मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

सवाल- जबाव और खबर !

October 28, 2013

न्यूजरूम के सम्पादक और हुंकार रैली में पत्रकार की बातचीत
इर्शादुल हक / न्यूजरूम-  हेल..रैलीस्थल पर विस्फोट हुआ. किसी ने जिम्मेदारी ली?
पत्रकार-  न किसी ने नहीं ली
न्यूजरूम-  क्या लगता है, यह विस्फोट किसने कराया होगा?
पत्रकार- देखने से तो कुछ नहीं पता चलता. पर यह स्थानीय हुंडदंगियों की करतूत लगती है
न्यूजरूम- अरे यार ऐसे थोड़े होगा. पुलिस वालों से पूछो.
पत्रकार- ओके
न्यूजरूम- देखो उनसे यह सवाल जरूर करना कि इसमें इंडियम मुजाहिदीन का हाथ तो नहीं.
पत्रकार- जी जरूर ये सवाल पूछूंगा.
सिन दो...
पत्रकार (पुलिस अधिकारी से)- विस्फोट किसन कराया है?
पुलिस अधिकारी- भई इतनी जल्दी इस पर क्या कह सकते हैं हम.
पत्रकार- फिर भी आपको क्या लगता है? किस पर शक है?
पुलिस अधकारी- कुछ घंटे हुए हैं. इतना जल्दी किसी पर कैसे शक किया जाये.
पत्रकार- संभव है कि इसमें आतंकवादी संगठनों का हाथ हो?
पुलिस अधिकारी- हो सकता है हो. पर अभी कैसे कुछ कह सकते हैं.
पत्रकार- क्या इंडियन मुजाहिदीन का हाथ है इसके पीछे
पुलिस अधिकारी- देखिए.. कुछ भी हो सकता है. पर अभी कैसे बोलें.
पत्रकार- इंडियन मुजाहदीन का हाथ होने से आप इनकार करते हैं.
पुलिस अधिकारी- हम इनकार नहीं कर सकते लेकिन अभी यह कहना जल्दबाजी होगी
पत्रकार- थैंक्स
सिन तीन...
टीवी की खबर -
ब्रेकिंग न्यूज.. पटना सीरियल ब्लास्ट में इंडियन मुजाहिदीन का हाथ होने से पुलिस का इनकार नहीं
इंडिया मीडिया चैनल को सूत्रों से जानकारी मिली है कि इंडियन मुजाहिदीन का इस विस्फोट में हाथ होने की गंभीरता से जांच की जा रही है... विशेषज्ञों का कहना है कि विस्फोट के जिस मॉड्यूल का इस्तेमाल हुआ है वह इंडियन मुजाहिदीन से मेल खाते हैं........

(शर्म भी तुम पे शर्म करे बिकाऊ मीडिया)

साभार Irshadul Haque 

Go Back

Comment