Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

‘तस्वीर जिंदगी के’ भोजपुरी का पहला ग़ज़ल एलबम

मुंबई। भोजपुरी में पहली बार ग़ज़ल सुनने को मिलेगा। टी-सीरीज ने ‘तस्वीर जिंदगी के’ नामक भोजपुरी ग़ज़ल रिलीज किया है। इस ग़ज़ल को स्वर दिया है प्रतिभा-जननी सेवा संस्थान के सांस्कृतिक सचिव व ग़ज़ल गायक सरोज सुमन ने। मनोज भावुक के रचे इन गज़लों को ऑडियो फार्म में लाने का कॉन्सेप्ट प्रतिभा-जननी सेवा संस्थान के चेयरमैन मनोज सिंह राजपूत का है। अपने इस एलबम के बारे में बताते हुए मनोज सिंह राजपूत  ने कहा कि हम देश को प्रत्येक स्तर पर स्वस्थ करना चाहते हैं। मनुष्य को स्वस्थ रखने के लिए स्वस्थ मनोरंजन का होना  भी बहुत जरूरी है। इसी बात को ध्यान में रखकर इस एलबम को बनाने का साहस हमलोगों ने किया है।

ज्ञात हो कि मनोज सिंह राजपूत  " स्वास्थ्य भारत विकसित भारत' अभियान चला रही प्रतिभा जननी सेवा संसथान के चेयरमैन है, जो भारत को प्रत्येक क्षेत्र में स्वस्थ बना कर विकसित होते देखना चाहते है भोजपुरी भाषा को स्वस्थ  करने की दिशा में यह पहला कदम है।  भोजपुरी बाजार को जानने वालों का कहना है कि मनोज सिंह राजपूत का यह कदम सराहनीय है। यह एल्बम भोजपुरी का पहला ग़ज़ल एल्बम है जो भोजपुरी भाषा की स्वस्थ छवि पूरी दुनिया  के सामने पेश करेगी और अश्लीलता को ख़त्म करते हुए स्वस्थ मनोरंजन की  परंपरा को  शुरू करने में मददगार साबित होगी तथा  भोजपुरी श्रोताओं को इस पर गर्व होगा।

 

 

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;f5d815536b63996797d6b8e383b02fd9aa6e4c70175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;1549d7fbbceaf71116c7510fe348f01b25b8e746175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना