मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

यूनिसेफ की ओर से न्यूमोनिया पीसीवी पर मीडिया कार्यशाला

July 17, 2017

मीडिया के द्वारा जागरूक कर इस बीमारी को पराजित कर सकेंगे

साक़िब ज़िया/ पटना/ बच्चों को न्यूमोनिया के दुष्प्रभाव से बचाने के लिए पीसीवी वैक्सीन के लिए बिहार के 17 जिलों को पहले चरण में नियमित टीकाकरण के लिए शामिल किया गया है। इसके लिए यूनिसेफ द्वारा पटना के होटल पाटलिपुत्र अशोक में मीडिया कार्यशाला का आयोजन किया गया, जिसका उद्देश्य जन-जन तक इससे जुड़ी जानकारियों का निर्वहन करना व आम लोगों में न्यूमोनिया के विषय और पीसीवी वैक्सीन के बारे में जागरूकता फैलाना बताया गया।

कार्यक्रम में मौजूद कई वरिष्ठ चिकित्सकों ने पीसीवी वैक्सीन के बारे में विस्तृत जानकारी दी, जहाँ सेक्रेटरी इंडियन एकेडमी ऑफ पेडियाट्रिशन्स (आईएपी) बिहार के  डॉ. एन. के. अग्रवाल ने ये भी कहा कि हम सभी भाग्यशाली हैं कि इस टीका का राष्ट्रीयकरण हुआ है। इसमें दोनों ही सरकारों का काफी योगदान रहा। अब ज़रुररतमंदों को ये मुफ्त में मुहैया करवाया जायेगा। न्युमोनिया के बारे में उन्होंने कहा ये वायरस, फंगस, और केमिकल के कारण होने वाली बीमारी है और ये पूर्ण रूप से ख़त्म की जा सकने वाली बीमारी है। इसमें ज़रूरत है सिर्फ सही प्रोटेक्शन और ट्रीटमेंट की। वही यूनिसेफ के सवास्थ्य विशेषज्ञ डॉ. सैयद हूबे अली ने कहा कि 5 साल के अन्दर के 15% बच्चों की मौत का ज़िम्मेदार है न्यूमोनिया। इसमें जितनी भी मौतें होती हैं उनमें से 80%  2 वर्ष की आयु के अन्दर हो जाती है। 2000 के आंकड़ों के अनुसार इससे 4 लाख मौते हुईं थीं जो अब घट कर मात्र 1 लाख हो गयी है। पीसीवी से इसमें 15% तक मृत्यु दर को रोका जा सकता है।

वही यूनिसेफ की संचार विशेषज्ञ निपुर्ण गुप्ता ने कार्यशाला के उद्देश्य के बारे में विस्तार से बताते हुए कहा कि आज की तारीख भी कुछ खास है 17/717 अर्थात एक सात सात एक सात मतलब हम सबको साथ साथ एक साथ मिलकर इस बिमारी पर विजय हासिल करनी होगी और आज 17 तारीख़ को हम बिहार के 17 जिलों में इसकी शुरुआत करने जा रहे हैं। उन्होंने इसमे मीडिया की विशेष भूमिका बताते हुए कहा कि लोगों को मीडिया के द्वारा जागरूक कर इस बीमारी को हम सब मिलकर पराजित कर सकेंगे। वहीँ वरिष्ठ पत्रकार आरती धर ने कहा कि इस तरह की स्वास्थ योजनाओं को सफल बनाने में मीडिया से ताल-बिठाना आवश्यक है। सरकार और मीडिया के आपसी सामंजस्य से योजना को ज़मीनी तौर पर सफल बनाया जा सकता है।

इस कार्यक्रम के दौरान कई गणमान्य लोग जिसमें वरिष्ठ पत्रकार आरती धर, वरिष्ठ चिकित्सक डॉ उज्जवल सिंह ,डॉ एन के सिन्हा, डॉ सैयद हुबे अली व अन्य उपस्थित रहे। वहीँ प्रेसवार्ता के दौरान कॉलेज ऑफ कॉमर्स आर्ट एंड साइंस, पटना एवं दक्षिण केंद्रीय विश्वविद्यालय, बोध गया के  पत्रकारिता एवं जनसंचार के विद्यार्थियों ने वरिष्ठ चिकित्सकों से न्यूमोनिया के बारे में कई सवाल किये। विद्यार्थियों से आये सवालों का बखूबी जवाब देते हुए चिकित्सकों ने उनकें सवालों को काफी सराहा और सभी जर्नलिज्म स्टूडेंट्स को उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं दी। इस प्रेस वार्ता में कॉलेज ऑफ़ कॉमर्स आर्ट्स एंड साइंस के बैचलर इन जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन के फाइनल ईयर के छात्र रवि रंजन ,बीना कुमारी सिंह, अमरीन हुसैन, दीपक कुमार, नेहा सिंह विवेक कुमार ,विकास कुमार आदि छात्र छात्राएं और  कई गणमान्य लोग उपस्थित थे.

Go Back

Comment