Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

Blog posts : "पत्रिका "

समागम के 19 वर्ष पूर्ण

पत्रिका का नया अंक ‘शब्द सत्ता की शताब्दी’

भोपाल। पंडित माखनलाल चतुर्वेदी द्वारा संपादित ‘कर्मवीर’ के प्रकाशन के सौ वर्ष 17 जनवरी को पूर्ण हो रहा है और 31 जनवरी को डॉ. भीमराव अंबेडकर द्वारा प्रकाशित-सम्पादित पत्रिक…

Read more

सचमुच जन मीडिया की ही वकालत

'जन मीडिया' का जनवरी 2020 अंक

डॉ लीना/ 'जन मीडिया',  जनवरी 2020 का अंक काफी खास है। “हमारा समाज, हमारा शोध” पंचलाइन के साथ सालों से हर महीने प्रकाशित होने वाले 'जन मीडिया' के इस अंक में कश्मीर  मुद्दा, टीवी चैनलों को सेल्फ सेंसरशिप, बीबीसी के शार्ट …

Read more

‘अक्करमाशी’ के अपराधी को भी दंडित करवाएं चित्रा मुद्गल

'कादम्बिनी' पत्रिका के दिसंबर' 2019 अंक में लेखिका चित्रा मुद्गल के आवरण कथा पर कैलाश दहिया की टिप्पणी   

कैलाश दहिया / …

Read more

सामाजिक न्याय की वकालत करता "हम बहुजन"

पत्रिका "हम बहुजन" का प्रवेशांक सितंबर 2019

डॉ लीना/ सामाजिक , शैक्षणिक एवं सांस्कृतिक पत्रिका "हम बहुजन" का प्रवेशांक सितंबर 2019, मौजूदा भारत, संवैधानिक अधिकार  (आरक्षण) और बहुजन समाज को लेकर पाठकों के बीच आया है। हम बहुज…

Read more

अविश्वसनीयता की खबर में मीडिया प्रचारक दिखता है

जन मीडिया का दिसंबर अंक

लीना/ जन मीडिया का 93वां अंक में,  अध्ययन के तहत 'नोटबंदी और प्रॉपर्टी खरीदने बेचने के विज्ञापनों का अध्ययन' किया है संदीप भट्ट और कपिल देव प्रजापति ने। जबकि रजनीश ने  'राखीगढ़ी डीएनए की जानकारी की खबरें: एक प्रचार अभियान' के …

Read more

विलक्षण था बा और बापू का साथ

समागम पत्रिका का अक्टूबर 2019 अंक महात्मा गांधी को समर्पित

संजय कुमार / महात्मा गांधी के 150वीं जयंती वर्ष समारोह की धूम हर और सुनाई पड़ रही है. सरकारी और गैरसरकारी संगठनें बापू की 150वीं…

Read more

रिसर्च जर्नल ‘समागम’ का अक्टूबर अंक गांधी साद्र्धशती पर

आलेख भेजने का आग्रह

भोपाल / महात्मा गांधी के जन्म के डेढ़ सौ वर्ष पूर्ण होने के अवसर पर भोपाल से प्रकाशित रिसर्च जर्नल ‘समागम’ का अक्टूबर अंक ‘गांधी साद्र्धशती’ पर केन्द्रित होगा. लगभग 100 पृष्ठों का यह विशेष अंक महात्मा के विविध आयामों पर केन्द्रित होगा.…

Read more

तेलुगु मीडिया पर केंद्रित है मीडिया विमर्श का नया अंक

भारतीय भाषाओं की पत्रकारिता में अंतरसंवाद और समन्वय के उद्देश्यों से मीडिया विमर्श भारतीय भाषाओं की पत्रकारिता पर शोधपरक सामग्री देने का प्रयास अपने जन्म से ही कर रही है। मीडिया विमर्श ने उर्दू पत्रकारिता और गुजराती पत्रकारिता के बाद तेलुगु मीडिया पर केंद्रित विशेषांक का प्रकाशन किया है।…

Read more

समागम का नया अंक बैरागी पर

समागम का जून अंक बाल कवि बैरागी पर केन्द्रित है। इस शोध पत्रिका के सम्पादक मनोज कुमार बताते हैं कि देश के सुपरिचित कवि एवं प्रतिष्ठित राजनेता बालकवि बैरागी अचानक हमारे बीच में नहीं रहे। यह हमारे लिए गहरा आघात है। जाने कब और कैसे हम उनसे जुड़ गए, खबर ही नहीं हुई। ऐसा अपना…

Read more

‘समागम’ का नया अंक रेडियो पर

आकाशवाणी की सिग्नेचर ट्यून, किसने, कब बनाई शायद आपको ना मालूम हो, आप तो शायद यह भी भूल गए होंगे कि बिनाका गीत माला और सिबाका गीत माला बाद के दिनों में सिबाका-कॉलेगेट गीतमाला के नाम से प्रसारित होता था. कुछ ऐसी ही अनुछुई और भूल चुके यादों को साथ लेकर आया है रिसर्च जर्नल ‘समागम’ का नया अंक ‘रेडियो की …

Read more

‘समागम’ पत्रिका 18वें वर्ष में

भोपाल। रिसर्च जर्नल ‘समागम’ ने अपने निरंतर प्रकाशन के 17 वर्ष पूर्ण कर लिया है. 17वें साल का आखिरी अंक जनवरी-2018 का महात्मा गांधी के ग्राम स्वराज एवं विवेकानंदजी के शिकागो भाषण के सवा सौ साल पूर्ण होने पर केन्द्रित है. फरवरी 2018 में ‘समागम’ रेडियो पर केन्द्रित होगा और यह अंक 18वें वर्ष…

Read more

"समागम" जीवनभर, मात्र 15सौ में

भोपाल/ शोध पत्रिका समागम फरवरी 2018 में 18वे साल में प्रवेश कर रही है। पत्रिका के सम्पादक मनोज कुमार ने बताया कि इस अवसर पर लाइफ मेम्बरशिप 3000 रुपये के स्थान पर मात्र 1500 में दिया जाएगा। साथ में दो मानक स्तर के शोध पत्र का प्रकाशन भी किया जाएगा। समागम यूजीसी से एएप्रूव्ड रिसर्च जर्नल है।…

Read more

लोकसंस्कृति विशेषांक है साहित्य अमृत का नया अंक

नयी दिल्ली/ हिन्दी साहित्य की प्रख्यात पत्रिका ‘साहित्य अमृत’ के इस माह लोकसंस्कृति विशेषांक में देश में करीब 36 क्षेत्रों की लोकसंस्कृतियों को अनूठे ढंग से संग्रहीत किया गया है तथा इसके साथ एक-डेढ़ सदी पहले प्रवासियों के साथ विश्व के अनेक भागों में फैली भारतीय संस्कृति और 1947 में…

Read more

समागम’ का जून अंक नर्मदा नदी पर केन्द्रित

शोध पत्र एवं आलेख आमंत्रित

भोपाल/ शोध एवं संदर्भ की मासिक पत्रिका ‘समागम’ जून-2017 का अंक पर्यावरण की दृष्टि से नर्मदा नदी पर केन्द्रित है. मध्यप्रदेश सरकार द्वारा 144 दिनों की नमामी नर्मदे सेवा यात्रा के विभिन्न आयामों एवं पर्यावरणीय संदर्भों…

Read more

‘समागम’ का विशेष अंक चम्पारण सत्याग्रह पर

100 साल पहले एक व्यक्ति ने चम्पारण में अलख जगायी थी. ना हाथ में लाठी-बंदूक थी और न जुबान पर कड़ुवी बोली. एक अहिंसक सत्याग्रह ने अंग्रेजी शासन को झकझोर कर रख दिया. आज इसी आंदोलन को पूरी दुनिया चम्पारण सत्याग्रह के नाम से जानती है. यह हमारी पीढ़ी के लिए गौरव की बात है कि हमें अवसर मिला है कि संसार को …

Read more

विभोम-स्‍वर का नया अंक ऑनलाइन उपलब्‍ध

विभोम-स्‍वर का जनवरी-मार्च 2017 अंक अब ऑनलाइन उपलब्‍ध है। इस अंक में शामिल है, संपादकीय। मित्रनामा। साक्षात्कार- उषा प्रियंवदा से सुधा ओम ढींगरा की बातचीत। कहानियाँ - पुनर्जन्म प्रतिभा, छोटा-सा शीश महल अरुणा सब्बरवाल, वसंत लौट रहा है कविता विकास, किस ठाँव ठहरी है-डायन ? प्रेम गुप्ता ‘मानी’ । लघुकथाए…

Read more

मध्यप्रदेश-छत्तीसगढ़ के स्थापना दिवस पर ‘समागम’ का विशेष अंक

एक नवम्बर को मध्यप्रदेश का 61वां स्थापना दिवस है. आज से 60 वर्ष पूर्व 1956 को मध्यप्रदेश का गठन हुआ था. तब इस प्रदेश की कोई एकजाई पहचान थी तो यह कि यह प्रदेश भौगोलिक रूप से देश का सबसे बड़ा प्रदेश है और भारत के नक्शे में ह्दयप्रदेश के रूप में चिंहित था. हमारे मध्यप्रदेश ने हौले हौले विकास के रास…

Read more

विभोम-स्‍वर का अक्टूबर-दिसम्बर अंक उपलब्‍ध

विभोम-स्‍वर का अक्टूबर-दिसम्बर 2016 अंक अब ऑनलाइन उपलब्‍ध है।

इस अंक में शामिल है :- संपादकीय। मित्रनामा। साक्षात्कार- कादंबरी मेहरा (सुधा ओम ढींगरा)। कहानियाँ- क्या आज मैं यहाँ होती.... (नीरा त्यागी ),…

Read more

जनवरी 2016 में ‘समागम’ का यह अंक विशेष

शोध पत्रिका ‘समागम’ ने वर्ष 2000 में जो यात्रा आरंभ की थी, वह सफलतापूर्वक जारी है. जनवरी 2016 में ‘समागम’ का यह अंक विशेष संदर्भ के साथ प्रकाशित किया गया है. 30 जनवरी को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्यतिथि है और इसी तारीख पर दादा माखनलाल चतुर्वेदी की भी. संभवत: एक तारीख …

Read more

'हिन्‍दी चेतना' का अक्‍टूबर-दिसम्‍बर अंक उपलब्‍ध

कैनेडा से प्रकाशित त्रैमासिक साहित्यिक पत्रिका 'हिन्‍दी चेतना' का अक्‍टूबर-दिसम्‍बर 2015 अंक (वर्ष : 17, अंक : 68) अब इंटरनेट पर उपलब्‍ध है। इस अंक में शामिल है- सम्पादकीय ( श्‍यामत्रिपाठी), उद्गार, कहानियाँ : चाहत की आहट ( पुष्पा सक्सेना ), बस, अब बहुत हुआ ! (मंजुश्री ), चायना बैंक (रामगोपाल भा…

Read more

20 blog posts

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;cff38901a92ab320d4e4d127646582daa6fece06175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;c1ebe705c563d9355a96600af90f2e1cfdf6376b175;250;911552ca3470227404da93505e63ae3c95dd56dc175;250;752583747c426bd51be54809f98c69c3528f1038175;250;ed9c8dbad8ad7c9fe8d008636b633855ff50ea2c175;250;969799be449e2055f65c603896fb29f738656784175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना