मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;f5d815536b63996797d6b8e383b02fd9aa6e4c70175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;1549d7fbbceaf71116c7510fe348f01b25b8e746175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

राष्ट्रीय सुर्खियां--

सम्पादक

डॉ. लीना


Print Friendly and PDF

एफटीआईआई के पांच पाठ्यक्रमों को एआईसीटीई की मंजूरी

पुणे/ भारतीय फिल्‍म और टेलीविजन संस्‍थान (एफटीआईआई) पुणे को ऐतिहासिक उपलब्धि  हासिल हुई है। एफटीआईआई के पांच पाठ्यक्रमों को अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) ने नवगठित व्‍यावहारिक कला और शिल्‍प श्रेणी में मंजूरी प्रदान की है। इस मंजूरी से भारत के प्रमुख फिल्‍म संस्‍थान, एफटीआईआई देश का पहला और एकमात्र संस्‍थान बन गया है, जिसे यह मान्‍यता मिली है।…

Read more

भारतीय पत्रकारिता में इंदौर शहर का योगदान

डॉ.अर्पण जैन 'अविचल'/ जब धरती के गहन, गंभीर और रत्नगर्भा होने के प्रमाण को सत्यापित किया जाएगा और उसमें जब भी मालवा या कहें इंदौर का जिक्र आएगा निश्चित तौर पर यह शहर अपने सौंदर्य और ज्ञान के तेज से बखूबी स्वयं को साबित करेगा। हिंदी या कहें अन्य भाषाओँ में इंदौर के पत्रकार और साहित्यकारों का एक अलग ही स्थान है। जिस शहर को मध्यप्रांत की पत्रकारिता का केंद्र या कहें नर्सरी ही कहा जाता हो वह शहर का बाशिंदा होना भी अपने आप में गर्वित होने का कारक है।…

Read more

66 वें राष्‍ट्रीय फिल्‍म पुरस्‍कारों की घोषणा आम चुनाव के बाद

नई दिल्ली/ राष्‍ट्रीय फिल्‍म पुरस्‍कारों का चयन एक निष्‍पक्ष और स्‍वतंत्र जूरी द्वारा किया जाता है जिसमें जाने माने प्रख्‍यात फिल्‍म निर्माता और फिल्‍मी हस्तियां शामिल रहती हैं। पुरस्‍कारों की घोषणा हर साल अप्रैल महीने में की जाती है।…

Read more

क्यूं दूर होते जा रहे हैं ‘किताबों’ से

विश्व पुस्तक तथा कापीराइट दिवस-23 अप्रैल विशेष

निर्भय कर्ण/ विलियम स्टायरान ने कभी कहा था कि ‘एक अच्छी किताब के कुछ पन्ने आपको बिना पढ़े ही छोड़ देना चाहिए ताकि जब आप दुखी हों तो उसे पढ़ कर आपको सुकुन प्राप्त हो सके’। यह बातें उनके दौर में और आज से 4-5 वर्ष पूर्व तक काफी सटीक था लेकिन आज के दौर में यदि आपने किसी पुस्तक को पढ़ कर छोड़ दिया है तो छूटा ही रह जाता है। क्यूंकि हम किताबों से परहेज करने लगे हैं …

Read more

बीच-बीच में आर्थिक ख़बरों को पढ़ते-समझते रहिए

यही असली खेल हो रहा है, न कि वहां जहां आप लगे हैं

रवीश कुमार / इंडियन एक्सप्रेस के संदीप सिंह की ख़बर ध्यान से पढ़ें। ख़बर की हेडिंग है कि एस्सल ग्रुप की दो कंपनियां घाटे में थीं फिर भी देश के चोटी के म्यूचुअल फंड कंपनियों ने 960 करोड़ का निवेश किया। इन कंपनियों का बहीखाता पढ़कर संदीप ने लिखा है कि एस्सल ग्रुप की कंपनियां घाटे में चल रही थीं फिर भी चोटी के तीन म्यूचुअल फंड ने निवेश किया। एस्सल ग्रुप की …

Read more

डब्ल्यूजेएआई ने की पत्रकार पुत्र हत्याकांड की कड़ी निन्दा

पटना/ वेब जर्नलिस्ट एसोसिएशन ऑफ इंडिया की यूपी और पटना इकाई ने नालंदा के पत्रकार पुत्र की हत्याकांड की कड़ी निन्दा की है। संगठन की इकाईयों द्वारा शोकसभा आयोजित कर मृत आत्मा को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए पीड़ित परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त की गई।…

Read more

समीक्षा की समीक्षा

मीडियामोरचा में कैलाश दहिया ने “समकालीन हिन्दी दलित साहित्य: एक विचार विमर्श’’ नाम की पुस्तक की समीक्षा की  

अजय चरणम्/ वरिष्ठ लेखक सूरजपाल चैहान की ‘‘समकालीन हिन्दी दलित साहित्य: एक विचार विमर्श’’ नाम की पुस्तक की समीक्षा वरिष्ठ आलोचक कैलाश दहिया की पढ़ी - मीडियामोरचा में । समीक्षा पढ़कर मैं काफी प्रवाहि…

Read more

एफटीआईआई से फिल्‍म समालोचना और समीक्षा कला में पाठ्यक्रम

आवेदन करने की अंतिम तिथि 22 अप्रैल, 2019

दिल्‍ली/ एक बार फिर नई उंचाइयों को छूते हुए, भारतीय फिल्‍म एवं टेलीविजन संस्‍थान (एफटीआईआई) पुणे ने पहली बार फिल्‍म समालोचना और समीक्षा कला में एक पाठ्यक्रम की घोषणा की है। भारतीय जनसंचार संस्‍थान (आईआईएमसी), दिल्‍ली के सहयोग से दिल्‍ली में 28 मई से 19 जून, 2019 के बीच 20 दिन के पाठ्यक्रम को संचालित किया जायेगा।…

Read more

भारतीय निर्वाचन आयोग की मीडिया एडवाइजरी

वर्जित अवधि के दौरान किसी भी रूप में चुनाव परिणामों की भविष्यवाणी करने के संबंध में प्रसारण /प्रकाशन के कार्यक्रमों से परहेज करें

नई दिल्ली/ भारत निर्वाचन आयोग ने सभी मीडिया (इलेक्ट्रॉनिक और प्रिंट) को स्‍वतंत्र, निष्‍पक्ष और पारदर्शी चुनाव सुनिश्चित करने के लिए धारा 1…

Read more

‘‘दलितों के उत्थान में बाबू जगजीवन राम का योगदान" पुस्तक का लोकार्पण

जगजीवन राम संसदीय अध्ययन एवं राजनीतिक शोध संस्थान में बाबू जगजीवन राम की 112वीं जयंती मनी

पटना। पूर्व उप प्रधानमंत्री, स्वतंत्रता सेनानी और प्रतिष्ठित सांसद रहे स्व. बाबू जगजीवन राम की आज 112वीं जयंती जगजीवन राम शोध संस्थान में मनाई गई। इस अवसर पर डॉ. मो. खुर्शीद आलम द्वारा लिखित पुस्तक ‘‘दलितों के उत्थान में बाबू जगजीवन राम का योगदान" पुस्तक …

Read more

डब्ल्यूजेएआई की राष्ट्रीय कमेटी की पहली बैठक आयोजित

एसोसिएशन की सदस्यता अभियान की हुई शुरुआत, अगस्त में राष्ट्रीय सम्मेलन कराने का निर्णय

एसोसिएशन के पटना इकाई का भी हुआ गठन

पटना/ वेब जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया (डब्ल्यूजेआई) के राष्ट्रीय कार्यसमिति की प्रथम बैठक सह वेब पत्रकार सम्मेलन का आयोजन बिहार की राजधानी पटना के फ्रेजर रोड में म…

Read more

जनसम्पर्क अधिकारियों का सम्मान करेगा पल-पल इंडिया डॉट कॉम

बीते वर्ष से हुई है शुरुआत, इस वर्ष 21 अप्रैल को आयोजन

जबलपुर/ देश के सबसे तेज हर पल उत्परिवर्तित इंटरनेट समाचार-पत्र पल-पल इंडिया डॉट कॉम लीक से हटकर काम करने की कोशिश करता है. इसी क्रम में बीते वर्ष राज्य एवं केन्द्र सरकार के विभिन्न विभागों में जनसम्पर्क का दायित्व निर्वहन करने वाले अधिकारियों के सम्मान करने की एक विशिष्ठ परम्परा का श्रीगणेश किया था. इस वर्ष भी 21 अप्रैल 2019  को राष्ट्रीय जनसम्पर…

Read more

आलेख- ख़बरें और भी हैं

View older posts »