Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

मंडीदीप में आयोजित पत्रकार कार्यशाला सम्पन्न

प्रदेश में समाज सेवा के लिए संतोष गंगेले सम्मानित 

मंडीदीप (रायसेन)। एच ई जी ग्रेफाइड स्कूल में मंडीदीप प्रेस ऐसोसिएशन के तत्वाधान में एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया, इसमे प्रशिक्षण देने के लिए मुख्य अतिथि के रूप में नई दिल्ली से प्रेस काउंसिलिंग आफ आल इंडिया के मेंबर श्री राजीब रंजन आए। विशिष्ट अतिथि गणेश शंकर विधार्थी प्रेस क्लब मध्य प्रदेश के प्रांतीय अध्यक्ष श्री संतोष गंगेले और माखन लाल चतुर्वेदी यूनिवर्सिटी के पूर्व विभागाध्यक्ष कमल दीक्षित थे तो कायर्क्रम की अध्यक्षता वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष राधाबलव शारदा जी ने की।   

प्रदेश स्तरीय पत्रकारिता की कार्यशाला में मुख्य अतिथि श्री राजीब रंजन ने कहा कि पत्रकारिता में अपने जीवन के 30- 35 वर्षो के अनुभव के आधार पर देश को बनाने में मीडिया की अहम भूमिका पर प्रकाश डाला और बताया कि आज कुछ लोगो ने मीडिया को व्यवसाय बना दिया है जबकि एक समय था की गिने चुने अख़बार हुआ करते थे और उनमे खबर होती थी आज खबर होती क्या है, इसका विश्वास ही नही बचा है। संवाददाता पर प्रेस मालिकों का दबाव बिजनेस के लिए होता है जबकि अख़बार या चैनल कोई बिजनेस के लिए नही। मीडिया चौथा स्तम्भ देश की वस्तु स्थिति को भांप कर जनता की आवाज को सरकार तक पहुंचाने और सरकार की योजनाओं को पब्लिक तक पहुंचाने के लिए होते है आज संवाददाता के परिवार के लिए कोई प्रेस मालिक नही सोचता जबकि उसके परिवार चलाने की जिम्मेदारी भी प्रेस मालिक की है।

इसका मुख्य कारण पत्रकारों में एकता का आभाव है। एक स्थान के एक पत्रकार ने अपने अधिकारों की बात की तो उसकी छुट्टी हो जाती है और अनेक दूसरे पत्रकार अपनी जुगाड़ लगाने लगते है। यही सबसे बड़ी विडंबना है। उनके साथ भोपाल से आये वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष राधाबलव शारदा ने भी अपने जीवन के तीस साल के अनुभवों को साझा किया। उन्होंने कहा कि एक पत्रकार अपनी जान जोखिम में डाल कर खबर लाता है और प्रेस में कैसे उन खबरों को तोड़ मरोड़ दिया जाता है जिसे पहचानना भी मुशिकल हो जाता है। आज मीडिया का कुछ लोग कई प्रकार से दुरूपयोग भी करने लगे हैं जिससे हमे बचना है और हमे अपनी जिम्मेदारी भी पूरी करनी है ऐसी परिस्थिति में कई परेशानियां भी आती है उनसे अपने विवेक से हल करना होगा।

विशिष्ट अतिथि - गणेश शंकर विद्यार्थी प्रेस क्लब के प्रदेश अध्यक्ष संतोष गंगेले ने कहा की पत्रकारिता के साथ -साथ प्रत्येक संपादक /पत्रकार को निःस्वार्थ भाव से  समाज सेवा को जीवन में स्थान देना चाहिए। उन्होंने बताया कि भारतीय संस्कृति की रक्षा के लिए प्रेस से अच्छा संस्थान कोई और नहीं हो सकता है। साहित्य व पत्रकारिता के माध्यम से देश को आजादी मिली थी आज पुनः एक और आजादी की आवश्यकता है, ग्रामीण व कस्बाई पत्रकारिता के महत्व पर प्रकाश डाला। साथ ही पत्रकारों की मदद सम्मान और जो पत्रकार अपने कार्य को अंजाम देते हमारे बीच से चले जाते है उनके लिए हमारे कर्तव्य पर प्रकाश डाला।

व्रह्मकुमारी विश्विद्यालय आश्रम की भोपाल संभाग की संचालिका रीना बहन ने भी पत्रकारों की सही दिशा को समझ कर उसे तय करने पर जोर दिया और कहा कि जब हमारी दिशा सही होगी तो दशा भी सही होगी। माखन लाल चतुर्वेदी यूनिवर्सिटी के पूर्व विभाग अध्यक्ष कमल दीक्षित जी ने आजादी और वर्तमान पत्रकारिता के अंतर को विस्तार से समझाते हुए सामाजिक पत्रकारिता पर जोर दिया।  

इस अवसर पर मंडीदीप प्रेस ऐसोसिएशन ने समाज सेवा व सामाजिक समरसता के लिए छतरपुर जिला से पधारे गणेश शंकर विद्यार्थी प्रेस क्लब के प्रदेश अध्यक्ष संतोष गंगेले को आयोजन समिति को ओर से सम्मानित किया गया।  समस्त अतिथियों एवं रायसेन भोपाल ओबेदुल्लागंज अकोदिया उज्जैन छिन्दबाड़ा खंडवा से आये समाज सेवी बी दी यादव सहित नगर के वरिष्ठ पत्रकारों एवं कार्यक्रम में संचालन कर रहे संगीतकार कृष्ण पंडित को मेमोरंडम भेंट कर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम के आयोजन में अहम भूमिका निभाने बाले अध्यक्ष हरभजन जांगड़े जिलाध्यक्ष प्रकास दुवे उपाध्यक्ष अश्शू खान कोषाध्यक्ष आशीष मिश्रा सचिव रोहित ठाकुर को मगणेश शंकर विद्यार्थी प्रेस क्लब के प्रदेश अध्यक्ष संतोष गंगेले ने अपने संगठन की ओर से आयोजन समिति के सभी साथियों को शील्ड व प्रमाण पत्र दे कर सम्मानित किया। मंडीदीप प्रेस ऐसोसिएशन ने आयोजन में पधारे सभी अतिथियों  व पत्रकारों को साहित्य व प्रतीक चिन्ह देकर सभी का आभार व्यक्त किया।

 

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;f5d815536b63996797d6b8e383b02fd9aa6e4c70175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;1549d7fbbceaf71116c7510fe348f01b25b8e746175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना