मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

Blog posts July 2013

धूप ने उसकी चमड़ी पर आकर कविता लिखी थी..

अरुणाभ सौरभ का एकल काव्य-पाठ
पटना/ समकालीन कविता में अपनी में धारदार उपस्थिति से  इस वर्ष भारतीय ज्ञानपीठ का नवलेखन पुरस्कार एवं वर्ष 2012 में साहित्य अकादमी, नई दिल्ली में युवा पुरस्कार से सम्मानित कवि अरुणाभ सौरभ के पटना आगमन पर पटना प्रगतिशी…

Read more

सोशल नेटवर्किंग पर सार्थक विमर्श

डॉ. सी. जय शंकर बाबु / इंटर्नेट के विकास के साथ ही सामाजिक संबंधों-संवादों के कई रूपों, कई सुविधाओं, व्यवस्थाओं और व्यवसायों के उभरने से दुनिया में रिश्तों के कई नए जाल फैल चुके    हैं ।  ऐसी एक नई व्यवस्था जिसमें नए संवादों की असीम संभावनाएँ उभरकर सामने आई हैं, उसे सोशल …

Read more

पत्रकारिता के नाम पर फ्रॉडगिरी

पुण्य प्रसून बाजपेयी/ पत्रकार और पत्रकारिता के नाम पर कोई कितनी फ्रॉडगिरी कर सकता है। या फिर मौजूदा दौर में पत्रकारिता एक ऐसे मुकाम पर जा पहुंची है, जहां पत्रकारिता के नाम पर धंधा किया भी जा सकता है और पत्रकारों के लिये ऐसा माहौल बना दिया गया है कि वह धंधे में अपन…

Read more

हिन्दी प्रचारक शताब्दी सम्मान हेमन्त शर्मा को

वाराणसी। हिन्दी प्रचारक शताब्दी सम्मान-2013 का पुरस्कार इस साल प्रख्यात पत्रकार सम्पादक एवं इण्डिया टी.वी. के निदेशक हेमन्त शर्मा को देने की घोषणा की गई है। वाराणसी मे सन 1905 मे स्थापित हिन्दी प्रचारक के संस्थापक साहित्यानुरागी एवं ऐप्यारी कथाओ के सुप्रसिद्ध लेखक निहाल चन्द बेरी व हिन…

Read more

शर्म करो न्यूज चैनलो !

चैनलों ने शिवानंद तिवारी के बयान के पहले चार शब्द यानी “ भाजपा की नजर में” एडिट कर दिया था... 

इर्शादुल हक / आपने कल पूरा दिन चैनलों पर …

Read more

जागरूकता बढ़ाने में महत्पूर्ण भूमिका निभाएगा चैनल


कोलसिया में शेखावाटी के पहले सामुदायिक एफ.एम. आकाशवाणी का उद्घाटन

रमेश सर्राफ/ झुंझुनू। केन्द्रीय रोजगार एवं श्रम मंत्री शीशराम ओला ने कहा है कि एफ.एम. च…

Read more

कमलवाणी रेडियो स्टेशन

शेखावाटी क्षेत्र के प्रथम सामुदायिक रेडियो का कल शुभारम्भ करेंगें ओला 

झुंझुनू । शेखावाटी क्षेत्र के प्रथम सामुदायिक…

Read more

सफल मीडियाकर्मी बनने के लिये जिद और जुनून होना जरूरी

पत्रकारिता विश्वविद्यालय में सत्रारम्भ समारोह का समापन

भोपाल। सफल मीडियाकर्मी बनने के लिये जिद और जुनून होना जरूरी है। मीडिया के क्षेत्र में सफलता के लिये जरूरी है कि युवा सपने देखे और उन सपनों…

Read more

लेखकों के संसार में

लेखकों और समकालीन लेखन परिदृश्य को समझें -पहचानने का अवसर

कनक जैन / हिन्दी में साक्षात्कार पुरानी किन्तु उपेक्षित विधा है। साक्षात्कार आम तौर पर राजनेताओं और फ़िल्मी अभिनेताओं के ही छपते हैं। …

Read more

सीढ़ियां चढ़ता मीडिया

पुस्तक मीडिया और जन जीवन के व्यापक परिप्रेक्ष्य में ले जाने वाला

मीनाक्षी बोहरा / मीडिया पर लिखने का शुरुआती उत्साह और फैशन अब बीती बात है। अकादमिक हलकों में मीडिया अ…

Read more

महर्षि वेद व्यास भारतीय संस्कृति के संस्थापक और संवाहक थे

वेद व्यास जयंती समारोह में साहित्यकार हरिशंकर श्रीवास्तव ‘शलभ’ को ‘महर्षि व्यास शिखर सम्मान- 2013’ दिया गया
मधेपुरा…

Read more

बनास जन का नया अंक

इस अंक में समकालीन काव्य परिदृश्य पर कहानियां भी

सवा दो सौ पृष्ठों के इस अंक में समकालीन काव्य परिदृश्य पर पंकज चतुर्वेदी, अशोक कुमार पांडे और पंकज पराशर के आलेखों के साथ तीन उम्दा कहानियां भी पढी जा सकती हैं। कहानियां …

Read more

पत्रकारिता विश्वविद्यालय में नया सत्र कल से शुरू

उदघाटन समारोह में वरिष्ठ पत्रकार अजीत अंजुम, असद रजा,  रणविजय सिंह एवं कमल शर्मा विद्यार्थियों को  सम्बोधित करेंगे…

Read more

हवाई पत्रकारिता खूब हो गयी!

मीडिया को हताहतों की संख्या को सुर्खियों में तब्दील करने में मजा तो खूब आता है लेकिन मौत के कारोबार की खबर नहीं होती…

Read more

विपक्षी दल की जगह नहीं ले सकता मीडिया

मीडिया की भी एक सीमा है

बीपी गौतम / केंद्र शासित राज्य और देश की राजधानी दिल्ली, देश की आर्थिक राजधानी मुंबई वाले राज्य …

Read more

नए ज़माने की पत्रकारिता

पुस्‍तक में पत्रकारिता के अलग अलग पहलुओं को उजागर करने वाले सभी सवालों के जबाव

इस किताब का मकसद पत्रकारों की नई पौध को वो सारी बातें बताना और पुराने लोगों को याद दिलाना, ज…

Read more

ऐसी खबर ?

अभिषेक आनंद / पटना के एक अखबार ने अपनी सबसे बड़ी खबर बनाते हुए आज सात कॉलम में छापा है, रिपोर्ट आ गई, प्राचार्या की आपाराधिक लापरवाही। फिर से पढ़िए- रिपोर्ट आ गई, प्राचार्या की आपाराधिक लापरवाही। खबर में बस यही जानकारी दी गई है कि डीआईजी व कमिश्नर ने रिपोर्ट सौंप दी है, जिसमें प्…

Read more

लोक प्रसारक या सरकार का भोंपू?

प्रसार भारती को चाहिए लोकतान्त्रिक और सृजनात्मक आज़ादी और वित्तीय स्वायत्तता
आनंद प्रधान/ भारत में प्रसार भारती (दूरदर्शन और आकाशवाणी) इसका ज्वलंत…

Read more

कहाँ हैं आम आदमी की आवाज़ और उनका वास्तविक लोक प्रसारक?

तो लोक प्रसारण सेवा की कसौटियों पर खरे उतर पा रहे हैं और न ही पूरी तरह व्यावसायिक प्रसारक की तरह काम कर पा रहे हैं

(भ…

Read more

ऑनलाईन दुनिया : भविष्‍य का प्रोडक्‍ट

आज समाचार पत्रों में भी इस मीडिया को जगह मिल रही है। कम-से-कम एक पृष्‍ठ तो इस मीडिया की खबरों को समर्पित नजर आता है। प्रिंट मीडिया ने भी सोशल मीडिया की शक्ति को भांप लिया है।…

Read more

20 blog posts