मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

डिजिटल समाचार माध्यमों से सरकार ने एफडीआई की जानकारी मांगी

विदेशी पूंजी निवेश करना चाहते हैं तो, केंद्र सरकार की अनुमति के लिए डीपीईटी के विदेशी निवेश पोर्टल के जरिए प्राप्त करें

नयी दिल्ली/ सरकार ने 26 प्रतिशत प्रत्यक्ष विदेशी पूंजी निवेश (एफडीआई) करने वाली सभी संवाद समितियों समेत समाचार वेबसाइट तथा अन्य डिजिटल समाचार माध्यमों को एक महीने के भीतर इस निवेश के बारे में सारी जानकारी सूचना प्रसारण मंत्रालय को देने को कहा है।

सूचना प्रसारण मंत्रालय द्वारा 16 नवंबर को जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि सरकार ने 18 सितंबर 2019 को 26 प्रतिशत प्रत्यक्ष पूंजी निवेश का फ़ैसला किया था उस के तहत जिस किसी भी डिजिटल समाचार माध्यम में 26 प्रतिशत विदेशी पूंजी निवेश हुआ है वे अपनी कम्पनी की हर जानकारी सरकार को एक माह में दे। अगर किसी डिजिटल समाचार कम्पनी में 26 प्रतिशत से अधिक पूंजी निवेश हुआ हो तो वह भी सारी जानकारी दे ताकि उसे कम कर 26 प्रतिशत किया जा सके।

विज्ञप्ति में कहा गया है कि सभी कंपनियां अपनी कंपनी में शेयर होल्डिंग के बारे में भी सूचना दें तथा कंपनी के निदेशकों शेयरधारकों के नाम और पते भी भेजें। इसके अलावा डिजिटल समाचार माध्यम अपने प्रमोटरों के नाम पता भी भेजें और जो लोग इस डिजिटल समाचार की सेवा ले रहे उनके मालिकों का भी नाम पता दें। 

विज्ञप्ति के अनुसार यह समाचार कंपनियां अपने खाते का नंबर, ऑडिट रिपोर्ट तथा गैर ऑडिट रिपोर्ट में अपने मुनाफे एवं घाटे की जानकारी तथा बैलेंस शीट भी भेजें। विज्ञप्ति में भी कहा गया है कि अगर कोई डिजिटल समाचार माध्यम प्रत्यक्ष विदेशी पूंजी निवेश करना चाहता है तो वह केंद्र सरकार की अनुमति ले और इसके लिए वह डीपीईटी के विदेशी निवेश पोर्टल के जरिए यह अनुमति प्राप्त कर सकता है।

प्रत्येक डिजिटल समाचार माध्यम अपने बोर्ड ऑफ डायरेक्टर और सीईओ की नागरिकता के बारे में भी जानकारी दें और सभी विदेशी निवेशकों की दो माह के भीतर सुरक्षा मंजूरी लेनी होगी और इसके लिए उसे दो माह पूर्व आवेदन करना होगा। उसके बाद ही उस विदेशी लोगों की कम्पनी में नियुक्ति हो सकेगी ।

Go Back

Comment