मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

Blog posts January 2020

सामाजिक क्रांति के महानायक पत्रकार : डॉ. अम्बेडकर

(‘मूकनायक’ के 100 साल- 31 जनवरी, 2020 पर विशेष)

संजय कुमार/ डॉ. भीमराव रामजी अम्बेडकर किसी परिचय के मोहताज नहीं है, संविधान निर्माता और दलितों के मसीहा के तौर विख्यात हैं। डॉ. अम्बेडकर के परिचय में एक सफल पत्रकार एवं संपादक शब्…

Read more

इसका, उसका, किसका मीडिया

(‘मूकनायक’ के 100 साल- 31 जनवरी, 2020 पर विशेष)

संजय स्वदेश/  बाबा साहब भीम राव अंबेडकर ने 31 जनवरी 1920 को मराठी पाक्षिक ‘मूकनायक’ का प्रकाशन प्रारंभ किया था. सौ साल पहले पत्रकारिता पर अंग्रेजी हुकूमत का दबाव था. दबाव से कई …

Read more

अंबेडकर की पत्रकारिता

(‘मूकनायक’ के सौ साल- 31 जनवरी, 2020 पर विशेष)

डॉ. विद्या शंकर विभूति/ डॉ.भीमराव अंबेडकर प्रशिक्षित अर्थशास्त्री एवं बैरिस्टर थे, पत्रकारिता से उनका कोई लेना-देना नहीं था, लेकिन काल और परिस्थितियों की वजह …

Read more

मूक नायक की गूंज सौ वर्ष बाद भी

(‘मूकनायक’ के सौ साल- 31 जनवरी, 2020 पर विशेष)

मनोज कुमार/ प्रकाशन का नाम ‘मूकनायक’ था लेकिन आवाज इतनी बुलंद की आज गुजरते सौ वर्ष में भी  ‘मूकनायक’ का डंका बज रहा है। ‘मूकनायक’ डॉ. भीमराव अम्बेडकर की पत्रकारिता के सौ साल का…

Read more

वक्त है संभल जाएं...

अम्बरीष कुमार/ मीडिया के लिए यह काला दिन है !

ये पत्रकार कवरेज करना चाहते हैं ,बात करना चाहते हैं ।संपादक भी खड़े हैं पुलिस के घेरे में पर जनता नही चाहती ।यह पहली बार दिख रहा है ,वैसे कोई आंदोलन पत्रकारों को बुलाये तो वे आते नही औ…

Read more

मूकनायक और अम्बेडकरी पत्रकारिता के 100 साल का उत्सव

नई दिल्ली। 31 जनवरी 1920, ये वो तारीख है जब एक नए अध्याय की शुरुआत हुई थी। इस दिन डॉ. अम्बेडकर ने मराठी भाषा में 'मूकनायक' नाम से पाक्षिक शुरू किया था। इसके सौ साल पूरा होने पर देश की राजधानी दिल्ली में एक भव्य आयोजन होने जा रहा है। यह आयोजन दिल्ली में 15 जनपथ स्थित डॉ. अम्बेडकर इं…

Read more

मीडिया सरकारी योजनाओं को निष्पक्षता से जनता तक पहुँचाने की करे पहल

पत्र सूचना कार्यालय, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार, पटना द्वारा बेगूसराय में क्षेत्रीय मीडियाकर्मियों हेतु एकदिवसीय कार्यशाला  “वार्तालाप” आयोजित…

Read more

जनता बेख़बर है

हिंदी के सभी प्रमुख दैनिक अख़बारों के मुख पृष्ठ ढके हैं ....... 

चंद्रेश्वर //

बीत रही जो तिथि वो तेईस जनवरी है

दो हज़ार बीस की …

Read more

क्षेत्रीय मीडियाकर्मियों के लिए पीआईबी, पटना का वार्तालाप कल

बेगूसराय के जिलाधिकारी करेंगे एकदिवसीय कार्यशाला “वार्तालाप” का उद्घाटन

बेगूसराय/ सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार की प्रमुख मीडिया इकाई, पत्र सूचन…

Read more

‘ब्रेकिंग न्‍यूज’ के कोलाहल में समाचार माध्‍यम का ह्रास हुआ है: राष्‍ट्रपति

राष्‍ट्रपति ने 14वां रामनाथ गोयंका विशिष्‍ट पत्रकारिता पुरस्‍कार प्रदान किए

नई दिल्ली/ राष्‍ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद ने 20 जनवरी, 2020 को नई दिल्‍ली में…

Read more

'छप्पाक' की छप्प में 'तानाजी' का भगवा ध्वज

मीडिया कमाई के बहाने  ये साबित करना चाहता है कि 'भगवे ' ने ' एसिड 'को पटखनी दे दी!

राजेश कुमार/ गत सप्ताह शुक्रवार को दोनों फिल्में एक साथ रिलीज हुई। मामला तूल …

Read more

मीडिया इकाइयों का सम्मेलन जम्मू में आयोजित

जम्मू/ जम्मू-कश्मीर क्षेत्र के क्षेत्रीय आउटरीच ब्यूरो ने जम्मू में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार की मीडिया इकाइयों के दो दिवसीय क्षेत्रीय सम्मेलन का आयोजन किया है। इस सम्मेलन का उद्देश्य मीडिया इकाइयों के बीच तालमेल को सुदृढ़ करना है ताकि दूर-दराज के क्षेत्रों तक डिलीवरी सुनिश्च…

Read more

समागम के 19 वर्ष पूर्ण

पत्रिका का नया अंक ‘शब्द सत्ता की शताब्दी’

भोपाल। पंडित माखनलाल चतुर्वेदी द्वारा संपादित ‘कर्मवीर’ के प्रकाशन के सौ वर्ष 17 जनवरी को पूर्ण हो रहा है और 31 जनवरी को डॉ. भीमराव अंबेडकर द्वारा प्रकाशित-सम्पादित पत्रिक…

Read more

आज की भी जरूरत हैं कर्मवीर और मूकनायक

मनोज कुमार/ शब्द सत्ता की शताब्दी मनाते हुए हम हर्षित हैं लेकिन यह हर्ष क्षणिक है क्योंकि महात्मा गांधी जैसे कालजयी नायक के डेढ़ सौ वर्षों को हम चंद महीनों के उत्सव में बदल कर भूल जाते हैं, तब सत्ता को आहत करने वाली पत्रकारिता की जयकारा होती रहे, यह कल्पना से बाहर है। इन सबके बावजू…

Read more

कुणाल के परिजनों की आर्थिक मदद की जाएगी

डबल्यूजेएआई की ओर से एक दिवंगत पत्रकार के लिए शोक सभा का आयोजन

पटना/ ईटीवी भारत के संवाददाता कुणाल सिंह की असामयिक निधन पर बुधवार शाम वेब जॉर्नलिस्ट एसोसिएशन ऑफ इंडिया (डबल्यूजेएआई) की ओर स…

Read more

तथ्यों के समावेश से ही प्रामाणिक बनते हैं समाचार: प्रधानमंत्री

पत्रिका तुगलक का स्वर्ण जयंती कार्यक्रम

चेन्नई/ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि तथ्यों के समावेश से ही समाचार प्रामाणिक बनते हैं। उन्होंने समाचार माध्यमों से जनता के समक्ष विवेकपूर्ण और तार्किक ढंग से समाचार…

Read more

इंटरनेट पर शीर्ष अदालत का फैसला बनेगा नज़ीर!

लिमटी खरे/ कानून और व्यवस्था की स्थिति निर्मित होने की आशंकाओं को देखकर धारा 144 को लागू करना लाजिमी है पर लंबे समय तक इस धारा का प्रयोग कैसे किया जा सकता है! देश की सर्वोच्च अदालत ने भी इस बारे में ऐतराज जताते हुए कहा है कि सीआरपीसी की धारा 144 (निषेधाज्ञा) को लंबे समय या अनिश्चित क…

Read more

सचमुच जन मीडिया की ही वकालत

'जन मीडिया' का जनवरी 2020 अंक

डॉ लीना/ 'जन मीडिया',  जनवरी 2020 का अंक काफी खास है। “हमारा समाज, हमारा शोध” पंचलाइन के साथ सालों से हर महीने प्रकाशित होने वाले 'जन मीडिया' के इस अंक में कश्मीर  मुद्दा, टीवी चैनलों को सेल्फ सेंसरशिप, बीबीसी के शार्ट …

Read more

स्वतंत्र पत्रकारिता के बिना लोकतंत्र नहीं चल सकता है: जे. रैन्ज

अमेरिका के काउंसलेट जनरल डेविड जे. रैन्ज का मीडिया विद्यार्थियों के साथ संवाद  

भोपाल। अमेरिकी वाणिज्य दूतावास के काउंसलेट जनरल डेविड जे. रैन्ज ने माखनलाल च…

Read more

बिहार की बेशर्म पत्रकारिता

प्रेमकुमार मणि/  बिहार में पत्रकारिता के पतन की पराकाष्ठा है कि आज हिंदी दैनिक 'हिंदुस्तान ' में मुजफ्फरपुर शेल्टर होम से सम्बंधित खबर सोलहवें पृष्ठ पर नीचे कोने में दुबकी -सी प्रकाशित है . दूसरे अख़बार मैंने नहीं देखे हैं कि बता सकूँ वहां क्या हाल है . हिंदुस्तान में मुख्य …

Read more

20 blog posts