583747c426bd51be54809f98c69c3528f1038175;250;ed9c8dbad8ad7c9fe8d008636b633855ff50ea2c175;250;969799be449e2055f65c603896fb29f738656784175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना