Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

Blog posts : "बहस "

ब्राह्मण की सीख में पुराण पाथते पिछड़े

कैलाश दहिया/ ब्राह्मणी प्रभाव में पिछड़े वर्ग के कथित साहित्यकारों का दिमाग कैसे काम कर रहा है, इसे अश्विनी कुमार पंकज की लिखत से समझा जा सकता है। इन्होंने अपनी दिनांक 04 जुलाई, 2022 की  फेसबुक पोस्ट में लिखा है- "आ रहा है आजीवक मक्खलि गोसाल के दर्शन और संघर्ष पर केंद्रित हमारा त…

Read more

नामवर की मानसिकता और पिछड़ों के नामवर

कैलाश दहिया/ हिंदी साहित्य में आजकल एक चलन हो गया है, अगर कोई पुरस्कार लेना हो या नाम कमाना हो तो डॉ. धर्मवीर का विरोध करना शुरू कर दो। दलितों के साथ-साथ पिछड़ों में भी यह प्रथा पिछले एक-डेढ़ दशक से देखी जा रही है। द्विज तो हैं ही दलित विरोधी।…

Read more

समाजवाद की आड़ में जारकर्म समर्थक का चेहरा

कैलाश दहिया/ आर.डी. आनंद ने दिनांक 25 मार्च, 2021को अपनी फेसबुक वॉल पर 'आम्बेडकरवादी और आजीवक' शीर्षक से अपना लेख लगाया है। सर्वप्रथम तो, इन के लेख का शीर्षक ही गलत है। आजीवक एक कंप्लीट धर्म है, जो अपने पर्सनल कानूनों के साथ दलितों की समस्याओं को हल करता आया है। इस के विपरीत अंबे…

Read more

दलित आंंदोलन के विरोधियों को आजीवक चिंतकों का डर होना ही चाहिए!

अरुण आजीवक/ बाबा साहेब डा. अम्बेडकर ने कहा था 'समाज की प्रगति उस समाज के महिलाओं की प्रगति से मापना चाहिए।' इसी तर्ज पर यह भी कहा जा सकता है कि समाज की मजबूती उस समाज के साहित्य से भी तय होती है।…

Read more

जारकर्म की डाइवर्सिटी मांगते दुसाध

कैलाश दहिया/ यह अच्छी बात है कि सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों के दिमाग पकड़ में आ रहे हैं। मैंने 02 फरवरी, 2021 को फेसबुक पर अपनी निम्नलिखित पोस्ट डाली थी...…

Read more

जार चिंतन शिरोमणि- अर्थात्, प्रेम कुमार मणि

कैलाश दहिया/ पिछड़ों के विचारक प्रेम कुमार मणि ने 4 सितंबर, 2020 को अपनी फेसबुक वॉल पर 'यह जार चिंतन क्या है?' शीर्षक से अपना लेख लगाया है। बताया जाए, सर्वप्रथम तो इन का यह शीर्षक ही गलत है। यह होना चाहिए था 'यह दलित चिंतन या मोरल चिंतन क्या है?' यह भी बताया जा सकता है कि इस मोरल…

Read more

दलित साहित्य में अड़ंगे लगाते द्विज

कैलाश दहिया / द्विज आलोचक नंद किशोर नवल का एक साक्षात्कार हिन्दी पत्रिका ‘तहलका’ के 1-15, सितंबर, 2012 अंक में छपा है, जिसे इसकी वेबसाइट पर भी देखा जा सकता है। जैसा कि होता आया है, इन्होंने मुखौटा तो प्रगतिशील-उदारवादी का ओढ़ा हुआ है, लेकिन उस मुखौटे के नीचे एक सामंत छुपा बैठा ह…

Read more

भारतीय मीडिया में विदेशी एजेंट

यह तथ्य कमोवेश सबको ज्ञात हैं कि भारतीय मीडिया का एक बडा तबका अपनी आजीविका विदेशियों की ऐजेंटी से चलाता है। हर एक समाचार पत्र का पाठक या टेलीविजन का जागरूक दर्शक यह जानता है कि मीडिया में एक तबका है जो अमेरिका की भारत से ज्यादा चिंता करता है तथा उसके लिये …

Read more

लो, ब्राह्मणों की बुधिया तो पकड़ी गई

 कैलाश दहिया12 सितम्बर 2005, प्रखर आजीवक (दलित) चिन्तक डा. धर्मवीर की आलोचना की किताब प्रेमचंद: सामंत का मुंशीका लोकार्पण का…

Read more

आखिर क्यों पढ़ें डा. धर्मवीर का साहित्य

कैलाश दहिया / डा. धर्मवीर का साहित्य क्यों पढ़ें? यह कोई छोटा सवाल नहीं, बल्कि हिन्दी साहित्य का केन्द्रीय प्रश्न है। हिन्दी साहित्य या किसी भी भाषा के साहित्य का मूलभूत प्रश्न क्या है? या, साहित्य क्यों लिखा और पढ़ा जाता है? ऐसे ही सवालों के बीच डा. धर्मवीर के साहित्य की पर…

Read more

10 blog posts

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;e3113b18b05a1fcb91e81e1ded090b93f24b6abe175;250;cb150097774dfc51c84ab58ee179d7f15df4c524175;250;a6c926dbf8b18aa0e044d0470600e721879f830e175;250;13a1eb9e9492d0c85ecaa22a533a017b03a811f7175;250;2d0bd5e702ba5fbd6cf93c3bb31af4496b739c98175;250;5524ae0861b21601695565e291fc9a46a5aa01a6175;250;3f5d4c2c26b49398cdc34f19140db988cef92c8b175;250;53d28ccf11a5f2258dec2770c24682261b39a58a175;250;d01a50798db92480eb660ab52fc97aeff55267d1175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;cff38901a92ab320d4e4d127646582daa6fece06175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;c1ebe705c563d9355a96600af90f2e1cfdf6376b175;250;911552ca3470227404da93505e63ae3c95dd56dc175;250;752583747c426bd51be54809f98c69c3528f1038175;250;ed9c8dbad8ad7c9fe8d008636b633855ff50ea2c175;250;969799be449e2055f65c603896fb29f738656784175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना