Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

डिजीटल ट्रांसफार्मेशन के लिए तैयार हों नए पत्रकार

नए समय में मीडिया शिक्षा की चुनौतियां

प्रो. संजय द्विवेदी/ एक समय था जब माना जाता है कि पत्रकार पैदा होते हैं और पत्रकारिता पढ़ा कर सिखाई नहीं जा सकती। अब वक्त बदल गया है। जनसंचार का क्षेत्र आज शिक्षा की दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण हो गया है। वर्ष 2020 को लोग चाहे कोरोना महामारी की वजह से याद करेंगे, ले…

Read more

दैनिक भास्कर का फर्जीवाड़ा!

अनिल सिंह / क्या यह प्रायोजित खबर नहीं है? क्या प्रेस को ऐसी स्वंतंत्रता मिलनी चाहिए? 

अंतरराष्ट्रीय प्रेस स्वतंत्रता दिवस पर भास्कर के अलग-अलग शहरों के 03 मई 2021 के एडिशन में एक ही तरह का बयान अलग-अलग डॉक्टर्स के नाम से उनकी (अलग-अलग) तस्वीर के साथ छपा है। क…

Read more

बेमानी है प्रेस फ्रीडम की बातें

पूरी दुनिया में पत्रकार बेहाल हैं और प्रेस बंधक होता चला जा रहा है

मनोज कुमार/ तीन दशक पहले संयुक्त राष्ट्र संघ ने 3 मई को विश्व प्रेस फ्रीडम डे मनाने का ऐलान किया था. तब से लेकर आज तक हम इसे पत्थर की लकीर मानकर चल रहे हैं. इन तीन दशकों में क्या कुछ हुआ, इसकी मीमांसा हमने …

Read more

'ग़ुलाम मीडिया ' जनता की बदहाली का सबसे बड़ा ज़िम्मेदार

निर्मल रानी/  हमारा देश इस समय संकट के किस भयानक दौर से  गुज़र रहा है इसे दोहराने की ज़रुरत नहीं। संक्षेप में यही कि जब देश प्यास से मर रहा है उस समय सरकारें कुंवे खोदने में लगी हैं। और इन कुंओं को खोदते खोदते कितनी और जानें काल के मुंह में समा जाएंगी इसका कोई अंदाज़ा नहीं है। सत्ता के शीर्ष पर बैठे चंद लोग भले ही अपने अहंकारवश अपनी नाकामियों और ग़ैर ज़िम्मेदाराना फ़ैसलों पर पर्दा डा…

Read more

भारतीय मीडिया ने झूठ बोलने को आसान बनाया

जन मीडिया का अप्रैल अंक

डॉ लीना / जन मीडिया का अप्रैल (109 वां) अंक अपने आप में बहुत ही महत्वपूर्ण है। महत्वपूर्ण इसलिए कि अप्रैल का जो महीना होता है वह अपने आप में महत्वपूर्ण होता है।  सामाजिक क्रांति का बीज बोने वाले प्रबुद्ध राष्ट्र निर्माता एवं भारतरत्न बाबा साहब डॉक्टर भीम राव अंबेडकर, जो भारत के संविधन निर्माता के रूप में विख्यात है उनकी ज…

Read more

पत्रकारिता समाप्त हो रही है और पत्रकार बढ़ते जा रहे हैं!

श्रवण गर्ग /कोलकाता से निकलने वाले अंग्रेज़ी के चर्चित अख़बार ‘द टेलिग्राफ’ के सोमवार (29 मार्च,2021) के अंक में पहले पन्ने पर एक ख़ास ख़बर प्रकाशित हुई है. ख़बर गुवाहाटी की है और उसका सम्बन्ध 27 मार्च को असम में सम्पन्न हुए विधान सभा चुनावों के पहले चरण के मतदान से है. असम में मतदान तीन चरणों में होना है. दूसरे चरण का मतदान एक अप्रैल और तीसरे व‌ अंतिम का छह अप्रैल को होने वाला …

Read more

ज़मीर फ़रोश पत्रकारिता पर एक और प्रहार

निर्मल रानी/ स्वयं को लोकतंत्र का चौथा स्तंभ बताने वाला मीडिया विशेषकर टेलीवीज़न मीडिया जहाँ गत कुछ वर्षों से सत्ता के समक्ष 'शाष्टांग दंडवत' की मुद्रा में आकर भारतीय इतिहास के सबसे शर्मनाक दौर से गुज़र रहा है वहीं अभी भी कुछ चरित्रवान तथा पत्रकारिता के कर्तव्यों  व सिद्धांतों का ईमानदारी से निर्वहन करने वाले ऐसे लोग बाक़ी हैं जो सही मायने में पत्रकारिता की लाज रखे हुए हैं। इस समय…

Read more

सोशल-मीडिया कंपनियों पर नहीं, जनता की ज़ुबान पर ताला

प्रमोद रंजन / फरवरी के अंतिम सप्ताह में  भारतीय डिज़िटल दुनिया में यह ख़बर छायी रही कि सरकार सोशल-मीडिया कंपनियों  पर लगाम कसने के लिए एक कड़ा नियमन लेकर आयी है। इसे “…

Read more

भारत मे पत्रकारिता मर चुकी है!

वह सही संदर्भों के साथ खबर पेश नही करती

गिरीश मालवीय। मुझे लगता है कि भारत मे पत्रकारिता मर चुकी है, कल एक खबर का जो हश्र देखा है उसे देखकर बिल्कुल यही महसूस हुआ, कल मुंबई में एक होटल से वर्तमान लोकसभा के एक सांसद की लाश बरामद हुई है और वो भी संदिग्ध परिस्थितियों में ...…. वो भी कोई साधारण सांसद नही बल्कि वह स…

Read more

क्या भारत में प्रेस की आज़ादी बिल्कुल ख़त्म हो जाएगी ?

रवीश कुमार/ मनदीप पुनिया की गिरफ़्तारी से आहत हूँ। हाथरस केस में सिद्दीक़ कप्पन का कुछ पता नहीं चल रहा। कानपुर के अमित सिंह पर मामला दर्ज हुआ है। राजदीप सरदेसाई और सिद्धार्थ वरदराजन पर मामला दर्ज हुआ है। क्या भारत में प्रेस की आज़ादी बिल्कुल ख़त्म हो जाएगी ? आज मैंने ट्विटर पर ट्विट किया है। अगस्त 2015 के बाद आज पहली बार ट्विट किया है। वही पत्र यहाँ डाल रहा हूँ ।…

Read more

और भी मुद्दे --

View older posts »

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;f5d815536b63996797d6b8e383b02fd9aa6e4c70175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;1549d7fbbceaf71116c7510fe348f01b25b8e746175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना