मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

Blog posts : "पत्रिका "

तेलुगु मीडिया पर केंद्रित है मीडिया विमर्श का नया अंक

भारतीय भाषाओं की पत्रकारिता में अंतरसंवाद और समन्वय के उद्देश्यों से मीडिया विमर्श भारतीय भाषाओं की पत्रकारिता पर शोधपरक सामग्री देने का प्रयास अपने जन्म से ही कर रही है। मीडिया विमर्श ने उर्दू पत्रकारिता और गुजराती पत्रकारिता के बाद तेलुगु मीडिया पर केंद्रित विशेषांक का प्रकाशन किया है।…

Read more

समागम का नया अंक बैरागी पर

समागम का जून अंक बाल कवि बैरागी पर केन्द्रित है। इस शोध पत्रिका के सम्पादक मनोज कुमार बताते हैं कि देश के सुपरिचित कवि एवं प्रतिष्ठित राजनेता बालकवि बैरागी अचानक हमारे बीच में नहीं रहे। यह हमारे लिए गहरा आघात है। जाने कब और कैसे हम उनसे जुड़ गए, खबर ही नहीं हुई। ऐसा अपना…

Read more

‘समागम’ का नया अंक रेडियो पर

आकाशवाणी की सिग्नेचर ट्यून, किसने, कब बनाई शायद आपको ना मालूम हो, आप तो शायद यह भी भूल गए होंगे कि बिनाका गीत माला और सिबाका गीत माला बाद के दिनों में सिबाका-कॉलेगेट गीतमाला के नाम से प्रसारित होता था. कुछ ऐसी ही अनुछुई और भूल चुके यादों को साथ लेकर आया है रिसर्च जर्नल ‘समागम’ का नया अंक ‘रेडियो की …

Read more

‘समागम’ पत्रिका 18वें वर्ष में

भोपाल। रिसर्च जर्नल ‘समागम’ ने अपने निरंतर प्रकाशन के 17 वर्ष पूर्ण कर लिया है. 17वें साल का आखिरी अंक जनवरी-2018 का महात्मा गांधी के ग्राम स्वराज एवं विवेकानंदजी के शिकागो भाषण के सवा सौ साल पूर्ण होने पर केन्द्रित है. फरवरी 2018 में ‘समागम’ रेडियो पर केन्द्रित होगा और यह अंक 18वें वर्ष…

Read more

"समागम" जीवनभर, मात्र 15सौ में

भोपाल/ शोध पत्रिका समागम फरवरी 2018 में 18वे साल में प्रवेश कर रही है। पत्रिका के सम्पादक मनोज कुमार ने बताया कि इस अवसर पर लाइफ मेम्बरशिप 3000 रुपये के स्थान पर मात्र 1500 में दिया जाएगा। साथ में दो मानक स्तर के शोध पत्र का प्रकाशन भी किया जाएगा। समागम यूजीसी से एएप्रूव्ड रिसर्च जर्नल है।…

Read more

लोकसंस्कृति विशेषांक है साहित्य अमृत का नया अंक

नयी दिल्ली/ हिन्दी साहित्य की प्रख्यात पत्रिका ‘साहित्य अमृत’ के इस माह लोकसंस्कृति विशेषांक में देश में करीब 36 क्षेत्रों की लोकसंस्कृतियों को अनूठे ढंग से संग्रहीत किया गया है तथा इसके साथ एक-डेढ़ सदी पहले प्रवासियों के साथ विश्व के अनेक भागों में फैली भारतीय संस्कृति और 1947 में…

Read more

समागम’ का जून अंक नर्मदा नदी पर केन्द्रित

शोध पत्र एवं आलेख आमंत्रित

भोपाल/ शोध एवं संदर्भ की मासिक पत्रिका ‘समागम’ जून-2017 का अंक पर्यावरण की दृष्टि से नर्मदा नदी पर केन्द्रित है. मध्यप्रदेश सरकार द्वारा 144 दिनों की नमामी नर्मदे सेवा यात्रा के विभिन्न आयामों एवं पर्यावरणीय संदर्भों…

Read more

‘समागम’ का विशेष अंक चम्पारण सत्याग्रह पर

100 साल पहले एक व्यक्ति ने चम्पारण में अलख जगायी थी. ना हाथ में लाठी-बंदूक थी और न जुबान पर कड़ुवी बोली. एक अहिंसक सत्याग्रह ने अंग्रेजी शासन को झकझोर कर रख दिया. आज इसी आंदोलन को पूरी दुनिया चम्पारण सत्याग्रह के नाम से जानती है. यह हमारी पीढ़ी के लिए गौरव की बात है कि हमें अवसर मिला है कि संसार को …

Read more

विभोम-स्‍वर का नया अंक ऑनलाइन उपलब्‍ध

विभोम-स्‍वर का जनवरी-मार्च 2017 अंक अब ऑनलाइन उपलब्‍ध है। इस अंक में शामिल है, संपादकीय। मित्रनामा। साक्षात्कार- उषा प्रियंवदा से सुधा ओम ढींगरा की बातचीत। कहानियाँ - पुनर्जन्म प्रतिभा, छोटा-सा शीश महल अरुणा सब्बरवाल, वसंत लौट रहा है कविता विकास, किस ठाँव ठहरी है-डायन ? प्रेम गुप्ता ‘मानी’ । लघुकथाए…

Read more

मध्यप्रदेश-छत्तीसगढ़ के स्थापना दिवस पर ‘समागम’ का विशेष अंक

एक नवम्बर को मध्यप्रदेश का 61वां स्थापना दिवस है. आज से 60 वर्ष पूर्व 1956 को मध्यप्रदेश का गठन हुआ था. तब इस प्रदेश की कोई एकजाई पहचान थी तो यह कि यह प्रदेश भौगोलिक रूप से देश का सबसे बड़ा प्रदेश है और भारत के नक्शे में ह्दयप्रदेश के रूप में चिंहित था. हमारे मध्यप्रदेश ने हौले हौले विकास के रास…

Read more

विभोम-स्‍वर का अक्टूबर-दिसम्बर अंक उपलब्‍ध

विभोम-स्‍वर का अक्टूबर-दिसम्बर 2016 अंक अब ऑनलाइन उपलब्‍ध है।

इस अंक में शामिल है :- संपादकीय। मित्रनामा। साक्षात्कार- कादंबरी मेहरा (सुधा ओम ढींगरा)। कहानियाँ- क्या आज मैं यहाँ होती.... (नीरा त्यागी ),…

Read more

जनवरी 2016 में ‘समागम’ का यह अंक विशेष

शोध पत्रिका ‘समागम’ ने वर्ष 2000 में जो यात्रा आरंभ की थी, वह सफलतापूर्वक जारी है. जनवरी 2016 में ‘समागम’ का यह अंक विशेष संदर्भ के साथ प्रकाशित किया गया है. 30 जनवरी को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्यतिथि है और इसी तारीख पर दादा माखनलाल चतुर्वेदी की भी. संभवत: एक तारीख …

Read more

'हिन्‍दी चेतना' का अक्‍टूबर-दिसम्‍बर अंक उपलब्‍ध

कैनेडा से प्रकाशित त्रैमासिक साहित्यिक पत्रिका 'हिन्‍दी चेतना' का अक्‍टूबर-दिसम्‍बर 2015 अंक (वर्ष : 17, अंक : 68) अब इंटरनेट पर उपलब्‍ध है। इस अंक में शामिल है- सम्पादकीय ( श्‍यामत्रिपाठी), उद्गार, कहानियाँ : चाहत की आहट ( पुष्पा सक्सेना ), बस, अब बहुत हुआ ! (मंजुश्री ), चायना बैंक (रामगोपाल भा…

Read more

'हिन्‍दी चेतना' का जुलाई-सितम्‍बर अंक इंटरनेट पर उपलब्‍ध

कैनेडा से प्रकाशित त्रैमासिक साहित्यिक पत्रिका 'हिन्‍दी चेतना' का जुलाई-सितम्‍बर 2015 अंक (वर्ष : 17, अंक : 67) अब इंटरनेट पर उपलब्‍ध है। सम्पादकीय, उद्गार, साक्षात्कार: प्रताप सहगल: प्रेम जनमेजय। कहानियाँ: प्रश्न-कुंडली: गीताश्री, काँच की दीवार: नीलम मलकानिया, केस नम्बर पाँच सौ सोलह: माधव नागदा…

Read more

हिन्‍दी चेतना' का जनवरी-मार्च 2015 अंक

कैनेडा से प्रकाशित त्रैमासिक साहित्यिक पत्रिका 'हिन्‍दी चेतना' का जनवरी-मार्च 2015 अंक अब इंटरनेट पर उपलब्‍ध है। इस अंक में शामिल हैं मृदुला गर्ग, नीना पॉल, कंचन सिंह चौहान, सरस दरबारी, अनिल प्रभा कुमार  की कहानियाँ। सुशील सिद्धार्थ, साक्षात्कार, डॉ.अफ़रोज़ ताज की कहानी भीतर कहानी। पारस दासोत , डॉ. …

Read more

‘समागम’ का जनवरी अंक महात्मा गांधी पर

शोध पत्रिका के 14 वर्ष पूरे

भोपाल।  शोध पत्रिका ‘समागम’ जनवरी 2015 में अपने प्रकाशन का 14 वर्ष पूरे करने जा रही है। वर्ष 2014 का अंक एक गांधी के महात्मा हो जाने विषय पर केन्द्रित है।…

Read more

शोध पत्रिका समागम का लता मंगेशकर पर अंक जारी

अगला अंक महात्मा गांधी पर

भोपाल। देश की धडक़न एवं मध्यप्रदेश का गौरव लता मंगेशकर सही अर्थों में हिन्दी का महागान है। लगभग 85 वर्ष आयु में आते आते तक वे हिन्दी में गीत गाकर जिस तरह हिन्दी को जनमानस में प्रतिष्ठित किया हैए स्थापित किया है वह अद्वित…

Read more

समागम का अगस्त अंक जारी

जनक्रांति 2014 - व्हाया सोशल मीडिया पर केन्द्रित है अंक

शोध पत्रिका समागम के अगस्त अंक का केंद्रीय विषय जनक्रांति 2014 व्हाया सोशल मीडिया है। भारत में पहली क्रांति से हमें आज़ादी मिली। इसके बाद आपतकाल के बाद एक क्रांति…

Read more

शोध पत्रिका "समागम" का नया अंक प्रेमचंद पर

भोपाल। द्विभाषी मासिक शोध पत्रिका समागम का हर अंक विषय-विशेष पर केन्द्रित रहा है। माह जुलाई-2014 का अंक अमर कथाकार मुंशी प्रेमचंद पर केन्द्रित है।…

Read more

'हिन्दी चेतना' का जुलाई-सितम्ब​र 2014 अंक अब उपलब्‍ध

कैनेडा से प्रकाशित त्रैमासिक साहित्यिक पत्रिका 'हिन्‍दी चेतना' काजुलाई-सितम्‍बर 2014 अंक अब उपलब्‍ध है। इसमें हैं डॉ. मारिया नेज्‍येशी कासाक्षात्कार, रीता कश्‍यप, रजनी गुप्‍त, आस्‍था नवल, नीरा त्‍यागीकी कहानियाँ, कहानी भीतर कहानी- सुशील सिद्धार्थ, विश्व के आँचल से- साधना अग्रवाल, पहलौठीकिरण में शैली…

Read more

20 blog posts