Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

सभी समाचार चैनल सांकेतिक भाषा वाले बुलेटिन भी प्रसारित करें

सूचना और प्रसारण मंत्री ने बधिर लोगों के लिए टी.वी. कार्यक्रमों को देखने में सुविधा हेतु मानक लागू करने की घोषणा की

केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री श्री प्रकाश जावड़ेकर ने बधिर लोगों के लिए टी.वी. कार्यक्रमों को देखने में सुविधा हेतु मानक लागू करने की घोषणा की। यह कार्य शीर्षक लगाने और भारतीय सांकेतिक भाषा के जरिए किया जाएगा। श्री जावड़ेकर ने कल घोषणा करते हुए कहा कि सभी समाचार चैनल सांकेतिक भाषा के साथ कम से कम एक समाचार बुलेटिन प्रतिदिन प्रसारित करेंगे और सभी टीवी चैनल और सेवाप्रदाता कंपनियां कम से कम एक कार्यक्रम प्रति सप्ताह प्रसारित करेंगी जिसमें उप-शीर्षक / शीर्षक लगे होंगे। दिव्यांगों के लिए मोदी सरकार ने एक अहम निर्णय लिया है। जिन्हें सुनने में दिक्कत होती है उनके लिए डी डी न्यूज़ रोज सांकेतिक भाषा (Sign Language) के आधार पर एक बुलेटिन प्रकाशित करता है ऐसी ही पहल सभी निजी चैनल भी करें यह हमने दरख़ास्त की है और उन्होंने भी मंजूर की है। 

लाइव समाचार तथा लाइव खेल, संगीत पुरस्कार समारोह, रिएलिटी कार्यक्रम, विज्ञापन, टेलीशॉपिंग आदि को इन मानकों से छूट दी गई है।

इसे 16 सितंबर, 2019 से लागू किया जाएगा। मानकों का संपूर्ण कार्यान्वयन चरणबद्ध तरीके से अगले पांच वर्षों में किया जाएगा। दो वर्षों के बाद नीति की समीक्षा की जाएगी।

श्री जावड़ेकर ने कहा कि दृष्टिबाधित लोगों के लिए फिल्मों में संवाद के बीच कथावाचन का भी परीक्षण किया जा रहा है। 

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;f5d815536b63996797d6b8e383b02fd9aa6e4c70175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;1549d7fbbceaf71116c7510fe348f01b25b8e746175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना