मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

Blog posts May 2013

एक बेहतरीन संपादक भी थे ऋतुपर्णो

पलाश विश्वास / महज 49 साल की आयु में हाल के वर्षों में बंगाल के सबसे सक्रिय और सबसे चर्चित फिल्मकार ऋतुपर्णों  घोष नींद में चले गये।…

Read more

क्या इस खबर पर यकीन है ?

मीडिया के महारथियों का भी जवाब नहीं .......भाई लोग खबर चला रहे हैं कि सोनिया गाँधी और मनमोहन सिंह में खटपट चल रही है। मनमोहन जी सोनिया गाँधी की बात नहीं सुन रहे। वे जो चाहती है , प्रधानमंत्री ठीक उसका उल्टा करते हैं। पहले यह खबर अख़बारों में आ…

Read more

दक्षिण मुंबई और दबंग दुनिया ने बढाया हमारा महानगर का संकट

समूह संपादक द्विजेंद्र तिवारी हुए नाराज, तीन महीने से नही आये कार्यालय
मुंबई। मई महीने से प्रकाशित हो रहे है दैनिक “दक्षिण मुंबई” और अगले महीने से प्रकाशन की तैयारी कर रहे “द…

Read more

पत्रकारी में भी ठेकेदारी

रमेश प्रताप सिंह। पत्रकारिता के जन्म दिवस पर ग़मगीन ह्रदय से आप सभी कलमकारों का आभारी हूँ।

दरअसल पत्रकारिता की काफी पहले मौत हो गई और उसकी लाश के अंत्यपरी…

Read more

ऐसे भी थे पत्रकार

मनोज कुमार साथियों, हिन्दी पत्रकारिता दिवस के इस महान अवसर को स्मरण करते हुये आप सभी प्रतिबद्ध साथियों को मेरा नमस्कार, बधाई. हिन्दी पत्रकारिता दिवस के ठीक दो दिन पहले मुझे एक अनुभव से गुजरने अवसर मिला. इस अनुभव को आपके साथ बांटने में मुझे आनंद का अनुभव होगा.…

Read more

‘तस्वीर जिंदगी के’ भोजपुरी का पहला ग़ज़ल एलबम

मुंबई। भोजपुरी में पहली बार ग़ज़ल सुनने को मिलेगा। टी-सीरीज ने ‘तस्वीर जिंदगी के’ नामक भोजपुरी ग़ज़ल रिलीज किया है। इस ग़ज़ल को स्वर दिया है प्रतिभा-जननी सेवा संस्थान के सांस्कृतिक सचिव व ग़ज़ल गायक सरोज सुमन ने। मनोज भावुक के रचे इन गज़लों को ऑडियो फार्म में लाने का कॉन्सेप्ट प्रतिभा-जन…

Read more

एंकरों की जानकारी या संकरी सोच ?

जगमोहन फुटेला / टीवी पत्रकारिता में खासकर एंकरों की जानकारी कितनी सतही है कल रात नौ बजे एनडीटीवी इंडिया पे प्रसारित कार्यक्रम इस की बानगी है. कार्यक्रम छतीसगढ़ नरसंहार पे था और उस में प्रो. हिमांशु कुमार और राहुल पंडिता के अलावा बाकी सब जैसे पार्टियों के प्रवक्ता थे. सच पूछिए …

Read more

दलित बहुजन साहित्य पर राष्ट्रीय सेमिनार

दलित साहित्य और मीडिया पर भी चर्चा

यूजीसी सम्पोषित दो दिवसीय सेमिनार में पुस्तकों का भी लोकार्पण

बारा चकिया (मुजफ्फरपुर, बिहार)…

Read more

मनोज भावुक का एकल कहानी पाठ

आयोजित हुआ मैथिली - भोजपुरी अकादमी, दिल्ली द्वारा तीन दिवसीय “साहित्यिक पर्व"

दिल्ली कथाकार मनोज भावुक को बहुत कम लोग जानते हैं। उनकी लोकप्रियता एक कवि एवं …

Read more

रमेश नीलकमल की याद में..

कवि, कथाकार, संपादक व प्रकाशक रमेश नीलकमल के असामयिक निधन पर एक संस्मरण..
अरविन्द श्रीवास्तव / कवि, कथाकार और 'शब्द कारखाना’ पत्रिका के सिद्ध संपादक रमे…

Read more

स्वाधीनता दिवस तक सभी जिलो में प्रेस क्लब की होंगी शाखायें

गणेश शंकर विद्यार्थी प्रेस क्लब के प्रदेशाध्यक्ष संतोष गंगेले ने दी जानकारी

छतरपुर(मप्र)। मध्य प्रदेश के अंदर अनेक पत्रकारों के संगठन पत्रकारों के हितो…

Read more

अवैध है तारा न्यूज और तारा म्युजिक का अधिग्रहण!

टीवी चैनलों की लाइसेंसिंग प्रणाली के खिलाफ है यह कदम

किसी राज्य सरकार को अपना टेलीविजन चैनल चलाने का अधिकार नहीं है…

Read more

सूचना जनसंपर्क पदाधिकारियों की कार्यशाला

बाल अधिकार संबंधी यूनिसेफ प्रायोजित थी कार्यशाला

आम लोगों तक जानकारियों के प्रचार हेतु मीडिया का हो संतुलित और समुचित इस्तेमाल…

Read more

दीदी के मीडिया अवतार से भारी उम्मीद

लेकिन बाकी बंद चैनलों और अखबारों के कर्मचारियों का क्या ?

एक्सकैलिबर स्टीवेंस विश्वास​ / दीदी ने शारदा समूह के तारा समूह के दो टीवी चैनलों का तो अधिग्रहण क…

Read more

पत्रकार से घूस लेते हवलदार गिरफ्तार

विनय डेविड से गिरफ्तारी वारंट को लेकर लगातार रिश्वत की मांग कर रहा था हवलदार मूलचन्द्र द्विवेदी

अजय शर्मा /भोपाल।…

Read more

मीडिया का हाईवे

कहीं देखा है कि छोटा, मझला और बड़ा प्रेस लिखा हो ?

विकास कुमार गुप्तापत्रकार-सर हम ब्यूरो चीफ है। स्त्रैण आवाज में बोलते हुए ”सर हम आपकी पत्रिका से जुड़ना चाहते है।“ मैगजीन देखने के बाद और …

Read more

तारा मीडिया समूह के अधिग्रहण का फैसला

दीदी बनायेंगी कानून !

सरकारी अनुकंपा केवल शारदा समूह के चालू मीडिया के लिए !

एक्सकैलिबर स्टीवेंस विश्वास​ / तृणमूल कांग्रेस क…

Read more

हृदय द्वार पर दस्तक देतीं कविताएं

एम. अफसर खान / ‘फूल, तितलियां, सपने और सीख’ एम. एन. सिन्हा ‘मुकुल’ की पहली कविता संग्रह है।

कुल छत्तीस कविताओं का यह संग्रह सामाजिक, राजनैतिक, आर्थिक और पारिवारि…

Read more

सवाल अनुत्तरित रह गये

कार्यक्रम भड़ास का

मुकेश भारतीय / मेरा नई दिल्ली जाने का मकसद कोई पुरस्कार का लालसा नहीं था। भड़ास कार्यक्रम में शामिल होकर एक आम नागरिक(कथित पत्रकार) की रोजमर्रा की सच्चाई को रखना था। मीडिया-भ्रषटाचार-कॉरपोरेट पर कई दिग्गजों ने बहस की। जितने…

Read more

कुलदीप नैयर और एन राम को लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड

रेडइंक अवार्ड 2013 के तहत अन्य 20 पत्रकार भी होंगे सम्मानित

मुंबई। मुंबई प्रेस क्लब ताउम्र समर्पित पत्रकारिता के लिए प्रख्यात वरिष्ठ पत्रकार कुलदीप नैयर और एन राम को रेडइंक लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड से …

Read more

20 blog posts