Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय भारत में सामुदायिक रेडियो के लिए प्रतिबद्ध

दो दिवसीय सामुदायिक रेडियो जागरूकता कार्यशाला में  सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के ​संयुक्त सचिव मिहिर कुमार सिंह ने बताया कि सरकार इसके लिए बहुत सारे लाइसेंस देने के लिए प्रयासत है

पटना /  भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा सीकिंग माडर्न एप्लीकेशंस फॉर रीयल ट्रासफारमेशन (स्मार्ट) के सहयोग से पटना के होटल पाटलिपुत्र कॉन्टिनेन्टल में दो दिवसीय सामुदायिक रेडियो जागरुकता कार्यशाला का आयोजन किया गया। इस कार्यशाला का शुभारंभ 12 दिसम्बर को मिहिर कुमार सिंह, संयुक्त सचिव, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार ने किया। अपने उद्घाटन भाषण में उन्होंने कहा कि सूचना प्रसारण मंत्रालय भारत में सामुदायिक रेडियो के लिए पूरी तरह से प्रतिब्ध है और आने वाले समय में सरकार इसके लिए बहुत सारे लाइसेंस देने के लिए भी प्रयासत है। मिहिर कुमार ने सामुदायिक रेडियो के लाइसेंस की लम्बी प्रक्रिया को छोटा और आसान करने की बात भी कही ताकी ज्यादा से ज्यादा स्वयंसेवी संस्थाए, शिक्षण संस्थान और कृषि विज्ञान केन्द्र भी इसके लिए आवेदन कर सकें।

पटना के ग्रामीण विकास विभाग के सयुक्त सचिव, अरविंद चौधरी भी इस सामुदायिक रेडियो जागरूकता कार्यशाला में शामिल हुए। उन्होनें कहा की सामुदायिक रेडियो अजिविका को बढ़ाने का अच्छा साधन है साथ ही इसके माध्यम से लोगों की कलात्मकता और सक्षमता को भी बढ़ाया जा सकता है।

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के डिप्टी डॉयरेक्टर इंद्रजीत ग्रेवाल ने इस कार्यशाला के माध्यम से यहां पर जितने भी प्रतिभागी आए हैं उन्हें आवेदन और इसके विभिन्न चरणों की विस्तार से जानकारी देते हुए उनकी हर समस्या का समाधान किया।

स्मार्ट एनजीओ की संस्थापक श्रीमती अर्चना कपूर ने सभी प्रतिभागियों का स्वागत करते हुए कहा कि सामुदायिक रेडियो समुदाय द्वारा, समुदाय के लिए समुदाय के हित में काम करता है, जहां श्रोताओं का ही स्वामित्व होता।

 प्रतिभागियों को सामुदायिक कार्यशाला का उद्देश्य को समझाने के लिए एक ग्रुप एक्टिविटी भी की गई। जिसके अन्तर्गत प्रतिभागियों ने समझा की समाज में हाशिये पर खड़े लोग ही उनका लक्ष्य है जिसके लिए उन्हें काम करना है।

इस कार्यशाला में बिहार के अलावा झारखंड, ओड़िसा, पश्चिम बंगाल के विभिन्न जिलों के गैर सरकारी संगठनों के तकरीबन 65 प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया। इस कार्यशाला का स्थानीय सहयोगी इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ बिजनेस मैनजमेंट द्वारा संचालित उत्तम सामुदायिक रेडियो है।

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;f5d815536b63996797d6b8e383b02fd9aa6e4c70175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;1549d7fbbceaf71116c7510fe348f01b25b8e746175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना