Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

Blog posts September 2014

एंकर तनु शर्मा प्रकरण पर उत्तर प्रदेश सरकार को एनएचआरसी ने भेजा नोटिस

यूपी सरकार सीबीआई जांच की संस्तुति करे - जेयूसीएस
यौन उत्पीड़न व इंडिया टीवी, कारपोरेट और राजनेताओं के बीच गठजोड़ पर जेयूसीएस की शिकायत पर जांच शुरु…

Read more

वरीय पत्रकार डा. देवाशीष बोस सम्मानित

वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन ऑफ बिहार के प्रदेश महासचिव डा. देवाशीष बोस का श्रीलंका से लौटने के बाद जिला प्रगतिशील लेखक संघ के द्वारा सम्मानित किया गया। संघ के अध्यक्ष तथा बीएन मंडल विश्वविद्यालय के पूर्व कुलसचिव सचिन्द्र महतो ने डा. बोस को माला पहना कर चादर भेंट किया। जबकि संघ के महासचिव तथा राष्ट्रपति…

Read more

शोध पत्रिका समागम का लता मंगेशकर पर अंक जारी

अगला अंक महात्मा गांधी पर

भोपाल। देश की धडक़न एवं मध्यप्रदेश का गौरव लता मंगेशकर सही अर्थों में हिन्दी का महागान है। लगभग 85 वर्ष आयु में आते आते तक वे हिन्दी में गीत गाकर जिस तरह हिन्दी को जनमानस में प्रतिष्ठित किया हैए स्थापित किया है वह अद्वित…

Read more

पत्रकार के साथ विधायक की दबंगई

वर्किंग जर्नलिस्‍ट यूनियन ने की निंदा

सहारा समय के पत्रकार तिलक जाटव को सिवनी के निर्दलीय विधायक दिनेश राय ने दी धमकी…

Read more

विज्ञापनों में हिंसा

डा. कौशल किशोर श्रीवास्तव/ विज्ञापन उत्पादको द्वारा ग्राहको तक पहुँचाया जाने वाला वह संदेश हैं जिसके सहारे उत्पाद अधिक से अधिक बिक सके। विज्ञापन ग्राहको को वह उत्पाद भी बेच सकता हैं जिसकी उन्हें आवश्यकता नहीं होती हैं। विज्ञापन ग्राहको को उस वस्तु की कमी अनु…

Read more

धर्मावतार का फलाहार प्रवास !

मीडिया का यह धर्मोन्मादी जनविरोधी तेवर मुक्त बाजार का सबसे बड़ा अभिशाप

फलाहार इसीलिए बड़ा समाचार है क्योंकि उससे धर्मावतार को केंद्रित धर्मोन्माद को अश्वमेधी जनसंहार का थीमसांग बनाय…

Read more

इस पहल के लिये पत्रकार साथियों को सलाम!

भोपाल में ‘सोसायटी फॉर जर्नलिस्ट हेल्थ केयर‘

मनोज कुमार / भोपाल। समाज के लिये उजियारा तलाशने वाले पत्रकार हमेशा  से अंधेरे में रहे हैं। जीवन में कई बार दुर्घटना या बीमारी के शिकार हो जाने के बाद …

Read more

पहले का मीठा-मीठा गप्प, अब कड़वा-कड़वा थू-थू...!

बिहार में मीडिया

अरविंद शेष। बिहार की राजधानी पटना साल भर पहले से लेकर तीन-चार-पांच या छह साल पहले भी इतना ही खचाखच और गंदगीतरीन शहर था। लेकिन साल भर पहले तक बिहार और देश के वाचाल वर्ग की नजर में पटना क्या, समूचे बिहार का क्रांतिकारी बदलाव और विकास हो ग…

Read more

पत्रकारों की आपात बैठक सम्पन्न

झुंझुनू में पत्रकारों पर हमला के विरोध में 23 को झुंझुनू बंद का ऐलान
एसपी को सौंपा ज्ञापन
झुंझुनू। सूरजगढ़ के उप-चुनाव में हार से बोखलायें भाजपा प…

Read more

अनमोल वेबसाइट को स्कॉच आर्डर ऑफ मेरिट अवार्ड

नई दिल्ली । मध्यप्रदेश सरकार की लाड़ली लक्ष्मी डॉट कॉम और दत्तक ग्रहण योजना के लिये तैयार की गई अनमोल वेबसाइट को स्कॉच आर्डर ऑफ मेरिट अवार्ड मिला है। नई दिल्ली के इण्डिया हेबीटेट सेंटर में हुए इस प्रतिष्ठित आयोजन की मुख्य अतिथि महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती माया सिंह थीं। उन्होंने डि…

Read more

सरकार एवं मीडिया के बीच बेहतर समन्वय जरूरीः विपिन कुमार सिंह

सूजसवि, बिहार के निदेशक ने वरिष्ठ पत्रकारों के साथ बैठक में समन्वय के लिए प्रत्येक माह के दूसरे मंगलवार को सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग द्वारा पत्रकारॉ के साथ नियमित बैठक आयेजित करने की कही बात…

Read more

पत्रकार मुकीम शेख बने महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमिटी (अल्पसंख्यक विभाग) के सचिव

मुंबई / कांग्रेस के सक्रिय कार्यकर्ता, हिंदी मासिक हिन्दुस्तान की आवाज के संपादक तथा हिंदी दैनिक हिन्दमाता के संवाददाता मोहम्मद मुकीम शेख को महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमिटी (अल्पसंख्यक विभाग) का प्रदेश सचिव नियुक्त्त किया गया है। इस नियुक्ति से राज्य के अल्पसंख्यक नागरिकों में उत्साह का…

Read more

राष्ट्रीय अस्मिता से जुड़ा है हिन्दी का सवाल

भागलपुर/ भाषा का सवाल राष्ट्रीय अस्मिता से जुड़ा है। महात्मा गांधी राष्ट्रीय अस्मिता के प्र्रवल पक्षधर थे। राष्ट्रभाषा के संदर्भ में अपनी पुस्तक ‘ हिन्द स्वराज’ में 1909 में ही अपना नजरिया स्पष्ट कर दिया था-‘‘ सारे भारत के लिये जो भाषा चाहिए, वह तो हिन्दी ही होगी। भारत की भाषा अंग्रे…

Read more

दाऊद पर दांव ......!!

मीडिया को ऐसी खबरों से बचना नहीं चाहिए?

तारकेश कुमार ओझा/ ...दाऊद के दिन पूरे ... अब नहीं बच पाएगा डान और उसकी डी. कंपनी , खुफिया एजेंसियों की है पैनी नजर... , रिश्तेदारों पर भी रखी जा रही नजर...। एक राष्ट्रीय…

Read more

पत्रकारिता विश्वविद्यालय द्वारा प्रकाशित लघु पुस्तिकाओं का दिल्ली में लोकार्पण

लोकार्पण कार्यक्रम के साथ धारा 370 पर परिसंवाद का आयोजन        

भोपाल। पत्रकारिता विश्वविद्यालय द्वारा धारा 370 के प्रभावों का विश्लेषण करती हिन्दी तथा अंग्रेजी की लघुपुस्तिका तथा 'जम्मू कश्मीर …

Read more

‘अखबार मेला’ नवम्बर में लगेगा

लखनऊ। ‘अखबार मेला’ का आयोजन नवम्बर के दूसरे सप्ताह में होना प्रस्तावित है। मेला महामंत्री रिजवान चंचल सम्पादक, ‘रेड फाइल’ हि.पा. के अनुसार ‘अखबार मेले’ को लेकर देश के कई प्रान्तों व प्रदेश के पचास जिलों से आए उत्साहजनक उत्तर ने आयोजकों में नई ऊर्जा भरी है। मेले की तैयारी को लेकर कई बैठकें अल…

Read more

पत्रकार अंजनी कुमार विशाल नहीं रहे

जर्नलिस्ट यूनियन आफ बिहार ने  शोक जताया

पटना । बिहार के जाने माने पत्रकार अंजनी कुमार विशाल का कल 15 सितंबर को पटना में निधन हो गया।  वे  60 वर्ष के थे । अंजनी कुमार विशाल का पटना  के लोहानीपुर स्थित आवास पर दिल का दौरा पड़ने …

Read more

हिन्दी के लिये रुदन

मनोज कुमार / हिन्दी के प्रति निष्ठा जताने वालों के लिये हर साल सितम्बर की 14 तारीख रुदन का दिन होता है। इस एक दिनी विलाप के लिये वे पूरे वर्ष भीतर ही भीतर तैयारी करते हैं लेकिन अनुभव हुआ है कि सालाना तैयारी हिन्दी में न होकर लगभग घृणा की जाने वाली भाषा अंग्रेजी में होती है। हिन्दी …

Read more

बचना - बढ़ना हिंदी का ....!!

तारकेश कुमार ओझा / मेरे छोटे से शहर में जब पहली बार माल खुला , तो शहरवासियों के लिए यह किसी अजूबे से कम नहीं था। क्योंकि यहां सब कुछ अप्रत्याशित औऱ अकल्पनीय था। इसमें पहुंचने पर लोगों को किसी सपनीली दुनिया में चले जाने का भान होता। बड़ी - बड़ी बहुराष्ट्रीय कंपनियों के उत्…

Read more

क्या वाकई हिंदी के अच्छे दिन आ गये!

निर्भय कुमार कर्ण / भाषा संप्रेषण का माध्यम है जिसके जरिए हम अपनी बात/विचार दूसरों तक पहुंचाते हैं और सभी भाषाओं में हिंदी भाषा भारत के लिए अहम माना जाता है। यही वजह है कि 14 सितंबर, 1949 को संविधान सभा ने हिंदी को संघ की राजभाषा के रूप में स्वीकार किया था और इसी परिप्र…

Read more

20 blog posts

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;e3113b18b05a1fcb91e81e1ded090b93f24b6abe175;250;cb150097774dfc51c84ab58ee179d7f15df4c524175;250;a6c926dbf8b18aa0e044d0470600e721879f830e175;250;13a1eb9e9492d0c85ecaa22a533a017b03a811f7175;250;2d0bd5e702ba5fbd6cf93c3bb31af4496b739c98175;250;5524ae0861b21601695565e291fc9a46a5aa01a6175;250;3f5d4c2c26b49398cdc34f19140db988cef92c8b175;250;53d28ccf11a5f2258dec2770c24682261b39a58a175;250;d01a50798db92480eb660ab52fc97aeff55267d1175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;cff38901a92ab320d4e4d127646582daa6fece06175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;c1ebe705c563d9355a96600af90f2e1cfdf6376b175;250;911552ca3470227404da93505e63ae3c95dd56dc175;250;752583747c426bd51be54809f98c69c3528f1038175;250;ed9c8dbad8ad7c9fe8d008636b633855ff50ea2c175;250;969799be449e2055f65c603896fb29f738656784175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना