Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

‘रेवान्त’ का जुलाई-दिसम्बर 2013 अंक प्रकाशित

लखनऊ। ‘रेवान्त’  का  जुलाई-दिसम्बर 2013 अंक प्रकाशित होगया है । इस  नये अंक में आप पढ़ सकते हैं, संपादकीय के तहत शोक को शक्ति में बदलना है तय करो, किस ओर हो तुम ?  धरोहर में प्रेमचंद का 1930 में प्रकाशित ‘हंस’ के पहले अंक का संपादकीय ‘हंस-वाणी’ और राजेन्द्र यादव का 1986 में ‘हंस’ के पुर्नप्रकाशित अंक का संपादकीय ।

‘प्रत्यय’ सक्षात्कारः स्त्री लेखन और स्त्री विमर्श पर डॉ मैनेजर पाण्डेय से वार्ता।  वहीं, लेख में , 21 वीं सदी के उपन्यासों में बाजारवाद और स्त्री: रविकान्त, ‘काल से होड़’ के अन्तर्गत सुभाष राय और शंभु बादल की कविताएं ।

तेजेन्द्र शर्मा, महेन्द्र भीष्म तथा दीप्ति गुप्ता की कहानियां ।  चन्द्रेश्वर, भगवान स्वरूप कटियार, अनामिका चक्रवर्ती, उपमा सिंह, राजकुमारी, मीनू मधुर तथा गायत्री सिंह की कविताएं । संघर्ष: इरोम शर्मिला के संघर्ष के तेरह साल: कौशल किशोरऔर   टिप्पणी: रवीन्द्र वर्मा के उपन्यास ‘एक डूबते जहाज की अन्तर्कथा’ पर प्रताप दीक्षित।

पत्रिका : ‘रेवान्त’

प्रधान संपादक: कौशल किशोर

संपादक: डॉ अनीता श्रीवास्तव

एक प्रति: 25 रुपये, वार्षिक: 200 रुपये
पत्रिका के नये अंक के लिए इस मोबाइल पर संपर्क करें: 9839356438, 9807519227 

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;f5d815536b63996797d6b8e383b02fd9aa6e4c70175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;1549d7fbbceaf71116c7510fe348f01b25b8e746175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना