Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

पत्रिका का मकसद समाज में दरकिनार कर दिए गए लोगों को जागरूक करना

दलित दस्तक का एक साल पूरा होने पर कार्यक्रम

दिल्ली। दलित मुद्दों को प्रमुखता से उठाने वाली दलित दस्तक पत्रिका के सफलता पूर्वक एक साल पूरा होने पर दिल्ली के गांधी पीस प्रतिष्ठान में रविवार को हुए मंथन कार्यक्रम में पत्रिका को और भी बेहतर तरीके से संचालित करने की रूप रेखा तैयार की गई। दिल्ली से प्रकाशित और 12 राज्यों में प्रसारित दलित दस्तक के मंथन कार्यक्रम में जेएनयू के प्रो. विवेक कुमार, समयक प्रकाशन के शांति स्वरूप बौद्ध, लेखक आनंद श्रीकृष्ण, जयप्रकाश कर्दम, सामाजिक चिंतक देवमणि भारतीय, समाजसेवी और लेखिका अनीता भारती के साथ की शिक्षिका पूजा राय ने भी कार्यक्रम में बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया और अपने विचार रखे। कार्यक्रम में कई अन्य समाजसेवी संगठन के कार्यकर्ता, पत्रकार और साहित्यकारों ने भी हिस्सा लिया।

मंथन कार्यक्रम में संपादक अशोक दास द्वारा पत्रिका की एक साल की उपलब्धियों और चुनौतियों को लेकर तैयार की गई एक डाक्यूमेंट्री भी दिखाई गई जो पत्रिका में अब तक की छपी प्रमुख और बड़ी ख़बरों की एक झलक थी। साथ ही डाक्यूमेंट्री में यह भी दिखाया गया कि आईएमसी से निकलने वाला एक दलित छात्र अशोक दास अब समाज को ऐसी रौशनी दिखा रहा है जिस पर दलित पत्रकारों, और बहुसंख्यक समाज को गर्व है। डाक्यूमेंट्री में प्रगति मैदान में लगे दलित दस्तक स्टॉल को लेकर लोकसभा टीवी पर प्रसारित ख़बर और अशोक दास के दिए गए संदेश को भी प्रमुखता से दिखाया गया है। दलित सरोकारों को हर कीमत पर उठाने और दरकिनार कर दिए गए समाज को सचेत करने की कोशिश में जुटी पत्रिका के संपादक अशोक दास का कहना है कि यह पत्रिका उस समाज की है जो अपनी परेशानियों को लेकर मीडिया से रूबरू हो पाना तो दूर मीडिया तक पहुंचने की हिम्मत भी नहीं जुटा पाता है। संपादक अशोक दास के इस साहसिक कार्य को पत्रकारों, समाजसेवी संगठनों, जेएनयू प्रो. विवेक कुमार और शांति स्वरूप बौद्ध समेत हजारों लोगों ने सराहा और पत्रिका के कुशल संचालन के लिए सहयोग का वादा किया है।

दलित दस्तक पत्रिका का मकसद समाज में दरकिनार कर दिए गए लोगों को जागरूक करना और उनको अपने अधिकारों के प्रति सजग करना है। दिल्ली से प्रकाशित पत्रिका अब न केवल देश प्रदेश के बुक स्टालों पर मिलेगी बल्कि रेलवे के एएच व्हीलर एंड कंपनी से करार हो जाने की वजह से कई रेलवे स्टेशनों पर भी उपलब्ध रहेगी।   

अखिलेश कृष्ण मोहन, मीडिया प्रभारी, दलित दस्तक द्वारा जारी विज्ञप्ति  

संपर्क-09554311493

 

 

Go Back



Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;f5d815536b63996797d6b8e383b02fd9aa6e4c70175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;1549d7fbbceaf71116c7510fe348f01b25b8e746175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना