मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

Blog posts June 2013

‘रेवान्त’ का अप्रैल-जून अंक प्रकाशित

लखनऊ साहित्यिक पत्रकारिता के क्षेत्र में हर दौर में लखनऊ ने अपना योगदान किया है। आज भी यहां से कई पत्रिकाएं निकल रही हैं जिनमें तदभव, …

Read more

मीडिया के नैतिक पतन पर आँसू भी, जुड़े लोगों का सम्मान भी !

कमर वाहिद नकवी / एस. पी. सिंह की बरसी पर मीडियाख़बर.काम द्वारा आयोजित सेमिनार में जाना हुआ.मीडिया की मौजूदा दयनीय स्थिति और पत्रकारीय मूल्यों के …

Read more

पंकज सुबीर को अंतर्राष्ट्रीय इंदू शर्मा कथा सम्मान

लंदन / कथा (यू के) के अध्यक्ष एवं प्रतिष्ठित मीडिया हस्ती श्री कैलाश बुधवार ने लंदन से सूचित किया है कि वर्ष 2013 के लिए अंतर्राष्ट्रीय इंदु शर्मा कथा सम्मान कथाकार, उपन्यासकार और कैनेडा की त्रैमासिक पत्रिका हिन्दी चेतना के सह संपादक श्री पंकज सुबीर को उनके सामयिक प्रकाशन से 2012 में प्रकाशि…

Read more

टेलिविज़न की बायलाइन

अख़बारों की तरह टीवी ने भी बायलाइन की मर्यादाएं कभी तय नहीं कीं, न न्यूज़ ब्राडकास्टिंग एसोसिएशन ने खुद कीं,  न प्रेस कौंसिल को ही कोई मतलब था…

Read more

उर्दू पत्रकारिता में आईआईएमसी से पाठ्यक्रम

लघु-अवधि का पाठ्यक्रम उर्दू भाषा के सभी श्रमजीवी/ स्वतंत्र पत्रकार के लिए होगा

नई दिल्‍ली/ भारतीय जनसंचार संस्थान (आईआईएमसी), नई दिल्‍ली ने उर्दू अखबारों…

Read more

भारतीय मीडिया व साहित्य की सूचनाओं का भंडार है "पत्रकारिता कोश"

लिम्का बुक ऑफ रिकार्ड में दर्ज है कोश का नाम

सूचना क्रांति के इस दौर में पत्रकारिता व साहित्य का दायरा काफी विस्तृत हो चुका है। हर दिन नए-नए समाचारपत्र व पत्रिकाओं का प्रकाशन प्रारंभ हो रहा है। चौबीसों घंटे पल-पल की खबरें देने के…

Read more

आह्वान को चाहिए संवाददाता

साप्ताहिक पत्रिका को चाहिए बिहार के सभी जिलों व अनुमंडलों में संवाददाता
पटना / यहां से प्रकाशित होने वाली साप्ताहिक पत्रिका आह्वान को बिहार के सभी जिलों व अनुमंडलों में सं…

Read more

“विश्वस्तरीय आदिवासी युवा शक्ति फेसबुक महापंचायत” अक्टूबर में

इंदौर में होगा आयोजित, एकजुटता की मिसाल पेश करेगें विश्व भर के आदिवासी

फेसबुक बना आदिवासियों को एकजुट करने का एक अच्छा मंच…

Read more

हम तो खुले बाजार में मीडिया के गुलाम हैं !

संकट बस तब तक है, जबतक मीडिया संकट बनाये रखता है

पलाश विश्वास/  हम न ब्राजील है और न हम भारत हैं, हम तो खुले बाजार में मीडिया के गुलाम हैं! हमारे कप्तान कूल महेंद्र सिंह धोनी लंदन में चैंपियन कप जीतकर वि…

Read more

बेशर्म मीडिया !

ताहिरा हसन/  एक टी वी चैनल ने ख़बर दी कि गुजरात के मुख्यमंत्री ने लक्जरी गाड़ियों और टोयोटा की बसों के द्वारा उत्तराखंड आपदा में फँसे 15000 गुजरातियों को बचा कर घर भेजा ....मेरी समझ में नही आता जहां आर्मी, आई टी बी पी और दूसरी पैरा मिलिट्री ताकतें 87 हेलिकॉप्टरों से जो काम हफ्तों म…

Read more

पटना हिंदुस्तान अखबार का स्टिंग तमाशा!

इर्शादुल हक़ पटना / हिंदुस्तान के पटना एडिशन के कथित स्टिंग या पड़ताली खबर का आज तीसरा दिन है. लेकिन आश्चर्य की बात है कि इस कथित पड़ताल में कोई ऐसी बात नहीं जो नयी हो. तुर्रा यह कि जिसे हिंदुस्तान के पटना सम्पादक स्टिंग कह रहे हैं, न तो (उसमें संलिप्त लोगों)उन डाक्टरों…

Read more

केबल आपरेटरों का 30 जून को हड़ताल का ऐलान

एक्सकैलिबर स्टीवेंस विश्वास /केबल टीवी सर्विसेज के डिजिटाइजेशन के बहाने उपभोक्ताओं को खुलेआम लुटा जा रहा है। पहले तो सेट टाप बाक्स लगाने की मुहिम चली और अब कस्टमर एप्लीकेशन फॉर्म [सीएएफ] जमा कराने की मुहिम है। पसंदीदा चैनल देखने के लिए पसंद के मुत…

Read more

मीडिया में गायब हैं इन इलाकों के मूल निवासी

त्रासदी में इनकी खबर लेने वाला कोई नहीं

मयंक सक्सेना। केदारनाथ जैसी यात्राओं पर आने जाने का एक आदमी का खर्च कितना है...अंदाज़ा लगाइए...कोई बात नहीं...लेकिन ये तो तय है कि रोटी के लिए संघर्ष कर रहा आदमी तो वहां नही…

Read more

निष्क्रिय ईमेल आईडी नये लोगो को जारी करेगा याहू

कंप्यूटर हैकर नहीं कर पायेँगे दुरूपयोग

सैन फ्रांसिस्को। बारह महीने से निष्क्रिय ईमेल आईडी को याहू नये लोगो को जारी करेगा। इस संबंध में आशंकाओं के मद्देनजर इंटरनेट कपंनी याहू ने अपने उपभोक्ताओ को आशान्वित क…

Read more

लानत ऐसे सम्पादक पर.....

मयंक सक्सेना। जिस जगह 500 लाशें सिर्फ गौरीकुंड में मिली हों...वहां के लिए एक अखबार छाप रहा है कि करिश्मा देखिए...मंदिर बच गया...देखिए दैनिक जागरण शर्मनाक ढंग से क्या छापता है...…

Read more

तबाही पहाड़ों पर और न्यूज़ चैनलों को लगता है ख़तरा दिल्ली को

दीपक चौबे। तबाही पहाड़ों पर है और न्यूज़ चैनलों को लग रहा है कि सबसे ज्यादा ख़तरा दिल्ली को है जहां सड़कों पर सोने वाला एक आवारा कुत्ता भी नहीं बहेगा, इसकी गारंटी है। लेकिन बिना लागत की रिपोर्टिंग में जिसमें सिर्फ कैमरा लेकर रिंग रोड किनारे चले जाना हो और ग्राफिक्स पर दस ठो मोहल्ला…

Read more

मीडिया की विश्‍वसनीयता पर लगे हैं सवालिया निशान

मीडिया में बड़े बिजनेस घरानों की घुसपैठ, इन्होंने मीडिया की आजादी के विरूद्ध काम किया है

(राष्‍ट्रीय पत्रकार संघ के द्विवार्षिक सत्र के शुभारंभ के अवसर पर उप-…

Read more

राजस्थानी भाषा को मान्यता से ही राजस्थान का विकास

 राजस्थानी गुजराती लोक साहित्य पर राष्ट्रिय सेमिनार का समापन

उदयपुर। राजस्थानी भाषा की मान्यता की मांग प्रदेश, देश व विदेश में जोर शोर से उठ रही है। भोजपुरी के साथ राजस्थानी को भी म…

Read more

दिग्गज पत्रकारों को खाली करने होंगे अवैध कब्जे

अतुल मोहन सिंह / लखनऊ। लोकतंत्र का चौथा स्तम्भ माना जाने वाले मीडिया को अखिलेश यादव सरकार ने अंतत: नैतिकता का पाठ पढ़ाया। शासन के निर्देश पर राज्य सम्पत्ति विभाग ने अनाधिकृत तौर पर सरकारी आवासों में रह रहे 27 क्रीमीलेयर पत्रकारों को आवास खाली करने का नोटिस थमाया है। …

Read more

सतर्क पत्रकारों की नई पीढ़ी जरूरी

"वोट की राजनीति मे मीडिया के प्रभाव" विषय पर संगोष्ठी

नई दिल्ली। वर्तमान परिवेश मे मीडिया का दायरा काफी बढ गया है साथ ही उसकी जिम्मेदारियो मे भी इजाफा हुआ है। इसलिए नयी पीढी को अत्यधिक संतुलित और सतर…

Read more

20 blog posts