मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

जाने माने पत्रकार खुशवंत सिंह नहीं रहे

नयी दिल्ली। जाने माने पत्रकार, लेखक खुशवंत सिंह का आज यहां निधन हो गया। वह 99 वर्ष के थे। श्री सिंह पिछले कुछ वर्षों से बीमार चल रहे थे। उन्होंने दोपहर 12 बजकर 55 मिनट पर नई दिल्ली के सुजान सिंह पार्क स्थित निवास मे अंतिम सांस ली। उनका अंतिम संस्कार चार बजे शाम लोधी शवदागृह में होगा।  उनका जन्म दो फरवरी 1915 को पंजाब में हुआ था।

उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और सूचना एवं प्रसारण मंत्री ने खुशवंत सिंह के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया है।

उन्होंने अपने अंतिम दिनों तक लेखन नहीं छोड़ा था। कई अखबारों में उनके कॉलम लगातार छप रहे थे। खुशवंत को दिल्ली के जानकारों के तौर पर भी जाना जाता है। वे उन लोगों में से थे जिन्हें भारत के साथ साथ पाकिस्तान में भी लोग बेहद सम्मान देते थे।

उन्हें धर्म निरपेक्षता के समर्थक और हास्य व्यग्ंय तथा कविता के प्रति गहरी रूचि रखने वाले साहित्यकार के रूप में जाना जाता था। श्री सिंह ने अपने शानदार कैरियर की शुरूआत 1951 में आकाशवाणी में एक पत्रकार कें रूप मे की। वे 1951 से 1953 तक योजना पत्रिका के संस्थापक सम्पादक रहे। उन्होंने कई साहित्यिक और समाचार पत्रिकाओं तथा दो अखबारों का संपादन किया। उन्होंने इलस्ट्रेटेड वीकली ऑफ इंडिया, नेशनल हेराल्ड और हिन्दुस्तान टाइम्स में भी काम किया। 

श्री सिंह 1980 से 1986 तक राज्यसभा के सदस्य रहे। उन्हें 1974 में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। 2007 में उन्हें पदमविभूषण से सम्मानित किया गया था।

 

Go Back

Comment