Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

मोबाइल पर मिलेंगे ब्लड डोनर!

स्वैच्छिक रक्तदाताओं की जानकारी उपलब्ध कराने वाले देश के पहले मोबाइल एप्लीकेशन का शुभारम्भ

मेरठ । स्वैच्छिक रक्तदाताओं की जानकारी उपलब्ध कराने वाले देश के पहले मोबाइल एप्लीकेशन का शुभारम्भ रविवार को मेरठ में किया गया। आपातकाल, दुर्घटना तथा आवश्यकता के समय अपने करीब, अपने ही क्षेत्र में स्वैच्छिक रक्तदाताओं की जानकारी प्रदान करने के उद्देश्य से भारत वर्ष की स्वैच्छिक रक्तदाताओं की सबसे बड़ी संस्था www.friends2support.org  द्वारा आपातकाल में मोबाइल पर ही रक्तदाताओं की सूची प्रदान करने के उद्देश्य से इस मोबाइल एप्लीकेशन का निर्माण किया गया है।

रिश्तों की पहचान करता है रक्त।

हरपल न जानें कितनी जिन्दगी बचाता है रक्त।।

करने को तो कुछ भी देना दान है।

लेकिन महादान बन जाता है रक्त।।

अधिक से अधिक युवा इस एप्लीकेशन का फायदा लोगों तक पहुचायें तथा स्वयं को भी ऐच्छिक रक्तदाता के रूप में पंजीकृत करायें, इसीलिए आधुनिक तकनीक से युक्त सभी मोबाइल के लिए जैसे- एंड्रायड, विन्डोज, जावा, आईफोन के लिए विभिन्न एप्लीकेशन तैयार की गई है। गौरतलब है कि स्वैच्छिक रक्तदाताओं की जानकारी उपलब्ध कराने वाला यह देश का पहला एप्लीकेशन है। यह एप्लीकेशन केरल, कर्नाटक, आन्ध्र प्रदेश तथा दिल्ली के चार 18 से 30 आयु वर्ग के इंजीनियर ने मिलकर तैयार किया है।

इस एप्लीकेशन का शुभारम्भ www.friends2support.org  संस्था के क्षेत्रीय निदेशकों, स्थानीय अधिकारियों द्वारा केरल, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, तिरूपुर, दिल्ली तथा उत्तर प्रदेश (मेरठ) में किया गया।

आज मेरठ में एप्लीकेशन को औपचारिक रूप से के॰पी॰ सिंह सदस्य, ग्रामीण कार्यक्रम सलाहकार समिति दूरदर्शन आकाशवाणी (कृषि एवं गृह एकांश) नई दिल्ली द्वारा मानव अधिकार संवर्धन संस्था के पंजीकृत कार्यालय, बी-24 कुंज विहार मेरठ पर किया गया।

संस्था के क्षेत्रीय निदेश निकित माहेश्वरी ने उपस्थित गणमान्य व्यक्तियों को बताया कि आपातकाल स्थिति तथा दुर्घटना के समय कई बार शहर के ब्लड बैंक के पास भी नेगेटिव रक्त उपलब्ध नहीं होता है ऐसी स्थिति में यह एप्लीकेशन सच्चे मित्र के रूप में रक्तदाता की जानकारी उपलब्ध करायेगी।

माहेश्वरी ने बताया कि www.friends2support.org  वेबसाइट की शुरूआत 14 नवम्बर, 2005 को कुछ आई॰टी॰ प्रोफेशनल तथा समाजसेवी व्यक्तियों द्वारा हैदराबाद (आन्ध्र प्रदेश) से की गई थी, उस समय मात्र 200 ब्लड डोनर पंजीकृत थे, और आज 7 वर्ष पूरे होने के बाद संस्था के पास 1 लाख से भी अधिक स्वैच्छिक रक्तदाता उपलब्ध हैं। संस्था के लिए गर्व का विषय है कि इन रक्तदाताओं द्वारा सम्पूर्ण भारत वर्ष में अब तक 1 लाख 50 हजार से भी अधिक व्यक्तियों को रक्त दिलाया तथा जान बचायी गई है, इसी कारण संस्था ‘‘लिम्का बुक ऑफ रिकार्डस’’, ‘‘इण्डिया बुक रिकार्डस’’, ‘‘एशिया बुक ऑफ रिकार्डस’’ आदि जगह अपनी उपलब्धि दर्ज करा चुकी है।

F2S मोबाइल एप्लीकेशन को कोई भी व्यक्ति निःशुल्क www.friends2support.org  से डाउनलोड कर सकता है। आपात काल में 9457010101 तथा 9997754441 पर सम्पर्क किया जा सकता है।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के॰पी॰ सिंह ने बताया कि आंकड़े बताते हैं कि ‘‘हर दो सेकण्ड में भारत में किसी को रक्त की आवश्यकता पड़ती है। भारत में आवश्यकता का मात्र 60 प्रतिशत रक्त ही उपलब्ध हो पाता है, तथा शेष लगभग 40 प्रतिशत लोग रक्त प्राप्त नहीं कर पाते। ऐसी स्थिति में यह मोबाइल एप्लीकेशन मील का पत्थर साबित होगा। ’’

मानव अधिकार संवर्धन संस्था के संस्थापक डॉ॰ जी॰एस॰ गोस्वामी तथा मेरठ इंस्टीटयूट ऑफ आर्ट एण्ड क्राफ्ट की निर्देशिका श्रीमति निशा शर्मा, प्रीति पाण्डे, एकता विश्नोई, बबीता गोस्वामी, धमेन्द्र चौधरी, धीरज, सुमित शर्मा, आशीष कुमार श्रीवास्तव, मुकुल चौधरी, विनोद कुमार आदि ने इस अनोखे मोबाइल एप्लीकेशन के सफल शुभारम्भ पर हर्ष जताया। कार्यक्रम को सफल बनाने में मोहित राघव तथा उदित माहेश्वरी का विशेष योगदान रहा।

 

 

 

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;f5d815536b63996797d6b8e383b02fd9aa6e4c70175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;1549d7fbbceaf71116c7510fe348f01b25b8e746175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना