मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

शोधकर्ताओं व छात्रों के लिए भी एक निर्दिष्‍ट पुस्‍तक है इंडिया/भारत 2018: स्‍मृति इरानी

केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण तथा कपड़ा मंत्री ने वार्षिक संदर्भ इंडिया/भारत 2018 का किया विमोचन

दिल्ली/ केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण तथा कपड़ा मंत्री श्रीमती स्‍मृति जुबिन इरानी ने कहा है कि इंडिया/भारत 2018 सरकार की सभी युगांतकारी योजनाओं की एक व्‍यापक नियम पुस्तिका है। मंत्री महोदया ने कल वार्षिक संदर्भ इंडिया/भारत 2018 के विमोचन के दौरान उक्‍त उदगार व्‍यक्‍त किए।  

इस अवसर पर श्रीमती स्‍मृति जुबिन इरानी ने कहा कि इंडिया/भारत 2018 का ऑनलाइन संस्‍करण शोधकर्ताओं एवं ऐसे छात्रों की सहायता करेगा जो अक्‍सर इंटरनेट पर सूचनाओं की तलाश करते हैं। उन्‍होंने कहा कि केवल प्रशासन का अध्‍ययन करने वालों के लिए ही नहीं, बल्कि शोधकर्ताओं एवं छात्र समुदाय के लिए भी एक निर्दिष्‍ट पुस्‍तक होगी। उन्‍होंने यह भी उम्‍मीद जताई कि व्‍यापक स्‍तर पर आम जनता को लाभ पहुंचाने के लिए अगले साल से सभी भाषाओं में इस पुस्‍तक का प्रकाशन किया जाएगा।

पृष्‍ठभूमि : संदर्भ वार्षिक पुस्तिकाएं इंडिया 2018 एवं भारत 2018 प्रकाशन प्रभाग द्वारा प्रकाशित किए जाने वाले प्रमुख ग्रंथ हैं। पिछले कुछ वर्षों से उन्‍हें भारत सरकार के मंत्रालयों एवं विभागों की नीतियों/ कार्यक्रमों तथ कार्यकलापों पर सूचना का प्रमाणिक एवं व्‍यापक स्रोत माना गया है। न्‍यू मीडिया विंग, इंडिया 2018 द्वारा संकलित सामग्रियों पर आधारित प्रकाशन विभाग का यह सम्‍मानित अंक अपने प्रकाशन के 62वें वर्ष में प्रवेश कर चुका है।

इंडिया 2018, वार्षिक संदर्भ एक व्‍यापक प्रकाशन है जो ग्रामीण से शहरी, उद्योग से अवसंरचना, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी से मानव संसाधन विकास, कला एवं संस्‍कृति, नीति, अर्थशास्‍त्र, स्‍वास्‍थ्‍य, रक्षा, शिक्षा एवं जनसंचार तक देश के सभी पहलुओं से संबंधित है। यह सरकार के प्रमुख कार्यक्रमों, वर्ष की महत्‍वपूर्ण घटनाओं एवं महत्‍वपूर्ण संख्‍याओं के साथ भारतीय राज्‍यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों के तथ्‍यों की एक झलक भी प्रस्‍तुत करती है।

दोनों वार्षिक संदर्भ सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाले ई-पीयूबी फॉर्मेट में ई-बुक के रूप में भी उपलब्‍ध हैं और टैबलेट, कंप्‍यूटर, ई-रीडर्स एवं स्‍मार्ट फोन जैसे कई उपकरणों के जरिये उनकी सुविधा प्राप्‍त की जा सकती है। (PIB)

Go Back

Comment