मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;ab0b39d81ff7e3038e6e74133ba3b11b5e55b687175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;828103351aa17fe10e5964aaae8861bd15d1d716175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;1549d7fbbceaf71116c7510fe348f01b25b8e746175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d175;250;3f8bd1cf76134edb8bbd64fe531f169c10e5303f175;250;0bb624b0b1146fd3811a95d9917376463b22c057

राष्ट्रीय सुर्खियां--

सम्पादक

डॉ. लीना


Print Friendly and PDF

समाज की धड़कन है जनसम्पर्क

जनसम्पर्क दिवस, 21 अप्रैल पर विशेष

मनोज कुमार/ अंग्रेजी के पब्लिक रिलेशन को जब आप अलग अलग कर समझने की कोशिश करते हैं तो पब्लिक अर्थात जन और रिलेशन अर्थात सम्पर्क होता है जिसे हिन्दी में जनसम्पर्क कहते हैं. रिलेशन अर्थात संबंधों के बिना समाज का तानाबाना नहीं बुना जा सकता है और इस दृष्टि से पब्लिक रिलेशन का केनवास इतना बड़ा है कि लगभग सभी विधा उसके आसपास या उसमें समाहित होती हैं. पब्लिक रिलेशन को लेकर भारत में आम धारणा है कि …

Read more

सोशल मीडिया पर स्वनियमन आवश्यक

पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के नोएडा परिसर में ‘सोशल मीडिया : अवधारणा और विश्वसनीयता’ विषय पर चर्चा आयोजित

नोएडा। तथ्यों की जांच किए बगैर हम सोशल मीडिया पर निजता को शेयर कर रहे हैं, एक तरफ जहां सब कुछ छुपा लेना चाहते है वहीं एक दूसरा तंत्र है जो आप पर नजर जमाये हुये है । आज की जरूरत है…

Read more

कठुआ दुष्कर्म की खबर के बाद अख़बार और इसके बिहार संवादी कार्यक्रम पर बवाल

हो रही चारों ओर निंदा, कई साहित्यकारों व संगठनों ने किया बहिष्कार  

डॉ. लीना/ पटना/ कठुआ दुष्कर्म को लेकर “बच्ची से नहीं हुआ था दुष्कर्म” शीर्षक से खबर छापने के बाद कल से ही अख़बार की निंदा की जा रही है. साहित्यकारों, पत्रकारों सहित आमजन भी इसे प्रो-रेपिस्ट पत्रकारिता की संज्ञा दे रहे हैं. इसी मीडिया समूह द्वारा आज से शुरू हो रहे दो दिवसीय बिहार संवादी कार्यक्रम का आयो…

Read more

महज उपकृत करने के लिए अख़बारों को विज्ञापन

हिंदुस्तान पटना ने फिर छापा समय के बाद सरकारी विज्ञापन

संजय कुमार /बिहार शरीफ/  मीडिया को लोकतंत्र के चौथे खंभे के रूप में जाना जाता है. परंतु , आज प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया अपने कर्तव्यों को निर्वाहन सही रूप में नहीं कर पा रही  हैं. वहीं  दूसरी ओर न्यूज़ वेब पोर्टल स्वतंत्र एवं निष्पक्ष समाचार  पाठकों तक अपने सीमित संसाधन के बूते  सफलतापूर्वक कर रहे हैं . सरकार …

Read more

हिंद वॉच को संवाददाताओं की जरूरत

मीडिया समूह का झारखण्ड में प्रसार

जनपक्षधरता की पत्रकारिता करने वाले हिंद वॉच मीडिया समूह ने अपने अखबार, न्यूज़-पोर्टल और वेब चैनल का विस्तार झारखण्ड के सभी जिलों में किया है| एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर समूह के संपादक सुशील स्वतंत्र ने बताया कि हिंद वॉच ने प्रखंड स्तर पर जमीनी संवाददाताओं को जोड़ने के एक एक विज्ञापन जारी किया है| समूह का संचालन युवा पत्रकारों और सामाजिक कार्यकर्ताओं द्वारा दिल्ली से किया जा रहा है। झारखण्ड में मीडिया गतिवि…

Read more

कठुआ मामले में मीडिया घरानों पर दस-दस लाख का जुर्माना

नयी दिल्ली/ दिल्ली उच्च न्यायालय ने जम्मू कश्मीर के कठुआ में बलात्कार की पीड़ित बच्ची की पहचान उजागर करने वाले मीडिया घरानों के खिलाफ कड़ा रुख अपनाते हुए दस- दस लाख रुपए का जुर्माना लगाया है। …

Read more

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की वेबसाइट गड़बड़

ब्यूरो/ डिजिटल इंडिया के इस दौर में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय का वेबसाइट पिछले कई दिनों से गड़बड़ चल रहा है. पिछले दो-तीन दिनों से इस साईट को खोलने में समस्या आ रही है. वेबसाइट के पता (http://mib.nic.in/ ) पर जाने से “यह साईट रखरखाव में है या ओवरलोड है बाद में कोशिश करें” की सूचना आ रही है. आज सुबह जब यह एक बार खुला था तो यहाँ 28 मार्च के बाद के जारी सारे आदेश गायब थे, जो कि पिछले दिनों में देखे गये हैं, हालाँकि साईट लास्ट अपडेटेड 17 अप्रैल बता रहा था.   …

Read more

भवेश चंद ने संभाला दैनिक हिन्दुस्तान, पूर्णिया के संपादक का पद

मनिष कुमार/ भवेश चंद ने दैनिक हिन्दुस्तान, पूर्णिया के संपादक का पद संभाल लिया है। इससे पहले वे दैनिक भास्कर, पटना  में कार्यरत थे।

महज 18 वर्षीय पत्रकारिता कैरियर में किसी अखबार का स्थानीय संपादक बन जाना कोई मामूली बात नहीं। मूलरूप से बेगुसराय बिहार के रहने भवेश चंद, दैनिक हिन्दुस्तान …

Read more

क्या दुनियाभर में टीवी की बहस में भी संभव है- फिक्सिंग?

प्रदीप द्विवेदी/ टीवी पर खबरों को लेकर प्रसिद्ध पत्रकार पुण्य प्रसून वाजपेयी के हवाले से जो कुछ कहा गया है, यदि वह अर्धसत्य है तो भी एक बड़ा सवाल फिर गहरा रहा है कि... क्या दुनियाभर में टीवी की बहस में भी संभव है- फिक्सिंग?…

Read more

क्या सोशल मीडिया पर नियंत्रण की है जरूरत ?

हालिया दो भारत बंद से उपजे कई सवाल

नई दिल्ली/कुमोद कुमार/ दलित आंदोलन फिर उसके बाद आरक्षण विरोधी आंदोलन में ये रोज-रोज के भारत बंद आंदोलन कहां से पैदा हो रहे हैं? इसमें शामिल होने वाले लोग कहां से आ रहे हैं।…

Read more

मध्यप्रदेश में पत्रकारों के स्वास्थ्य और दुर्घटना समूह बीमा की राशि बढ़ेगी

भोपाल/ मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पत्रकारों के स्वास्थ्य एवं दुर्घटना समूह बीमा योजना में कैशलेस इलाज की व्यवस्था को बढ़ाकर चार लाख रूपये करने की घोषणा की है। अभी तक यह सीमा दो लाख रूपये की है।…

Read more

प्रेस क्लब रजत जयंती समारोह में 21 प्रतिभाओं को मिलेगा सम्मान

मध्यप्रदेश प्रेस क्लब का रजत जयंती वर्ष पर 9 को आयोजन 

भोपाल / मध्यप्रदेश प्रेस क्लब के रजत जयंती वर्ष के अवसर पर देश दुनिया मे मध्यप्रदेश का नाम करने वाली शख्सियतो को मध्यप्रदेश रत्न अलंकरण से 9 अप्रैल को सम्मानित किया जाएगा। प्रोग्राम भोपाल के होटल पलाश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के मुख्य आतिथ्य में होगा।…

Read more

आलेख- ख़बरें और भी हैं

View older posts »