Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

राजनीतिक खेमे में पटना के पत्रकार ?

फेंकूडॉटकॉम को लेकर खींचतान

पटना। लांचिग के साथ ही विवादों में आ गया है फेंकूडॉटकॉम। कल धूमधाम से लांचिग के बाद शहर के दूसरे कई पत्रकारों ने कहा कि गुजरात के मुख्यमंत्री के विरोध में यह सनसनी फैलाकर सस्ती लोकप्रियता हासिल करने की कोशिश है। उनका कहना है कि ऐसा कर मीडिया में ‘फूंक-फांक डाट काम’ सनसनी न फैलाये।

गौरतलब है कि कल ही डबल्यूडबल्यूडबल्यूफेंकूडॉटकॉम बेवसाइट को लांच किया गया। पटना से प्रकाशित एक प्रमुख अखबार ने नरेंद्र मोदी विरोधी इस खबर को प्रमुखता से जगह दी है। राज्य के वारिष्ठ साहित्यकारों और बुद्धिजीवियों के हाथों की गई लांचिग की खबर सचित्र प्रकाशित की गई है। अखबार की खबर से यह बात सामने आती है कि यह वेबसाइट कथित तौर पर गुजरात मॉडल की उन सच्चाइयों को जनता के बीच लाने के लिए लाई गई है, जिनसे जिससे लोग वाकिफ नहीं हैं।

इसके बाद आज बिहार के कई पत्रकारों की ओर से ज्ञानवर्द्धन मिश्र द्वारा हस्ताक्षरित एक बयान जारी किया गया है, जिसमें बेवसाइट की आलोचना की गई है।  

देखिए जारी बयान

बिहार के कई पत्रकारों ने कहा है कि गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी के विरोध में जो शक्तियां लगी हैं वे चुकी हुई हैं। फूंक-फांक काम जैसी वेबसाईट अनावश्यक रूप से मीडिया मे सनसनी फैलाकर सस्ती लोकप्रियता हासिल करने की कोशिश में है।

वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन आफ बिहार के संरक्षक और वरिष्ठ पत्रकार ज्ञानवर्द्धन मिश्र, अशोक विचार मंच के अध्यक्ष रंजन सिंह और वरिष्ठ पत्रकार राकेश प्रवीर ने आज यहां जारी एक संयुक्त बयान मे कहा कि ‘‘      नरेन्द्र मोदी का सच लाएगी फेंकू.काम’’ पढ़कर कहा जा सकता है कि देश की राजनीति आज एक ऐसे दोराहे पर खड़ी है जहां से दो रास्ते जाते हैं - एक नरेन्द्र मोदी की ओर और दूसरा नरेन्द्र मोदी से दूर। कहने की जरूरत नहीं कि राजनीति का सन्दर्भ आज सिर्फ और सिर्फ नरेन्द्र मोदी हैं, दूसरा कोई नहीं। उनको लेकर विरोध की धारा जितनी प्रबल है, उससे कहीं अधिक वेगवान है उनके समर्थन की धारा। नरेन्द्र मोदी अपनी संकल्प-शक्ति और कार्य प्रणाली से देश के युवाओं का दिल जीतते चले जा रहे हैं, उनकी इस लोकप्रियात से घबराकर उनके विरोधी अनर्गल प्रलाप कर रहे हैं।

पत्रकारों ने संयुक्त बयान में कहा है कि फेंकू. काम जैसी वेबसाइट के प्रवर्तकों को बखूबी पता है कि आज जनता की मांग क्या है। सर्च इंजिनों पर सबसे ज्यादा खोज नरेन्द्र मोदी के नाम की होती है, इसके बाद ही किसी और राजनेता का नाम आता है। इसी बात का लाभ उठाकर कुछ लोग अपने वेबसाईट पर हिट बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं जो लोग इंटरनेट से वाकिफ हैं, वे जानते हैं कि कोई वेबसाईट सिर्फ एक जगह से ही लांच हो सकती हैं, इसके साथ ही उसकी पहुंच विश्व भर में हो जाती है, जबकि इस साईट के करता-धरता इसे 19 शहरों से लांच हुआ बात रहे है। बात को बढ़ा-चढ़ा कर कौन रख रहा है, यह इसी से समझा जा सकता है। फेंकू वे हैं या कोई और।

साहित्यकार समाज के लिये होता है सियासत के लिए नहीं। राजनीति का लबादा ओढ़ लोग जिस प्रकार से साहित्य और साहित्यकार का प्रर्वतक होने का स्वांग भरकर राजनीति में शिरकत कर रहे हैं यह लोकतंत्र के लिए एक अशुभ संकेत है।

 

 

Go Back



Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;cff38901a92ab320d4e4d127646582daa6fece06175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;c1ebe705c563d9355a96600af90f2e1cfdf6376b175;250;911552ca3470227404da93505e63ae3c95dd56dc175;250;752583747c426bd51be54809f98c69c3528f1038175;250;ed9c8dbad8ad7c9fe8d008636b633855ff50ea2c175;250;969799be449e2055f65c603896fb29f738656784175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना