Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

हरिदेव जोशी पत्रकारिता और जनसंचार विश्वविद्यालय फिर स्थापित

विश्वविद्यालय के कुलपति हैं ओम थानवी। इसी महीने से प्रवेश, कक्षाएँ अगले माह से

जयपुर/ हरिदेव जोशी पत्रकारिता और जनसंचार विश्वविद्यालय (एचजेयू) फिर स्थापित हो गया है। हम छात्रों को इसी महीने प्रवेश देने जा रहे हैं। कक्षाएँ अगले माह शुरू। फ़िलहाल स्नातकोत्तर (पीजी) के तीन डिग्री और एक डिप्लोमा कोर्स। प्रिंट, इलेक्ट्रोनिक और मीडिया ऑर्गनाइज़ेशन में डिग्री और सोशल मीडिया तथा वैब (ऑनलाइन) पत्रकारिता डिप्लोमा नया पाठ्यक्रम होगा। सोशल मीडिया में रोज़गार की सम्भावनाएँ बहुत बढ़ रही हैं। हर हस्ती, नेता, अभिनेता, खिलाड़ी, उद्यमी, संस्थान आदि को अपने सोशल पन्ने/हैंडल चलाने के लिए पेशेवर लोग चाहिए।

राजस्थान में यह पहला सरकारी विश्वविद्यालय होगा जो स्कूल के फौरन बाद पत्रकारिता की तीन वर्ष की स्नातक शिक्षा देगा। पत्रकारिता और जनसंचार की बुनियादी और आधुनिक समझ। समय और समाज से सरोकार जोड़ने का विवेक। भाजपा सरकार ने पहले ऐसे विश्वविद्यालय को बंद कर दिया था। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने फिर शुरू करवा दिया। जयपुर की ऐतिहासिक इमारत ख़ासा कोठी में, जब तक कि विश्वविद्यालय की अपनी इमारत नहीं बनती। कल मीडिया के साथ बातचीत में मैंने उनके इस जतन और सहयोग की दाद भी दी। बग़ैर परवाह किए कि लोग क्या कहते हैं। संजीदा पत्रकार इस संस्थान में दीक्षित होंगे। मीडिया शिक्षण में यह कमतर अनुष्ठान न होगा।

विश्वविद्यालय में सभी पाठ्यक्रमों में हर विषय के स्नातक विद्यार्थी प्रवेश के पात्र होंगे। प्रवेश लिखित परीक्षा के माध्यम से होगी। राज्य में बारहवीं कक्षा के बाद पत्रकारिता का 3 वर्षीय स्नातक पाठ्यक्रम उपलब्ध कराने वाला यह पहला सरकारी विश्वविद्यालय होगा।

विश्वविद्यालय के कुलपति ओम थानवी की फेसबुक वाल से यह खबर

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;f5d815536b63996797d6b8e383b02fd9aa6e4c70175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;1549d7fbbceaf71116c7510fe348f01b25b8e746175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना