मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

Blog posts : "पत्रिका "

लोकसंस्कृति विशेषांक है साहित्य अमृत का नया अंक

August 4, 2017

नयी दिल्ली/ हिन्दी साहित्य की प्रख्यात पत्रिका ‘साहित्य अमृत’ के इस माह लोकसंस्कृति विशेषांक में देश में करीब 36 क्षेत्रों की लोकसंस्कृतियों को अनूठे ढंग से संग्रहीत किया गया है तथा इसके साथ एक-डेढ़ सदी पहले प्रवासियों के साथ विश्व के अनेक भागों में फैली भारतीय संस्कृति और 1947 में…

Read more

समागम’ का जून अंक नर्मदा नदी पर केन्द्रित

May 14, 2017

शोध पत्र एवं आलेख आमंत्रित

भोपाल/ शोध एवं संदर्भ की मासिक पत्रिका ‘समागम’ जून-2017 का अंक पर्यावरण की दृष्टि से नर्मदा नदी पर केन्द्रित है. मध्यप्रदेश सरकार द्वारा 144 दिनों की नमामी नर्मदे सेवा यात्रा के विभिन्न आयामों एवं पर्यावरणीय संदर्भों…

Read more

‘समागम’ का विशेष अंक चम्पारण सत्याग्रह पर

April 12, 2017

100 साल पहले एक व्यक्ति ने चम्पारण में अलख जगायी थी. ना हाथ में लाठी-बंदूक थी और न जुबान पर कड़ुवी बोली. एक अहिंसक सत्याग्रह ने अंग्रेजी शासन को झकझोर कर रख दिया. आज इसी आंदोलन को पूरी दुनिया चम्पारण सत्याग्रह के नाम से जानती है. यह हमारी पीढ़ी के लिए गौरव की बात है कि हमें अवसर मिला है कि संसार को …

Read more

विभोम-स्‍वर का नया अंक ऑनलाइन उपलब्‍ध

January 17, 2017

विभोम-स्‍वर का जनवरी-मार्च 2017 अंक अब ऑनलाइन उपलब्‍ध है। इस अंक में शामिल है, संपादकीय। मित्रनामा। साक्षात्कार- उषा प्रियंवदा से सुधा ओम ढींगरा की बातचीत। कहानियाँ - पुनर्जन्म प्रतिभा, छोटा-सा शीश महल अरुणा सब्बरवाल, वसंत लौट रहा है कविता विकास, किस ठाँव ठहरी है-डायन ? प्रेम गुप्ता ‘मानी’ । लघुकथाए…

Read more

मध्यप्रदेश-छत्तीसगढ़ के स्थापना दिवस पर ‘समागम’ का विशेष अंक

November 1, 2016

एक नवम्बर को मध्यप्रदेश का 61वां स्थापना दिवस है. आज से 60 वर्ष पूर्व 1956 को मध्यप्रदेश का गठन हुआ था. तब इस प्रदेश की कोई एकजाई पहचान थी तो यह कि यह प्रदेश भौगोलिक रूप से देश का सबसे बड़ा प्रदेश है और भारत के नक्शे में ह्दयप्रदेश के रूप में चिंहित था. हमारे मध्यप्रदेश ने हौले हौले विकास के रास…

Read more

विभोम-स्‍वर का अक्टूबर-दिसम्बर अंक उपलब्‍ध

October 13, 2016

विभोम-स्‍वर का अक्टूबर-दिसम्बर 2016 अंक अब ऑनलाइन उपलब्‍ध है।

इस अंक में शामिल है :- संपादकीय। मित्रनामा। साक्षात्कार- कादंबरी मेहरा (सुधा ओम ढींगरा)। कहानियाँ- क्या आज मैं यहाँ होती.... (नीरा त्यागी ),…

Read more

जनवरी 2016 में ‘समागम’ का यह अंक विशेष

January 2, 2016

शोध पत्रिका ‘समागम’ ने वर्ष 2000 में जो यात्रा आरंभ की थी, वह सफलतापूर्वक जारी है. जनवरी 2016 में ‘समागम’ का यह अंक विशेष संदर्भ के साथ प्रकाशित किया गया है. 30 जनवरी को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्यतिथि है और इसी तारीख पर दादा माखनलाल चतुर्वेदी की भी. संभवत: एक तारीख …

Read more

'हिन्‍दी चेतना' का अक्‍टूबर-दिसम्‍बर अंक उपलब्‍ध

October 22, 2015

कैनेडा से प्रकाशित त्रैमासिक साहित्यिक पत्रिका 'हिन्‍दी चेतना' का अक्‍टूबर-दिसम्‍बर 2015 अंक (वर्ष : 17, अंक : 68) अब इंटरनेट पर उपलब्‍ध है। इस अंक में शामिल है- सम्पादकीय ( श्‍यामत्रिपाठी), उद्गार, कहानियाँ : चाहत की आहट ( पुष्पा सक्सेना ), बस, अब बहुत हुआ ! (मंजुश्री ), चायना बैंक (रामगोपाल भा…

Read more

'हिन्‍दी चेतना' का जुलाई-सितम्‍बर अंक इंटरनेट पर उपलब्‍ध

July 14, 2015

कैनेडा से प्रकाशित त्रैमासिक साहित्यिक पत्रिका 'हिन्‍दी चेतना' का जुलाई-सितम्‍बर 2015 अंक (वर्ष : 17, अंक : 67) अब इंटरनेट पर उपलब्‍ध है। सम्पादकीय, उद्गार, साक्षात्कार: प्रताप सहगल: प्रेम जनमेजय। कहानियाँ: प्रश्न-कुंडली: गीताश्री, काँच की दीवार: नीलम मलकानिया, केस नम्बर पाँच सौ सोलह: माधव नागदा…

Read more

हिन्‍दी चेतना' का जनवरी-मार्च 2015 अंक

January 17, 2015

कैनेडा से प्रकाशित त्रैमासिक साहित्यिक पत्रिका 'हिन्‍दी चेतना' का जनवरी-मार्च 2015 अंक अब इंटरनेट पर उपलब्‍ध है। इस अंक में शामिल हैं मृदुला गर्ग, नीना पॉल, कंचन सिंह चौहान, सरस दरबारी, अनिल प्रभा कुमार  की कहानियाँ। सुशील सिद्धार्थ, साक्षात्कार, डॉ.अफ़रोज़ ताज की कहानी भीतर कहानी। पारस दासोत , डॉ. …

Read more

‘समागम’ का जनवरी अंक महात्मा गांधी पर

December 16, 2014

शोध पत्रिका के 14 वर्ष पूरे

भोपाल।  शोध पत्रिका ‘समागम’ जनवरी 2015 में अपने प्रकाशन का 14 वर्ष पूरे करने जा रही है। वर्ष 2014 का अंक एक गांधी के महात्मा हो जाने विषय पर केन्द्रित है।…

Read more

शोध पत्रिका समागम का लता मंगेशकर पर अंक जारी

September 26, 2014

अगला अंक महात्मा गांधी पर

भोपाल। देश की धडक़न एवं मध्यप्रदेश का गौरव लता मंगेशकर सही अर्थों में हिन्दी का महागान है। लगभग 85 वर्ष आयु में आते आते तक वे हिन्दी में गीत गाकर जिस तरह हिन्दी को जनमानस में प्रतिष्ठित किया हैए स्थापित किया है वह अद्वित…

Read more

समागम का अगस्त अंक जारी

August 16, 2014

जनक्रांति 2014 - व्हाया सोशल मीडिया पर केन्द्रित है अंक

शोध पत्रिका समागम के अगस्त अंक का केंद्रीय विषय जनक्रांति 2014 व्हाया सोशल मीडिया है। भारत में पहली क्रांति से हमें आज़ादी मिली। इसके बाद आपतकाल के बाद एक क्रांति…

Read more

शोध पत्रिका "समागम" का नया अंक प्रेमचंद पर

July 18, 2014

भोपाल। द्विभाषी मासिक शोध पत्रिका समागम का हर अंक विषय-विशेष पर केन्द्रित रहा है। माह जुलाई-2014 का अंक अमर कथाकार मुंशी प्रेमचंद पर केन्द्रित है।…

Read more

'हिन्दी चेतना' का जुलाई-सितम्ब​र 2014 अंक अब उपलब्‍ध

July 4, 2014

कैनेडा से प्रकाशित त्रैमासिक साहित्यिक पत्रिका 'हिन्‍दी चेतना' काजुलाई-सितम्‍बर 2014 अंक अब उपलब्‍ध है। इसमें हैं डॉ. मारिया नेज्‍येशी कासाक्षात्कार, रीता कश्‍यप, रजनी गुप्‍त, आस्‍था नवल, नीरा त्‍यागीकी कहानियाँ, कहानी भीतर कहानी- सुशील सिद्धार्थ, विश्व के आँचल से- साधना अग्रवाल, पहलौठीकिरण में शैली…

Read more

इस्लामिक मैगज़ीन (हिन्दी) सदा-ए-इस्लाम का विमोचन

April 23, 2014

गाजीपुर ( उ0प्र0)। सिद्दीक़ लाइब्रेरी द्वारा प्रकाशित इस्लामिक मैगज़ीन (हिन्दी) सदा-ए-इस्लाम का ‘सीरतुन्नबी नम्बर’ का विमोचन मंगलवार को शाही मस्जिद फतहपुर सिकन्दर, रेलवे स्टेशन सिटी गाजीपुर में हजरत मौलाना मुख़्तार अहमद कासमी के हाथों हुआ। प्रोग्राम की शुरूआत हजरत मौलाना फजलुल ब…

Read more

हिन्दी चेतना का अप्रैल-जून अंक प्रकाशित

April 13, 2014

कैनेडा/ कैनेडा से प्रकाशित त्रैमासिक साहित्यिक पत्रिका 'हिन्‍दी चेतना' का अप्रैल-जून 2014 अंक अब उपलब्‍ध है। इस बार के अंक में डॉ. कविता वाचक्‍नवी का साक्षात्कार, मनमोहन गुप्ता मोनी, प्रतिभा सक्सेना,  जय वर्मा,  ब्रजेश राजपूत,  प्रो.शाहिदा शाहीन की कहानियाँ, कहानी भीतर कहानी- सुशील सिद…

Read more

‘शब्दिता’: अपनी माटी की संवदेनाओं की संवाहिका

March 16, 2014

कौशल किशोर / लघु पत्रिकाओं का साहित्य के विकास में बड़ा योगदान रहा है। जहां ये पत्रिकाएं अद्यतन साहित्य को पाठकों तक पहुचाती हैं, वहीं ये नई प्रतिभाओं को भी मंच प्रदान करती हैं। बड़े तथा ख्याति प्राप्त साहित्यकारों की साहित्य यात्रा का आरम्भ भी इन्हीं पत्रिकाओं के माध्यम से हुआ है।…

Read more

पत्रिका ‘समागम’ 14वें वर्ष में

February 9, 2014

समाज, संचार एवं सिनेमा पर केन्द्रित अंक जारी

भोपाल। सिनेमा एवं मीडिया पर केन्द्रित भोपाल से प्रकाशित मासिक शोध पत्रिका समागम अपने निरंतर प्रकाशन के 13 वर्ष पूर्ण कर 14वें वर्ष में प्रवेश कर गयी है। शोध पत्रिका समागम…

Read more

शोध पत्रिका समागम 14वें वर्ष में

January 26, 2014

मनोज कुमार। तेरह वर्ष पूर्व जब हमने भोपाल से एक अनाम सी मीडिया एवं सिनेमा पर केन्द्रित द्विभाषी मासिक पत्रिका समागम का प्रकाशन आरंभ किया था तब इसकी निरंतरता को लेकर मन में संदेह था लेकिन संकल्प था कि कोशिश होगी कि प्रकाशन निरंतर बना रहे. हम अपने संकल्प पर कायम रहे तो आपके सहयोग, स्…

Read more

20 blog posts