मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

पत्रकारों की आपात बैठक सम्पन्न

September 21, 2014

झुंझुनू में पत्रकारों पर हमला के विरोध में 23 को झुंझुनू बंद का ऐलान
एसपी को सौंपा ज्ञापन
झुंझुनू। सूरजगढ़ के उप-चुनाव में हार से बोखलायें भाजपा प्रत्याशी डॉ. दिगम्बर सिंह के समर्थको ने मीडिया पर हमला कर उनके कैमरे तौड़ दिये। मारपीट कर कैमरे छिन लिये। इस से पूर्व छात्र संघ चुनाव के दौरान पत्रकारो को निशाना बनाया गया। पिछले महिने पीपली चौक में सडक़ हादसे की कवरेज के दौरान मीडिया के लोगो पर हमला किया गया। राज्य सरकार ने टोल टैक्स पर मीडिया के वाहनो की छूट दे रखी  है लेकिन टोल नाको पर बाहुबलियों, लठैतो द्वारा पत्रकारो के साथ अभद्र व्यवहार व मारपीट करते
है। उनको भाजपा विधायक का संरक्षण प्राप्त है। जब से प्रदेश में भाजपा सत्ता में आई है तब से झुंझुनू की मीडिया पर एक सोची समझी राजनीति के तहत लगातार हमले हो रहे है।

 प्राप्त खबरो के अनुसार इन बढ़ते हमलो के विरोध में गुरूवार को सूचना केन्द्र में पत्रकारो की आपात बैठक बुलाई गई जिसमें सर्वसम्मती से निर्णय हुआ है कि विरोध स्वरूप 23 सितम्बर मंगलवार को झुंझुनू बंद का ऐलान करने का निर्णय पत्रकारो ने लिया है। मेडिकल स्टोर को बंद के दौरान छूट दी गई है। बंद को सफल बनाने के लिए पत्रकारो की एक टीम ने शहर के विभिन्न सामाजिक संगठनो, व्यापारिक संगठनो के प्रतिनिधियो, टैक्सी यूनीयन, झुंझुनू बार एसोसियेशन, छात्र संघ के नेताओ, निजी शिक्षण संस्थाओ के संचालको सहित विभिन्न सामाजिक संगठनो ने बंद में सहयोग करने व बंद को सफल बनाने का समर्थन दिया है वहीं मीडिया पर बढ़ते हमलो की कड़े शब्दो में निंदा की गई है।

 गौरतबल है कि सत्ता के नशे में चूर कुछ नेताओ की सोची समझी चाल के तहत पत्रकारो पर गत 6 महिनो से हमले हो रहे है। ज्ञात रहे कि मीडिया के वरिष्ठ पत्रकारो को निशाना बनाया जा रहा है जिसके विरोध के चलते पत्रकारो को जनता की अदालत मे मजबूर होकर सडक़ो पर उतरना पड़ रहा है। बाद में पत्रकारो के प्रतिनिधि मण्डल द्वारा पुलिस अधीक्षक  को ज्ञापन सौँपकर उक्त मामलो में लिप्त दोषियो के खिलाफ कार्यवाही की मांग की गई है।

Go Back

Comment