मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

Blog posts August 2018

लेखन को स्थायित्व और वैधता देती निजी वेबसाइट

डॉ. अर्पण जैन 'अविचल'/ इंटरनेट की इस दुनिया ने पाठकों की पहुँच और पठन की आदत दोनों ही बदल दी है, इसी के चलते प्रकाशन और लेखकों का नज़रिया भी बदलने लगा है। भारत में लगभग हर अच्छे-बुरे का आंकलन उसके सोशल मीडिया / इंटरनेट पर उपस्थिति के रिपोर्टकार्ड के चश्में से देखकर तय कि…

Read more

2014 के जनादेश ने कैसे बदल दिया मीडिया को

पूण्य प्रसून वाजपेयी/ क्या वाकई भारतीय मीडिया को झुकने को कहा गया तो वह रेंगने लगा है। क्या वाकई भारतीय मीडिया की कीमत महज 30 से 35 हजार करोड की कमाई से जुड़ी है । क्या वाकई मीडिया पर नकेल कसने के लिये बिजनेस करो या धंधा बंद कर दो वाले हालात आ चुके हैं । हो जो भी …

Read more

प्रेस की आज़ादी पर 300 अमरीकी अख़बारों के संपादकीय

क्या भारत के बड़े अख़बार छोटे अख़बारों के हक में ऐसे संपादकीय लिख सकते हैं?

रवीश कुमार/ अमरीकी प्रेस के इतिहास में एक शानदार घटना हुई है। 146 पुराने अख़बार बोस…

Read more

अब मीडिया सरकार के कामकाज पर नजर नहीं रखती, बल्कि सरकार मीडिया पर नजर रखती है

मॉनिटरिंग की कोई बात मॉनिटरिंग करने वाला बाहर न भेज दें, इस पर नज़र रखी जा रही है

पुण्य प्रसून वाजपेयी/ दिल्ली में सीबीआई हेडक्वार्टर क…

Read more

आज के भारत का एजेंडा तय करनो को आईपैक की पहल

गांधी के बताये रास्ते के आधार पर- विचारों पर नये सिरे से चर्चा

महात्मा गांधी के 150 जयंती  वर्ष के मौके पर इंडियन पॉलिटिकल एक्शन कमेटी (आईपैक) गाँधी जी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उनके सबसे जरुरी…

Read more

मयंक अग्रवाल बने डीडी न्यूज के नये डीजी

नई दिल्ली/ पीआईबी पटना के डायरेक्टर जनरल मयंक कुमार अग्रवाल को डीडी न्यूज का नया डायरेक्टर जनरल बनाया गया है। वे इरा जोशी का स्थान लेंगे। इरा जोशी अब ऑल इंडिया रेडियो के नई दिल्ली स्थित न्यूज सर्विस डिपार्टमेंट की डायरेक्टर जनरल होंगी ।…

Read more

पत्रकारिता के क्षेत्र में रचनात्मक लेखन, शिवपूजन सहाय की देन

आचार्य शिव पूजन सहाय का 125 वां जयंती समारोह मनाया गया

पटना/ पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो गुलाब चंद राम जयसवाल ने कहा कि साहित्य व पत्रकारिता के क्षेत्र में रचनात्मक लेखन के लिए बिहार की जो पहचान …

Read more

एडिटर्स गिल्ड ने पत्रकारों को नौकरी से हटाने की निंदा की

नयी दिल्ली/ एडिटर्स गिल्ड ऑफ़ इंडिया ने पत्रकारों पर दवाब डालकर उन्हें नौकरी से हटाये जाने का आरोप लगाते हुए सरकार से मीडिया की आजादी सुनिश्चित करने के मांग की है।…

Read more

राज्य की सामाजिक-सांस्कृतिक उपलब्धियां होंगी प्रकाशित

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार के प्रकाशन विभाग द्वारा आयोजित लेखक सम्मेलन में इन्हें संकलित व प्रकाशित करने पर हुई चर्चा …

Read more

आर एन आई की टीम ने प्रातः कमल का जायजा लिया

मुजफ्फरपुर / आज रजिस्ट्रार ऑफ़ न्यूज़पेपर्स फॉर इंडिया (आर एन आई ) की टीम ने पत्र सूचना कार्यालय (पी आई बी ) के नेतृत्व में प्रातः कमल अख़बार के कार्यालय पहुंच उसके प्रकाशन का जायजा लिया। खबर मिली है कि अखबार का दफ्तर बंद था और यहां टीम को  संपादक राहुल आनन्द भी नही मिला। उससे फोन प…

Read more

वरिष्ठ पत्रकार सुमित मिश्र नहीं रहे

नई दिल्ली/ वरिष्ठ पत्रकार सुमित मिश्र का आज निधन हो गया. वे जनसत्ता अखबार और आजतक न्यूज चैनल से लंबे समय से जुड़े थे..बताया जा रहा है कि वे काफी अरसे से बीमार चल रहे थे. …

Read more

इण्डिया टी वी से इसलिए है प्यार...

रामजी तिवारी/ मुझे इण्डिया टी वी से प्यार है । उनके कार्यक्रमों "कद्दू में हनुमान" और "तीन बार क्यों रोये सलमान" का मैं पुराना फैन रहा हूँ । "गाय का दूध पीते है एलियन" और "लाल किले का लाल भूत" जैसी कई मास्टरपीस प्रस्तुतियां मेरे जेहन में अब भी बसी हुयी हैं ।…

Read more

मीडिया का बलात्कार

खबर को लिखने वाला पत्रकार खुद उस मानसिकता का शिकार नहीं?

प्रेमेन्द्र मिश्र/ ये है मिडिया का बलात्कार .. ये है गिरती पत्रकारिता ... एक महिला के बदन के लिए कितने गंदे शब्द इस्ते…

Read more

भयानक है यह चुप्पी !

मीडिया की नाक में नकेल डाले जाने का सिलसिला पिछले कुछ सालों से नियोजित रूप से चलता आ रहा है

क़मर वाहिद नक़वी। एबीपीन्यूज़ में पि…

Read more

पुण्य प्रसून वाजपेयी के मास्टर स्ट्रोक से डरी सरकार ?

मैनेजिंग एडिटर मिलिंद खांडेकर, पुण्य प्रसून वाजपेयी के बाद अभिसार शर्मा का भी इस्तीफा

पिछले कुछ दिनों से देश के प्रमुख समाचार चैनल ABP न्यूज में भारी उथल प…

Read more

स्त्री चेतना को जगाती कविताएं

एम अफसर खान 'सागर'/ सुहैल मेरे दोस्त उषा राय की पहली कविता संग्रह है। कुल चौव्वालीस (44) कविताओं का यह संग्रह स्त्री जीवन के विभिन्न रूपों को दर्शाती है, जिसमें करुणा, आक्रोश, ममता, दया और यथार्थ शामिल है। इसके साथ इस संग्रह में सामाजिक, पारिवारिक विद्रूपताओं के सरोकार भी प…

Read more

16 blog posts